मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> राज्यसभा उप सभापति चुनाव में भाजपा की तुरुप चाल से विपक्षी दल सकते में

राज्यसभा उप सभापति चुनाव में भाजपा की तुरुप चाल से विपक्षी दल सकते में

नई दिल्ली 4 अगस्त 2018 । राज्यसभा में उप सभापति चुनाव में सरकार को पटखनी देने की तैयारी कर रहे विपक्ष को झटका लग सकता है। माना जा रहा है कि भाजपा जदयू से राज्यसभा पहुंची अल्पसंख्यक महिला कहकशां परवीन को मैदान में उतारेगी। जाहिर तौर पर उनका विरोध कांग्रेस समेत कई दूसरे विपक्षी दलों के लिए आसान नहीं होगा। संभव है कि शुक्रवार को ही चुनाव की अधिसूचना हो सकती है। वैसे कहकशां की दावेदारी का संकेत गुरुवार को उसी वक्त मिल गया जब सभापति एम. वेंकैयानायडू ने प्रश्नकाल चलाने की जिम्मेदारी उन्हें सौप दी।

इस बार उपसभापति चुनाव राजनीति का अखाड़ा होने वाला है इसका संकेत उसी वक्त मिल गया था जब विपक्षी एकजुटता बनाने के लिए मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने अपने बजाय दूसरे दल को उम्मीदवारी देने का मन बनाया था। पहले तृणमूल कांग्रेस और फिर राकांपा की महिला सांसद वंदना चौहान का नाम उछाला जा रहा था। चौहान की संभावना इसलिए भी जताई जा रही थी कि महाराष्ट्र के नाम पर भाजपा से नाराज शिवसेना का भी वोट लिया जा सके, लेकिन भाजपा की ओर से दहला मारने की कोशिश हो रही है।

कहकशां राजग में दोबारा शामिल हुए जदयू से आती हैैं। इस पेशकश के साथ दोस्ती और मजबूत होगी। वहीं विपक्षी दलों के लिए उनका विरोध करना आसान नहीं होगा। ध्यान रहे कि कुछ दिनों पहले ही एक रैली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तीन तलाक का हवाला देते हुए कांग्रेस पर निशाना साधा था कि वह मुस्लिम महिलाओं के साथ क्यों नहीं खड़ी होती है।

दरअसल तीन तलाक पर कांग्रेस के कुछ संशोधनों के कारण ही राज्यसभा में तीन तलाक विधेयक अटक गया था। ऐसे में कहकशां का विरोध और भी ज्यादा मुश्किल होगा। जाहिर है कि परोक्ष रूप से उनके पहली बार सदस्य होने का सवाल उठाया जाएगा, लेकिन कानून इसकी मनाही नहीं करता है। आखिरकार जीएमसी बालयोगी को भी पहली बार में ही लोकसभा अध्यक्ष बनाया गया था।

गुरुवार को परोक्ष संकेत तभी मिल गया जब 12 बजे वेंकैया नायडू ने कहा कि वह एक नया प्रयोग करने जा रहे हैं। उपसभापति पैनल में शामिल कहकशां परवीन प्रश्नकाल का संचालन करेंगी। यह सचमुच नया प्रयोग था क्योंकि सामान्यतया प्रश्नकाल का संचालन सभापति ही करते हैं और खास परिस्थिति में उपसभापति। सदन में मौजूद सभी दलों ने कहकशां का मेज थपथपा कर स्वागत किया था।

सूत्र बताते हैं कि सभापति एम वेंकैया नायडू जल्द से जल्द चुनाव कराना चाहते हैं और इस नाते शुक्रवार को ही अधिसूचना हो सकती है ताकि बुधवार या गुरुवार तक चुनाव संपन्न करा लिए जाएं। अगले शुक्रवार को मानसून सत्र खत्म हो रहा है।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

पंजाब कांग्रेस का सस्पेंस बरकरार, नाराज सुनील जाखड़ को अपनी फ्लाइट में दिल्ली लाए राहुल-प्रियंका गांधी

नई दिल्ली 23 सितम्बर 2021 । चरणजीत सिंह चन्नी को मुख्यमंत्री बनाने के बावजूद पंजाब …