मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> पीएम मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में सभी राज्यपाल, मुख्यमंत्री और प्रमुख विपक्षी दलों के नेता आमंत्रित

पीएम मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में सभी राज्यपाल, मुख्यमंत्री और प्रमुख विपक्षी दलों के नेता आमंत्रित

नई दिल्ली 29 मई 2019 । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दूसरे कार्यकाल के लिये गुरुवार को होने वाले शपथ ग्रहण समारोह में सभी प्रदेशों के राज्यपालों, मुख्यमंत्रियों और प्रमुख विपक्षी दलों के नेताओं को आमंत्रित किया गया है. उच्च पदस्थ सूत्रों ने यह जानकारी दी. जिन विपक्षी नेताओं को आमंत्रित किया गया है उसमें कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, तृणमूल कांग्रेस प्रमुख और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, जेडीएस नेता और कर्नाटक के मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी, आप प्रमुख और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल शामिल हैं.

सूत्रों ने कहा कि सभी मुख्यमंत्रियों, राज्यपालों, पूर्व प्रधानमंत्रियों और पूर्व राष्ट्रपतियों को कार्यक्रम के लिये न्योता भेजा गया है. उन्होंने कहा कि समारोह के लिये सभी बड़े राष्ट्रीय और क्षेत्रीय दलों को न्योता भेजा जा रहा है. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद गुरुवार को शाम सात बजे राष्ट्रपति भवन में मोदी और उनकी मंत्रिपरिषद के अन्य सदस्यों को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाएंगे.

लोकसभा चुनाव में एक-दूसरे पर तीखे हमले के बाद विपक्षी नेताओं को न्योते को मोदी की ओर से उन तक पहुंचने की कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है. चुनाव में बीजेपी ने जबर्दस्त जीत दर्ज की. सरकार ने शपथ ग्रहण समारोह में बिम्सटेक देशों के नेताओं को भी आमंत्रित किया है.

विदेशी मेहमान नेताओं के लिए किए गए खास इंतज़ाम

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शपथग्रहण समारोह में शरीक होने आ रहे खास विदेशी मेहमानों के लिए इंदिरा गांधी अंतराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर भी विशेष इंतजाम किए जा रहे हैं. विदेशी मेहमान नेताओं की आमद के लिए हवाई अड्डे के रनवे नम्बर 27 को सुरक्षित किया गया है. साथ ही विदेशी नेताओं के विमानों की प्राथमिकता से लैंडिंग और सुरक्षा के लिए व्यापक इंतजाम किए गए हैं.

सूत्रों के मुताबिक विदेशी मेहमान नेताओं के विमानों के आगमन समय पर उसे प्रायोरिटी लैंडिंग दी जाएगी. उनके विमानों को भारतीय वायुसेना के AFS टेक्निकल एरिया में रुकवाया जाएगा. उनके विमानों की पार्किंग भी टेक्निकल एरिया में ही की जाएगी. हालांकि यदि जगह की कमी हुई तो सिविल एनक्लोजर में भी विमानों को रखा जा सकेगा.

यदि कोई मेहमान नेता कमर्शियल फ्लाइट से आते हैं तो हवाई अड्डे के सेरेमोनियल लाउंज में उनके स्वागत का इंतज़ाम होगा. विदेश मंत्रालय का अधिकारियों की टीम इन नेताओं की अगवानी करेगी.

राजधानी दिल्ली के तीन पांच सितारा होटल, मौर्या शेरेटन, ताज पैलेस और लीला में मेहमान नेताओं के ठहरने के लिए सुझाए गए हैं. हालांकि मेहमान नेता यदि चाहें तो अपनी इच्छा के किसी स्थान पर भी रुक सकते हैं. शपथग्रहण समारोह के बाद विदेशी मेहमान नेताओं के सम्मान में राष्ट्रपति भवन में एक रात्रिभोज का भी आयोजन किया जाएगा.

अगले दिन रुकने वाले नेताओं के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्विपक्षीय वार्ता भी करेंगे. महत्वपूर्ण है कि पीएम मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में बिम्सटेक समूह के सदस्य देशों बांग्लादेश, भूटान, श्रीलंका, म्यांमार, नेपाल, थाईलैंड के अलावा मॉरीशस और किर्गीज़स्तान के प्रमुखों को निमंत्रित किया गया है. सूत्रों के मुताबिक सभी आठ नेताओं के पीएम मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने की स्वीकृति दे दी है. बांग्लादेश, म्यांमार और किर्गीज़स्तान के राष्ट्रपति जहां कार्यक्रम में शरीक होंगे वहीं नेपाल, भूटान व मॉरीशस के प्रधानमंत्री शामिल होंगे.

3 विधायकों और 50 पार्षदों ने बदला पाला, भाजपा में हुए शामिल

लोकसभा चुनाव 2019 में कई सीटों का नुकसान होने के बाद टीएमसी प्रमुख और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को एक और बड़ा झटका लगा है. ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के दो और सीपीएम के एक विधायक आज भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गये हैं. बीजेपी नेता मुकुल रॉय के बेटे और टीएमसी के निलंबित विधायक शुभ्रांशु भी बीजेपी में शामिल हो गए हैं. वहीं तृणमूल के तुषार भट्टाचार्य बीजेपी में शामिल हो गए. इसके अलावा करीब 50 पार्षदों ने भी भाजपा का दामन थामा है.

इस दौरान बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि जिस तरह से पश्चिम बंगाल में सात चरणों में चुनाव हुए, उसी तरह बीजेपी में टीएमसी नेताओं के शामिल होने का सिलसिला सात चरणों में होगा. आज इसका पहला चरण है.

लोकसभा चुनाव में पश्चिम बंगाल में बीजेपी के बेहतर प्रदर्शन के बाद कई तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) विधायक और पार्षद पार्टी से संपर्क में हैं। पश्चिम बंगाल के गरीफा (वॉर्ड नंबर 6) से तृणमूल कांग्रेस की पार्षद रूबी चटर्जी ने बताया था कि 20 पार्षद दिल्ली में हैं। हम (पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री) ममता बनर्जी जी से नाराज़ नहीं हैं, लेकिन बंगाल में बीजेपी की हालिया जीत ने हमें पार्टी में शामिल होने के लिए प्रभावित किया। लोग BJP को पसंद कर रहे हैं, क्योंकि वे लोगों के लिए काम कर रहे हैं।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

प्रियंका गांधी का 50 नेताओं को फोन-‘चुनाव की तैयारी करें, आपका टिकट कन्फर्म है’!

नई दिल्ली 21 जून 2021 । उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव …