मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> लोक सभा 2019 में एनडीए को लगेगा 83 सीटों का झटका, यूपीए को होगा 88 सीटों का फायदा

लोक सभा 2019 में एनडीए को लगेगा 83 सीटों का झटका, यूपीए को होगा 88 सीटों का फायदा

नई दिल्ली 11 फरवरी 2019 । लोक सभा चुनाव 2019 से पहले एक टीवी चैनल द्वारा करवाए गये ताजा सर्वे में दावा किया गया है कि नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में एनडीए सरकार बनाने के लिए जरूरी बहुमत नहीं जुटा पाएगा। Times Now-VMR के सर्वे के अनुसार एनडीए को पीएम मोदी के नेतृत्व में 252 सीटों पर जीत मिलेगी। सरकार बनाने के लिए किसी भी दल या राजनीतिक गठबंधन को 272 सीटों की जरूरत होती है।

इस सर्वे के अनुसार कांग्रेस नीत यूपीए को कुल 147 सीटों पर जीत मिल सकती है। एनडीए और यूपीए दोनों बड़े गठबंधनों से बाहर के दलों को कुल 144 सीटों पर जीत मिलेगी। देश में कुल 543 संसदीय सीटों के लिए चुनाव होते हैं।

नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में बीजेपी ने 2014 के लोकसभा चुनाव में अकेले दम पर 282 सीटें जीती थीं। पिछले आम चुनाव में एनडीए को 335 सीटों पर जीत मिली थी। वहीं यूपीए को 59 सीटों पर जीत मिली थी। कांग्रेस को अकेले दम पर 44 सीटों पर जीत मिली थी। पिछले 70 सालों के इतिहास में कांग्रेस का यह सबसे ख़राब प्रदर्शन था।

Times Now-VMR ऑपिनियन पोल के अनुसार एनडीए के वोट शेयर में कटौती देखी जा रही है। वहीं यूपीए के वोट शेयर में 4.1% की बढ़ोतरी देखने को मिल सकती है।

Times Now-VMR ऑपिनियन पोल के राज्यवार नतीजे
Times Now-VMR ऑपिनियन पोल के सर्वे के अनुसार उत्तर प्रदेश की कुल 80 लोक सभा सीटों में से 73 सीटों पर पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में बीजेपी नीत एनडीओ को जीत हासिल होगी। जबकि यूपी में समाजवादी पार्टी-बहुजन समाजवादी पार्टी 51 सीटें मिल सकती हैं। वहीं, कांग्रेस को इस बार भी बीते लोकसभा चुनाव की तरह 2 सीटें ही मिलती दिख रही है।

इस सर्वे के अनुसार बिहार की कुल 40 सीटों में से एनडीए को 25 सीटें मिल सकती हैं । बिहार में नीतीश कुमार की जेडीयू एनडीए का हिस्सा है।

Times Now-VMR ऑपिनियन पोल के अनुसार उत्तराखंड की कुल 29 सीटों में से यूपीए को 6 सीटें मिल सकती हैं। जबकि छत्तीसगढ़ में दोनों पार्टियों में कड़ा मुकाबला देखने को मिल सकता है। यहां सर्वे के मुताबिक एनडीए को 5 और यूपीए को 6 सीटें मिल सकती हैं।

हाल ही में राज्य में हुए विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने को अपनी सत्ता गंवानी पड़ी है।ऐसे में यहां लोकसभा चुनाव के लिए बीजेपी ने ऐड़ी चोटी का जोर लगा रही है।सर्वे के मुताबिक इस बार के चुनाव में बीजेपी को 25 में से 17 सीटें मिल सकती हैं। वहीं यूपीए को 8 सीटें ही मिलती दिख रही हैं।

Times Now-VMR सर्वे: लोक सभा 2019 में एनडीए को लगेगा 83 सीटों का झटका, यूपीए को होगा 88 सीटों का फायदा
सर्वे के अनुसार गुजरात में अभी मोदी मैजिक जारी है। गुजरात की कुल 26 सीटों में से एनडीए को 24 सीटें मिल सकती हैं। वहीं कांग्रेस को इस बार 2 सीटें मिलती दिख रही है। गौरतलब है कि बीते लोकसभा चुनाव में यहां कांग्रेस अपना खाता भी नहीं खोल पाई थी।

Times Now-VMR ऑपिनियन पोल के अनुसार महाराष्ट्र की कुल 48 लोक सभा सीटों में से कांग्रेस नीत यूपीए को 5 सीटों पर जीत हासिल होगी। वहीं एनडीए को महाराष्ट्र में कुल 43 सीटों पर जीत हासिल होगी। वहीं गोवा में दोनों पार्टियों के बीच में बराबरी हो सकती है। यहां एनडीए और यूपीए दोनों को 1-1 सीट मिल सकती है।

Times Now-VMR ऑपिनियन पोल के अनुसार पश्चिम बंगाल में कुल 42 सीटें हैं, जिसमें ममता बनर्जी को सबसे ज्यादा 32 सीटें मिल सकती हैं। वहीं, एनडीए को 9 और यूपीए को 1 सीट मिल सकती हैं।जबकि लेफ्ट का पूरी तरह से सूपड़ा साफ हो सकता है।

सर्वे के अनुसार ओडिशा की कुल 21 सीटों में से एनडीए को 21 सीटों पर जीत मिलेगी। राज्य में सत्ताधारी नवीन पटनायक की बीजू जनता दल (बीजद) को कुल 8 सीटों पर जीत मिलेगी। असम की कुल 14 सीटें हैं। यहां एनडीए को सबसे ज्यादा 8 सीटें और यूपीए को 3 सीटें मिल सकती हैं।जबकि एआईयूडीएफ को 2 और अन्य को 1 सीट मिल सकती है।

ऑपिनियन पोल के मुताबिक तमिलनाडु की 39 सीटों में यूपीए (डीएमके +कांग्रेस) को 35 सीटें मिल सकती हैं। जबकि यहां एनडीए का खाता भी नहीं खुलेगा वहीं एआईडीएमके को 4 सीटें मिल सकती हैं।

Times Now-VMR पोल के मुताबिक केरल में एनडीए को 1 सीट तो कांग्रेस, यूडीएफ के गठबंधन को 16 सीटें मिल सकती हैं जबकि एलडीएफ को 3 सीटें मिल सकती हैं। उधर, आंध्र प्रदेश में यूपीए और एनडीए का खाता भी नहीं खुलेगा। प्रदेश में वाईआरएससीपी को 23 तो टीडीपी को दो सीटें मिल सकती हैं।

इसके अलावा तेलंगाना की कुल 17 सीटों में से टीआरएस को 10 सीटें मिल सकती हैं, जबकि यूपीए को 5 और एनडीए को मात्र 1 सीट मिलने का अनुमान लगाया गया है। वहीं, एक सीट अन्य के खाते में जा सकती है।

इसके अलावा कर्नाटक कांटे की टक्कर देखने को मिल सकती है। यहां कुल 28 सीटें हैं, जिसमें से यूपीए को 14 तो एनडीए को भी 14 सीटें मिल सकती हैं। वहीं, बीएसपी और अन्य का खाता भी नहीं खुलेगा।

लोक सभा चुनाव 2014 में बीजेपी के पार्टनरों की स्थिति
आपको बता दें कि साल 2014 के लोक सभा चुनाव में एनडीए के सदस्य दल शिरोमणी अकाली दल (बादल) 18 लोक सभा सीटें जीतकर दूसरा सबसे बड़ा दल बना था। एनडीए के साझीदार शिव सेना ने भी पिछले आम चुनाव में 18 लोक सभा सीटों पर जीत हासिल की थी। पिछले आम चुनाव में चंद्रबाबू नायडू टीडीपी ने एनडीए के साझीदार के रूप में चुनाव लड़ा था और 16 सीटों पर जीत हासिल की थी। पिछले लोक सभा चुनाव में उपेंद्र कुशवाहा की आरएलएसपी ने तीन लोक सभा सीटो पर जीत हासिल की थी।

बेटे का नाम लेने पर चंद्रबाबू नायडू ने किया पीएम मोदी पर पलटवार, कहा- ‘आपने तो अपनी पत्नी को छोड़ दिया’

गुंटूर में एक रैली में उन्हें ‘‘लोकेश का पिता’’ कह कर संबोधित किए जाने पर पलटवार करते हुए कहा है कि आप मोदी ने तो अपनी पत्नी को छोड़ दिया है। लेकिन, वह अपने परिवार से प्यार करते हैं और उसका सम्मान करते हैं। नायडू ने पूछा, ‘‘क्या परिवार नाम की व्यवस्था के प्रति आपके मन में कोई सम्मान है?’’

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री का ना तो कोई परिवार है, और ना ही कोई बेटा। नायडू ने विजयवाड़ा में एक जनसभा में कहा, ‘‘चूंकि आपने मेरे बेटे का जिक्र किया है, इसलिए मैं आपकी पत्नी का जिक्र कर रहा हूं। लोगों, क्या आप जानते हैं कि नरेंद्र मोदी की एक पत्नी भी हैं? उनका नाम जशोदाबेन है।’’ मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री मोदी पर अपना हमला जारी रखते हुए उन पर देश और सभी संस्थाओं को बर्बाद करने का आरोप लगाया।

नायडू ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री एक चायवाला होने का दावा करते हें लेकिन उनका सूट-बूट देखिए…।’’ आठ नवंबर 2016 को नोटबंदी की घोषणा होने के बाद शुरूआत में उसका स्वागत करने वाले नायडू ने अब इसे तुगलकी फैसला करार दिया है। उन्होंने कहा, ‘‘उन्होंने मोदी ने 1,000 रूपये के नोट चलन से बाहर कर दिए लेकिन 2000 रूपये के नोट ले आए। इससे भ्रष्टाचार कैसे खत्म होगा।’’

TDP ने आंध्र प्रदेश के बंटवारे के बाद राज्य के साथ हुए अन्याय का विरोध करते हुए पिछले साल मार्च में राजग छोड़ दिया था। नायडू ने आरोप लगाया कि विपक्षी वाईएसआर कांग्रेस ने प्रधानमंत्री की गुंटूर रैली के लिए भीड़ जुटाई थी क्योंकि राज्य में भाजपा का जनसमर्थन पूरी तरह से खत्म हो गया है।

नायडू ने बाद में पार्टी नेताओं से कहा, ‘‘ यह एक बार फिर से तय हो गया है कि तेलुगू लोग उन्हें सबक सिखाएंगे, जिन्होंने उनके साथ विश्वासघात किया है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘हमने जो वापस जाओ का नारा लगाया उसमें आपसे गुजरात स्थित अपने गांव वापस जाने को कहा, क्योंकि आप प्रधानमंत्री होने के योग्य नहीं है।’’

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

अभ्यास के दौरान गन का बैरल फटा, BSF जवान शहीद, 2 घायल

नई दिल्ली 4 मार्च 2021 । भारत-पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय सीमा पर स्थित जैसलमेर जिले में कल …