मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> पिछले 24 घंटे में कोरोना के 1823 नए केस रिपोर्ट हुए और 67 लोगों की मौत हुई।

पिछले 24 घंटे में कोरोना के 1823 नए केस रिपोर्ट हुए और 67 लोगों की मौत हुई।

नई दिल्ली 1 मई 2020 । देश में पिछले 24 घंटे में 630 लोग ठीक हो गए हैं। अभी टोटल रिकवरी रेट 25.18 प्रतिशत है। इसमें लगातार बढ़ोतरी हो रही है। यह पॉजिटिव साइन हैः स्वास्थ्य मंत्रालय
78 प्रतिशत मौतों में ऐसे केस रहे हैं जिन्हें और भी कई बीमारियां थीं। देश का डबलिंग रेट बढ़कर 11 दिन हो गया हैः स्वास्थ्य मंत्रालय
तमिनलाडु में आज कोरोना के 161 नए मरीज रिपोर्ट हुए जिनमें से 138 चेन्नै से हैं। राज्य में कुल संख्या 2323 हो गई है।
लॉकडाउन से प्रभावित 8 वर्ग के लोगों के लिए जम्मू-कश्मीर सरकार ने 350 करोड़ के राहत पैकेज को मंजूरी दी है। निर्माण से जुड़े मजदूरों को 1 हजार रुपये तीन महीने तक दिए जाएंगे
पुणे जॉइंट कमिश्नर ने 23 हॉटस्पॉट में अस्पताल और मेडिकल स्टोर छोड़कर सभी दुकानें बंद करने का आदेश दिया है। दूध की दुकानें सुबह 10 बजे से दोपहर 12 बजे तक खुल सकेंगी
कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में ‘आर या पार’ वाला महीना साबित हो सकता है मई : चिकित्सा विशेषज्ञ
महाराष्ट्र सरकार ने प्राइवेट अस्पतालों से कहा है कि मरीजों को स्टैंप लगाकर और आवश्यक निर्देश देकर होम क्वारंटीन के लिए भेजा जा सकता है
महाराष्ट्र सरकार ने जारी किया कंट्रोल रूम नंबर,आने या जाने वाले लोगों को लेनी होगी अनुमति,गंतव्य पर पहुंचने पर लोगों को देनी होगी सूचना
महाराष्ट्र के सियासी संकट पर देवेंद्र फड़नवीस ने कहा, BJP पीछे के दरवाजे से घुसकर राजनीति करने में कोई रुचि नहीं रखती
आज पीएम मोदी ने विदेशी और घरेलू निवेश बढ़ाकर अर्थव्यवस्था को गति देने के बारे में एक बैठक की। उन्होंने निवेशकों की परेशानियों को दूर करने का निर्देश दिया हैः PMO
दूसरे राज्यों के लोगों को भेजने के लिए दिल्ली सरकार और पुलिस मिलकर प्लान बना रही है। इसके लिए रजिस्टर करना होगा। अभी किसी तरह की अफवाह न फैलाएंः दिल्ली पुलिस
कर्नाटक के मुख्यमंत्री ने कहा है कि 4 मई से कन्टेनमेंट जोन को छोड़कर सभी जगहों पर औद्योगिक कार्यों को छूट दी जाएगी
लॉकडाउन छूट: तेलंगाना ने मंत्री ने केंद्र पर उठाया सवाल, कहा-2 करोड़ फंसे हुए हैं, बस से बेहतर विकल्प है ट्रेन
आज आपकी बारी है कल वक्त आने पर जनता देगी जवाब’, लालू यादव ने नीतीश पर साधा निशाना, लालू प्रसाद ने अब लॉकडाउन की वजह से बिहार के बाहर फंसे मजदूरों और छात्रों को लेकर हमला बोला है.
तबलीगी जमात की वजह से बढ़े कोरोना वायरस के केस, लड़ने में सक्षम है गुजरात: रुपाणी
बिहार में कोरोना के साथ चमकी बुखार, CM नीतीश कुमार ने दिए कई निर्देश, अबतक तीन बच्चों की मौत
एनसीपी प्रमुख पवार बोले- लॉकडाउन तीन मई को समाप्त होगा, अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाना होगा, घनी आबादी में मामला गंभीर
कामगारों से सीएम योगी की भावुक अपील- सब्र रखें, हम आपको घर पहुंचाएंगे
कोरोना संकट: रिलायंस कंपनी ने कर्मचारियों के वेतन में की 10 से 50 प्रतिशत तक कटौती, साथ ही नहीं दिया जाएगा सालाना बोनस
पंचतत्व में विलीन ऋषि कपूर का पार्थिव शरीर, चुनिंदा लोगों के बीच हुआ अभिनेता का अंतिम संस्कार
शेयर बाजार गुलजार, 33700 के ऊपर बंद हुआ सेंसेक्स, निफ्टी में भी जोरदार उछाल

प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी और म्यांमार की स्‍टेट काउंसलर दाव आंग सान सू की के बीच टेलीफोन पर हुई बातचीत

प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने 30 अप्रैल, 2020 को म्यांमार गणराज्य की स्‍टेट काउंसलर दाव आंग सान सू की के साथ टेलीफोन पर बातचीत की।

दोनों राजनेताओं ने घरेलू एवं क्षेत्रीय संदर्भों में उभरते कोविड-19 परिदृश्य पर चर्चा की और इस महामारी के फैलाव को नियंत्रित करने के लिए उठाए जा रहे कदमों पर एक-दूसरे को अपडेट किया।

भारत की ‘पड़ोसी पहले’ नीति के एक महत्वपूर्ण स्तंभ के रूप में म्यांमार के महत्व को रेखांकित करते हुए प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कोविड-19 के स्वास्थ्य और आर्थिक प्रभाव को कम करने हेतु म्यांमार को हरसंभव सहायता प्रदान करने के लिए भारत की तत्परता से अवगत कराया।

प्रधानमंत्री श्री मोदी ने भारत में मौजूद म्यांमार के नागरिकों को भारत सरकार द्वारा हरसंभव सहायता देने का आश्वासन दिया, और इसके साथ ही उन्‍होंने म्यांमार के अधिकारियों द्वारा म्यांमार में भारतीय नागरिकों को दिए जा रहे सहयोग के लिए स्टेट काउंसलर का धन्यवाद किया।

दोनों राजनेताओं ने कोविड-19 से उत्‍पन्‍न वर्तमान एवं भविष्य की चुनौतियों से निपटने के लिए पारस्‍परिक संपर्क बनाए रखने और साथ मिलकर काम करने पर सहमति व्यक्त की।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने रसोईयों के खातों में अंतरित किये मानदेय के 42 करोड़
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज मध्यान्ह भोजन कार्यक्रम के अंतर्गत प्रदेश के 2 लाख 10 हज़ार रसोइयों के बैंक खातों में उनके अप्रैल माह के मानदेय की राशि 42 करोड़ रुपए सिंगल क्लिक के माध्यम से मंत्रालय से अंतरित की। इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास श्री मनोज श्रीवास्तव, संचालक जनसंपर्क श्री ओ.पी. श्रीवास्तव उपस्थित थे।

हर माह भिजवा रहे हैं मानदेय की राशि

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मध्याहन भोजन योजना के रसोईयों से कहा कि कोरोना संकट के कारण बच्चों को पके हुए मध्यान्ह भोजन के स्थान पर पैसा एवं खाद्यान्न दिया जा रहा है। इसके कारण आपको रसोई नहीं पकानी पड़ रही है। इसके बावजूद सरकार को आपका पूरा ध्यान है तथा आपको हर माह 2 हज़ार रुपए मानदेय की राशि आपके बैंक खातों में भिजवाई जा रही है।

कोरोना के संबंध में लोगों को जागरूक करें

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे रसोइए भाई-बहन अपने गाँव एवं क्षेत्र में लोगों को कोरोना के संबंध में जागरूक करें। वे उन्हें बताएँ कि कोरोना को हराने के लिए सब लोग आपस में कम से कम 2 गज की दूरी रखें। सभी लोग मास्क लगाएँ। बार बार हाथ धोएँ, स्वच्छता का ध्यान रखें तथा कहीं भी भीड़ ना लगाएँ। जो मजदूर भाई-बहन बाहर के गाँव में आए हैं, वे अपने घरों में 14 दिनों तक सब सदस्यों से अलग रहें। थोड़ी-सी सावधानी से हम कोरोना से बच सकते हैं।

मुख्यमंत्री किसानों को ऑनलाइन भेजेंगे बीमा राशि के 2990 करोड़
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान एक मई को दोपहर 3 बजे किसानों को कुल 2990 करोड़ फसल बीमा राशि का ऑनलाइन भुगतान करेंगे। इससे प्रदेश के 14 लाख 93 हजार 171 किसान लाभान्वित होंगे।

किसान कल्याण एवं कृषि विकास मंत्री श्री कमल पटेल ने बताया कि 8 लाख 33 हजार 171 किसानों को खरीफ फसल की बीमा राशि के रूप में एक हजार 930 करोड़ रुपये प्रदान किये जा रहे हैं। इसी प्रकार, 14 लाख 93 हजार 171 किसानों को रबी फसल की बीमा राशि के रूप में एक हजार 60 करोड़ का भुगतान किया जायेगा।

मंत्री श्री पटेल ने बताया कि मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सरकार बनते ही फसल बीमा की 2200 करोड़ रुपये की राशि का बीमा कम्पनियों को प्रीमियम का भुगतान कर दिया था। इसके परिणाम स्वरूप ही किसानों को फसल बीमा की राशि प्रदाय की जा रही है।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में बीमित फसलें

मंत्री श्री पटेल ने बताया कि खरीफ फसलों के अंतर्गत सोयाबीन, मक्का, धान, तुअर, बाजरा, ज्वार, कोदो, तिल, मूँगफली, कपास, मूँग और उड़द का बीमा हुआ है। इसी प्रकार, रबी फसलों के अंतर्गत गेहूँ, चना, सरसों, अलसी और मसूर का बीमा करवाया गया है।

अब तक मध्यप्रदेश लाये गये अन्य प्रदेशों में फँसे 35 हजार श्रमिक

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की मंशानुसार कोरोना संकट के कारण अन्य प्रदेशों में फँसे मध्यप्रदेश के श्रमिकों को वापस लाने का कार्य प्रभावी ढंग से संचालित किया जा रहा है। अब तक 35 हजार श्रमिक प्रदेश में वापस आ चुके हैं।

अपर मुख्य सचिव एवं प्रभारी स्टेट कंट्रोल-रूम श्री आई.सी.पी. केशरी ने बताया कि 35 हजार श्रमिकों में से 30 अप्रैल को 11 हजार 281 श्रमिक राजस्थान के जैसलमेर, सीकर, झुंझुनू और झालावाड़ से मध्यप्रदेश के नीमच, आगर-मालवा, श्योपुर एवं गुना एन्ट्री प्वाइंट पर लाये गये हैं। इसी तरह गुजरात से करीब 500 लोग आज आये हैं। उत्तर प्रदेश से आज ही करीब एक हजार श्रमिक आयेंगे। इनको भोजन करवाने और स्वास्थ्य परीक्षण के बाद इनके गृह जिलों में भेजा जा रहा है। प्रतिदिन करीब 3-4 हजार लोग पैदल प्रदेश में आ रहे हैं। इसमें सर्वाधिक लोग उत्तर प्रदेश से आ रहे हैं। राजस्थान के मध्यप्रदेश में फँसे 4 हजार श्रमिकों को वापस भेजा गया है। प्रदेश से करीब 4 हजार श्रमिक उत्तर प्रदेश भेजे जा रहे हैं।

अन्य जिलों में फँसे 35 हजार श्रमिकों को गृह स्थान भेजा गया

मध्यप्रदेश के विभिन्न जिलों में फँसे प्रदेश के करीब 35 हजार श्रमिकों को पिछले 6 दिनों में उनके गृह स्थान पहुँचाया गया है।

गोवा में फँसे 1600 श्रमिकों को वापस लाने की कार्यवाही की जा रही है। इसके साथ ही तमिलनाडु, केरल, आंध्रप्रदेश और महाराष्ट्र में फँसे श्रमिकों को भी वापस लाने के लिये चर्चा की जा रही है।

गौरतलब है कि 29 अप्रैल तक गुजरात से 6 हजार, राजस्थान से 14 हजार और हरियाणा से 1350 श्रमिक वापस लाये गये थे। इन सबको उनके गृह स्थान पहुँचा दिया गया है।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

फतह मुबारक हो मुसलमानो, भारत के खिलाफ जीत इस्लाम की जीत…जश्न मनाने के बदले जहर उगलने लगा पाक

नई दिल्ली 25 अक्टूबर 2021 । खराब बल्लेबाजी और खराब गेंदबाजी की वजह से टीम …