मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> रेलवे के एसी क्लास में यात्रा करने वाले यात्रियों को दिया जायेगा ये

रेलवे के एसी क्लास में यात्रा करने वाले यात्रियों को दिया जायेगा ये

नई दिल्ली 19 जनवरी 2019 । रेलवे ने यह फैसला इसलिए लिया है क्योंकि यात्रा अपने साथ में इनको साथ में लेकर चल देते थे. इससे रेलवे को काफी आर्थिक नुकसान हो रहा था. रेलवे अधिकारियों का मानना है कि आधा घंटा पहले यात्रियों से कंबल, तकिया, तौलिया लेने से उनको बहुत कम नुकसान होगा.
रेलवे केवल गरीब रथ को छोड़कर के सभी मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों के एसी कोच में यात्रियों को मुफ्त में कंबल, तकिया, चादर और तौलिया उपलब्ध कराता है. गरीब रथ में सफर करने वाले यात्रियों से 30 रुपये किराये के तौर पर लिए जाते हैं.

4 हजार करोड़ का नुकसान
पिछले वर्ष ट्रेनों में मिलने वाले 1.95 लाख तौलिये यात्री अपने साथ ले गए. यही नहीं, 81 हजार 736 चादरें, 55 हजार 573 तकिया के खोल, 5 हजार 38 तकिया व 7 हजार 43 कंबल भी चोरी हो चुके हैं. रेलवे के अधिकारियों का कहना है कि यात्रियों द्वारा की जा रही चोरियों की वजह से पिछले तीन वर्षों में रेलवे को 4 हजार करोड़ रुपये का नुकसान उठाना पड़ा है.

पश्चिम रेलवे के मुताबिक मंत्रालय रेलवे में हो रही चोरियों से लगातार जूझ रहा है. यह पहली बार नहीं है कि लोग राष्ट्रीय संपत्ति को अपनी संपत्ति मानकर उठा ले गए हों. रेलवे हर वर्ष यात्रियों द्वारा की जा रही चोरी से परेशान है.

रेल से हर वर्ष करीब 200 मग, एक हजार नल की टोटियां व 300 से ज्यादा फ्लश पाइप चोरी होते हैं. मध्य रेलवे के मुख्य जनसंपर्क ऑफिसर बताते हैं कि पिछले छह महीने में 79 हजार 350 तौलिये, 27 हजार 545 चादरें, 21 हजार 50 तकिया के कवर, दो हजार 150 तकिया व दो हजार 65 कंबल चुराए गए, जिनकी कुल मूल्य लगभग 62 लाख रुपए है.

कोच अटेंडेंट करता है भरपाई
चादर व दूसरी ऐसी चीजों की चोरी की भरपाई कोच अटेंडेंट को करनी पड़ती है जबकि बाथरूम के सामान की भरपाई रेलवे करता है. यह देखना कोच अटेंडेंट की जिम्मेदारी होती है कि हर यात्री ने रेलवे की ओर से दिया गया सारा सामान वापस कर दिया हो, इसके लिए वह मुस्तैद भी रहता है लेकिन वह यात्रियों की तलाशी नहीं ले सकता.

शुरू की यह स्कीम
लगातार चोरी से परेशान रेलवे अब ट्रायल के तौर पर यात्रियों को डिस्पोजेबल तौलिया व तकिया का खोल दे रहा है. रेलवे को डिस्पोजेबल बेडशीट की मूल्य 132, तौलिया की 22 वतकिया की 25 रुपये पड़ती है.

रेलवे यात्रियों द्वारा की जा रही चोरियों से निपटने के लिए सस्ते विकल्पों से बदलने की योजना पर भी कार्य कर रहा है. यही नहीं पश्चिम रेलवे के ऑफिसर का कहना है कि फिल्हालकुछ ट्रेनों में ट्रायल के तौर पर डिस्पोजेबल तौलिया व तकिया के खोल दिए जा रहे हैं.

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

टूटे सारे रिकॉर्ड, 10 बिंदुओं में जानिए क्यों आ रहा जोरदार उछाल

नई दिल्ली 24 सितम्बर 2021 । घरेलू शेयर बाजार में शानदार तेजी का सिलसिला जारी …