मुख्य पृष्ठ >> अपराध >> आश्रय गृह में होता था बालिकाओं का शारीरिक शोषण, 1 महिला सहित चार गिरफ्तार

आश्रय गृह में होता था बालिकाओं का शारीरिक शोषण, 1 महिला सहित चार गिरफ्तार

जावरा 2 फरवरी 2019 । मध्यप्रदेश के रतलाम जिले के जावरा में कुन्दन वेलफेयर आर्गनाइजेशन द्वारा संचालित कुंदन कुटीर बालिका आश्रय गृह में बालिकाओं के शारीरिक शोषण की बात सामने आने के बाद गुरुवार को इसे सील करते हुए चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है। चारों आरोपितों को आज शुक्रवार को कोर्ट में पेश किया जाएगा। बाल-कल्याण समिति द्वारा कुन्दन वेलफेयर आर्गनाइजेशन का संचालन किया जाता है। राज्य शासन से लाखों रुपये का अनुदान आश्रय गृह को मिलता था। जो चार आरोपित गिरफ्तार किए गए हैं उनमें समिति के अध्यक्ष संदेश जैन, सचिव डॉ. रचना भारती, सदस्य ओमप्रकाश भारती और दिलीप बरैया शामिल हैं। गत 24 जनवरी को आश्रय गृह की पांच नाबालिग लड़कियां खाना नहीं मिलने और ठंड में कपड़े नहीं मिलने के कारण आश्रय गृह की खिड़की से फरार हो गई थीं, जिन्हें पुलिस ने मंदसौर से पकड़ा था। कलेक्टर रुचिका चौहान ने जावरा के एसडीएम एमएल आरिफ को मामले की जांच के आदेश दिए थे। जांच रिपोर्ट के बाद कलेक्टर ने बाल आश्रय गृह की सभी 25 लड़कियों को रतलाम स्थित रतलाम वन स्टाफ सेंटर में अस्थायी रूप से शिफ्ट कर दिया और आश्रय गृह को सील कर दिया है। बाद में इन बालिकाओं को उज्जैन के शासकीय बालगृह में भेजा जाएगा।

जांच रिपोर्ट के बाद कार्रवाई करते हुए अध्यक्ष संदेश जैन, सचिव डॉ. रचना भारती, संचालक दिलीप बरैया और डॉ. रचना भारती के पति ओमप्रकाश भारती के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया गया। गुरुवार सुबह तीन आरोपितों को गिरफ्तार किया गया था, जबकि संदेश जैन की गिरफ्तारी शाम को हुई। एसडीएम आरिफ के अनुसार सभी बालिकाओं के बयान दर्ज किए गए हैं। उसी आधार पर चार लोगों के खिलाफ प्रकरण दर्ज किए गए हैं और कलेक्टर को अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत की है। कलेक्टर रुचिका चौहान ने पत्रकारों को बताया कि आश्रय गृह के संचालकों के विरुद्ध आईपीसी की धारा 376, 323, 354 तथा पॉक्सो एक्ट की विभिन्न धाराओं में प्रकरण दर्ज कर सभी आरोपितों को गिरफ्तार किया गया। बालिकाओं के बयान में संचालिका रचना भारती द्वारा शराब पीकर मारपीट करने का आरोप भी लगाया गया और शारीरिक शोषण व प्रताड़ना के आरोप भी लगाए गए हैं। उन्हीं आधार पर बलात्कार, मारपीट व छेड़छाड़ की धाराएं लगाई गई हैं। जांच जारी है। यदि और भी दोषी पाए गए तो उनके खिलाफ सख्ती से कार्रवाई की जाएगी। कलेक्टर ने कहा कि बालिकाओं के छात्रावासों पर निगरानी रखी जाएगी, लेकिन बालकों के छात्रावास पर भी निगरानी के निर्देश दिए जा रहे हैं।

वहीं कलेक्टर रूचिका चौहान का कहना है कि यह मामला बड़ा गंभीर है, दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा। यह भी पता चला है कि भागी हुई लड़कियों में एक लड़की गर्भवती भी थी। अन्य का मेडिकल परीक्षण भी करवाया जा रहा है, ताकि आश्रय गृह की स्थिति का और अधिक पता लग सके। आश्रय गृृह की गतिविधियों की व्यापक पड़ताल के लिए आश्रय गृह को सील कर दिया गया है। इसके साथ ही कलेक्टर चौहान ने पूर्व महिला सशक्तिकरण अधिकारी रविन्द्र मिश्रा के निलंबन का प्रस्ताव भी शासन को भेजा है। कलेक्टर का कहना है कि इस मामले में उनकी लापरवाही सामने आई है। इसलिए उनके निलंबन का प्रस्ताव शासन को भेजा गया है।

संचालक करते थे बच्चियों का यौन षोषण और भाजपा सरकार देती थी उस आश्रय गृह को 16 लाख रूपये प्रतिमाह: शोभा ओझा

प्रदेश कांग्रेस मीडिया विभाग की अध्यक्ष श्रीमती शोभा ओझा ने जावरा, रतलाम के कुंदन कुटीर आश्रय गृह से भागी बालिकाओं के मामले में, गिरफ्तार हुए आरोपियों में संघ के कार्यकर्ता की भी गिरफ्तारी को संघ और भाजपा के लोगों का असली चरित्र बताते हुए कहा कि, यह पिछले पंद्रह सालों में भाजपा सरकार द्वारा जारी रहे जंगलराज को ही दर्शाने का एक और उदाहरण मात्र हैै।
श्रीमती ओझा ने कहा कि मामले में पाॅस्को ऐक्ट के साथ ही धारा 376 और अन्य धाराओं में जिन चार आरोपियों पूर्व संचालिका रचना भारतीय, ओमप्रकाश भारतीय, सन्देश जैन और संघ के सक्रिय कार्यकर्ता दिलीप बरैया को गिरफ्तार किया गया है, वे लंबे समय से षराब पीकर नाबालिग बच्चियों के साथ मारपीट करने के साथ ही यौन षोषण भी करते थे। ऐसी संस्था को भाजपा की प्रदेष सरकार 16 लाख रूपये महीने की आर्थिक मदद करती थी। वर्षोें तक बिना जंाच के चहेतों को फायदा पहंुचाने के लिए ऐसी संस्था की सरकार द्वारा आर्थिक मदद करते रहना शर्मनाक है।
श्रीमती ओझा ने कहा कि पिछले 15 सालों से एक ऐसी असंवेदनशील सरकार सत्ता पर काबिज थी जिसके संरक्षण में ऐसी दानवी संस्थाएॅं फल-फूल रही थीं, जिनमें अपराधी दंडित होने की बजाय सरकार की वित्तीय मदद् का लाभ उठा रहे थे।
श्रीमती ओझा ने कहा कि पूर्व में भी होशंगाबाद, बैरागढ़ और भोपाल के ऐसे कई उदाहरण सामने आए थे, जहां मूक-बधिर और नाबालिग बच्चियों के साथ क्रूरता, बलात्कार और आप्राकृतिक दुष्कर्म की घटनाएं र्हुइं थी, जिसका कि प्रदेष कांग्रेस ने पत्रकार-वार्ताओं के माध्यम से समय-समय पर खुलासा किया था लेकिन भाजपा की तत्कालीन गूॅंगी-बहरी सरकार के कान पर जूॅं तक नहीं रेंगी थी। कांग्रेस के दबाव में उसने केवल आधी-अधूरी कार्यवाहियाॅं ही की थी, क्योंकि फंसने वाले भाजपा के चहेते थे। सभी जानते हैं कि बैरागढ़ और भोपाल मे संचालित आश्रय गृहों के कर्ताधर्ता एम.पी. अवस्थी और अष्विनी षर्मा जो कांग्रेस के खुलासे के बाद गिरफ्तार हुए थे, उनके घृणित और पाषविक कृत्यों को कौन वित्त पोषित और संरक्षित कर रहा था?
श्रीमती ओझा ने पुलिस अधिकारियों के द्वारा जावरा के आश्रय गृह में घटित घटना के आरोपियों की षीघ्र गिरफ्तारी और आश्रय-गृह को सील करने की त्वरित कार्यवाही पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए अपराधियों को चेतावनी दी है, कि प्रदेष में कांग्रेस की सरकार ऐसे दुष्कृत्यों को किसी भी कीमत पर बर्दाष्त नहीं करने वाली है।

नगरीय प्रशासन मंत्री जयवधर्न सिंह ने कांगे्रसजनों एवं आम नागरिकों से मुलाकात की

नगरीय प्रशासन मंत्री श्री जयवर्धन सिंह ने आज प्रदेश कांगे्रस कार्यालय पहुंचकर आम जनता एवं कांगे्रसजनों की समस्याऐं सुनी और चुनिंदा मामलों में तत्काल निराकरण के आदेश दिये। श्री जयवर्धन सिंह ने कहा कि जमीनी स्तर पर काम करने वाले कांगे्रसजनों को न सिर्फ आम जनता से जुड़े हुए असली मुद्दों की बेहतर जानकारी है, बल्कि उसके निराकरण के लिए सरकार को उमदा सुझाव भी देते हैं।
श्री सिंह ने कहा कि नगरीय प्रशासन विभाग द्वारा शीघ्र ही नौजवानों को साल में 100 दिन का रोजगार देने की योजना प्रारंभ की जा रही है। एक और वचन निभाते हुए कांगे्रस सरकार मध्यप्रदेश के बेरोजगार नौजवानों को कौशल विकास के साथ-साथ रोजगार से जोड़ने की योजना पर शीघ्र अमल करेगी।
श्री सिंह ने प्रदेश कांगे्रस के उपाध्यक्ष संगठन प्रभारी चंद्रप्रभाष शेखर, प्रकाश जैन, महामंत्री राजीव सिंह और मृणाल पंत से संगठनात्मक गतिविधियों और आगामी लोकसभा चुनाव की तैयारियों पर भी चर्चा की। पार्टी के विभिन्न पदाधिकारियों श्री जे.पी. धनोपिया, श्रीमती विभा पटेल, निहाल अहमद, गन्नू तिवारी, गुडडू अनीस आदि ने भी श्री जयवर्धन सिंह द्वारा नगरीय विकास संबंधित कार्यों को तेज गति से किये जाने पर स्वागत करते हुए अपने-अपने सुझाव दिये।

एक फरवरी को नये स्वरूप में वल्लभ भवन पर होगा राष्ट्र गीत ‘वंदे मातरम्’ का गायन: शोभा ओझा

प्रदेष कांग्रेस मीडिया विभाग की अध्यक्ष श्रीमती षोभा ओझा ने कहा कि भोपाल में राष्ट्रगीत ‘वन्दे मातरम्’ का गायन नए स्वरूप में जनता की सहभागिता के साथ गाए जाने की व्यवस्था की गई है। मध्यप्रदेष की कांग्रेस सरकार द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में दिनांक एक फरवरी को इस हेतु पुलिस बैण्ड के साथ राष्ट्रीय भावना को जाग्रत करने वाले गीतों की धुन बजाते हुए षौर्य-स्मारक से 10ः45 बजे प्रारंभ होकर जनसमूह वल्लभ भवन पहुंचेगा। पुलिस बैण्ड के वल्लभ भवन प्रांगण पहुंचने पर राष्ट्रीय गान ‘जनगणमन’ और राष्ट्रगीत ‘वन्दे-मातरम्’ गाया जाएगा। वल्लभ भवन प्रांगण में राज्य षासन के अधिकारी, कर्मचारियों के साथ ही कांग्रेसजन और आम नगरिक भी कार्यक्रम में सम्मिलित होंगे।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

कोरोना विस्फोट के बीच क्या लगेगा लॉकडाउन? पीएम मोदी की आज बड़ी बैठक

नई दिल्ली 19 अप्रैल 2021 । कोरोना की दूसरी लहर की वजह से देश में …