मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> भारी बारिश से मप्र की कई नदियां उफान पर

भारी बारिश से मप्र की कई नदियां उफान पर

भोपाल 25 जुलाई 2018 । मध्य प्रदेश के कई इलाकों में भारी बारिश के चलते कई नदियां उफान पर हैं। श्योपुर में सीप नदी के उफान में 5 ग्रामीण फंस गए थे जिन्हें सुरक्षित निकाल लिया गया है। वहीं पार्वती नदी खतरे के निशान के ऊपर बह रही है। जबलपुर में नर्मदा नदी का जलस्तर बढ़ने से बरगी बांध के 7 गेट खोलने पड़े। शिवपुरी जिले में तेज बारिश के चलते कोलारस के पचावली गांव में सिंध नदी उफान पर है।

मवेशी चरा रहे थे पांचों लोग

श्योपुर जिले के बालापुरा गांव में सीप नदी के बीच मवेशी चरा रहे देवीराम (60) पुत्र नाथूलाल बैरवा, रामघड़ी (11) पुत्री घनश्याम बैरवा, बाबू (50) पुत्र मदन आदिवासी, रामा (48) पुत्र गुलाब आदिवासी और कमलेश (35) पुत्र इंद्र आदिवासी अचानक जलस्तर बढ़ने नदी के बीच में फंस गए। देवीराम और रामघड़ी बैरवा एक टापू पर तो दूसरे टापू पर बाबू, रामा व कमलेश आदिवासी फंसे हुए थे। दोपहर 1 बजे से इन्हें बचाने के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू हुआ। ग्रामीणों की मदद से शाम तक पांचों को निकाल लिया गया।

राजस्थान के कोटा से श्योपुर का संपर्क टूटा

मालवा क्षेत्र में हो रही झमाझम बारिश के कारण श्योपुर में पार्वदी नदी में ऐसा उफान आया कि खातौली पुल पर 15 फीट से ज्यादा पानी हो गया। इससे राजस्थान के कोटा, बूंदी से संपर्क टूट गया।

बरगी बांध के 7 गेट खुलने से 9 जिलों में नर्मदा तटों पर अलर्ट

जबलपुर में बरगी बांध के जलभराव क्षेत्र में लगातार बारिश के चलते मंगलवार शाम 21 में से सात गेटों को खोल दिया गया। बांध का जलस्तर 418 मीटर तक पहुंच गया है। गेट खोले जाने के बाद नर्मदा नदी का जलस्तर भी बढ़ा। इसके चलते जबलपुर सहित नदी तट से लगे 9 जिलों में अलर्ट जारी कर दिया गया है।

महज 24 घंटे की बारिश में ही लबालब

नर्मदा पर बना पहला डैम बरगी कैचमेंट एरिया में महज 24 घंटे की बारिश में ही लबालब हो गया। डैम में तेजी से आ रहे पानी को नियंत्रित करने के लिए मंगलवार की शाम 4 बजे 21 में से 7 गेट (8 से 14) आधा मीटर तक खोल दिए गए। इन सातों गेटों से हर घंटे 25 लाख 20 हजार क्यूमेक (क्यूबिक मीटर पर सेकंड) पानी छोड़ा जा रहा है। डैम के निर्माण के बाद से अब तक वर्ष 2008, 09 और 2015 व 17 में बारिश कम होने के कारण बरगी का एक भी गेट नहीं खोला गया। वहीं, वर्ष 2007 और 2011 में डैम के सभी 21 गेट खोले गए थे। इसके बाद से अब तक ऐसी नौबत नहीं आई।

इन नौ जिलों को जारी किया गया अलर्ट

डैम के गेट खुलने के बाद नौ जिलों के निचले इलाकों में बाढ़ की स्थिति बन सकती है। इसको देखते हुए जबलपुर, नरसिंहपुर, सिवनी, होशंगाबाद, रायसेन, देवास, सीहोर, खंडवा और खरगोन जिलों में अलर्ट किया गया है।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

फतह मुबारक हो मुसलमानो, भारत के खिलाफ जीत इस्लाम की जीत…जश्न मनाने के बदले जहर उगलने लगा पाक

नई दिल्ली 25 अक्टूबर 2021 । खराब बल्लेबाजी और खराब गेंदबाजी की वजह से टीम …