मुख्य पृष्ठ >> Uncategorized >> लंबे सफर में कहीं मदद मिली तो कहीं दुत्कार

लंबे सफर में कहीं मदद मिली तो कहीं दुत्कार

नई दिल्ली 15 मई 2020 । लांक उडान के चलते देश के अलग-अलग शहरों में बड़ी संख्या में मजदूर फंसे हुए हैं ।मजदूर अपने घर वापस लौट रहे हैं जिसमें उन्हें कई दिक्कतों का उन्हें सामना करना पड़ रहा है । कई जगह इन्हें पुलिस की बर्बरता का भी सामना करना पड़ रहा है । खाना-पीना भी मुश्किल मिल रहा है ।
पहले फैक्ट्री और अब निर्माण कार्य बंद होने से बेरोजगार हो गए हैं । जो मजदूर जैसे तैसे घर पहुंच भी गए वह 2 व्यक्ति की रोटी के लिए संघर्ष कर रहे हैं ।कुल मिलाकर मजदूरों के लिए कोरोना संकटकाल सबसे बड़ी मुसीबत लेकर आया है। सरकार ट्रेन के माध्यम से उन्हें घर पहुंचाने का दावा कर रही है। किंतु हकीकत याह है कि आज भी मजदूर को पैदल चलकर अपने घर जाना पड़ रहा है।
सुसनेर के उज्जैन झालावाड़ राज्य मार्ग पर प्रतिदिन इस तरह से पैदल चलकर आने वाले मजदूर आ रहे हैं । अगर मजदूर तेज धूप में किसी वाहन में बैठ जाए तो पुलिस उन्हें रोक लेती है जैसे उन्होंने वाहन में बैठकर कोई बड़ा अपराध कर लिया हो । ऐसे ही कुछ मजदूरों का हाल हमारे संवाददाता ने जाना सेंधवा से मजदूरी का काम करते करते काम बंद हुआ तो जमा पूंजी खत्म हो गई पैदल चलकर इंदौर पहुंचे तो शहर के अंदर जाने नहीं दिया उज्जैन पहुंचे तो जांच तक नहीं करवाने दी।
यहां व्यथा शाहपुर तहसील जिला जयपुर राजस्थान के रहने वाले मजदूर हजारीलाल ,रामस्वरूप, मोहन , , ललचंद की है। 9 दिन पूर्व पैदल अपने गांव के लिए निकले इन मजदूरों ने बताया कि रास्ते में पानी पीने के लिए मांगते तो दुत्कार निकलती किसी ढाबे में रात्रि में रुकने के नहीं दिया जाता 2 दिन पूर्व सुसनेर पहुंचने पर आज बाहर निकले हैं ।
रात रात भर सो नहीं पाए सुसनेर आकर उन्होंने दो समय का खाना खाया तथा नींद निकाली है । गुजरात राज्य के राजकोट में मजदूरों के लिए झालावाड़ निवासी गिरिराज एवं कन्या बाई दो बच्चों को लेकर जैसे तैसे सुसनेर पहुंचे । मजदूरों ने बताया कि गुजरात बॉर्डर तक वाहन मिल गया इसके बाद पैदल चलकर जावरा पहुंचे यहां से सुसनेर पहुंचे हैं ।
मजदूर बताते हैं कि सुसनेर अगर उन्हें ऐसा लगा कि वे अब घर सही सलामत पहुंच जाएंगे। सुसनेर में प्रतिदिन उत्तर प्रदेश राजस्थान गुजरात आदि स्थानों के मजदूर पहुंच रहे हैं इन मजदूरों को प्रशासन व्यवस्था कर घर पहुंचा रहा है।

महाराष्ट्र के बाद MP और UP में दो सड़क हादसे, 14 मजदूरों की मोत…

कोरोना वायरस की वजह से देशभर में जारी लॉकडाउन के चलते पलायन कर रहे मजदूरों के साथ हर रोज कई हादसे हो रहे हैं. अब हाल ही में तीन प्रदेशो में बड़े हादसे सामने आए हैं. मध्य प्रदेश के गुना में बुधवार देर रात 60 से अधिक मजदूरों की बस हादसे का शिकार हो गई. इस हादसे में 8 मजदूरों की मौत हो गई है. वहीं, उत्तर प्रदेश में बस ने मजदूरों को कुचल दिया, जिसमें 6 की मौत हो गई है. ऐसे ही हादसे में बिहार में भी दो मजदूरों की मौत हुई है.

पुलिस के अनुसार, बुधवार देर रात गुना के कैंट थाना क्षेत्र में मजदूरों की बस और एक ट्रक में जोरदार भिडंत हो गई. जिसके चलते मौके पर ही आठ मजदूरों की मौत हो गई. जबकि करीब 50 से भी ज्यादा मजदूर घायल हुए. घायलों का स्थानीय जिला अस्पताल में इलाज चल रहा है. यह सभी मजदूर महाराष्ट्र से उत्तर प्रदेश जा रहे थे.

मुजफ्फरनगर में भी हुआ हादसा-
वहीं उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में एक रोडवेज बस ने मजदूरों को कुचल दिया। जानकारी के अनुसार, बुधवार देर रात हुई इस घटना में करीब छह मजदूरों की मौत पर ही मौत हो गई. जबकि दो गंभीर रूप से घायल बताए जा रहे हैं.

बिहार में हादसा, यहां भी गई दो मजदूरों की जान-
दूसरी ओर बिहार के समस्तीपुर जिले के उजियारपुर थाना क्षेत्र के शंकरपुर चौक के पास बस और ट्रक की टक्कर हो गई. जानकारी के अनुसार इस हादसे में दो मजदूरों की मौत गई. जबकि पांच गंभीर रूप से घायल हो गए हैं. बताया जा रहा है कि यह सभी मजदूर मुजफ्फरपुर से कटिहार की ओर जा रहे थे. ये लोग मुंबई से अपने घरों को लौट रहे थे.

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

देश में 24 घंटे में कोरोना वायरस के 3,37,704 नये मामले, 488 मरीजों की मौत

नयी दिल्ली 22 जनवरी 2022 । देश में कोरोना वायरस संक्रमण के 3,37,704 नये मामले …