मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> JDU को 2020 में BJP से अधिक सीटों पर चुनाव लड़ना चाहिए- प्रशांत किशोर

JDU को 2020 में BJP से अधिक सीटों पर चुनाव लड़ना चाहिए- प्रशांत किशोर

नई दिल्ली 30 दिसंबर 2019 ।  जनता दल (यूनाइटेड) के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने रविवार को कहा कि बिहार में की वरिष्ठ साझीदार होने के नाते उनकी पार्टी को आगामी विधानसभा चुनाव में भाजपा की तुलना में अधिक सीटों पर चुनाव लड़ना चाहिए. दोनों दलों ने इस साल लोकसभा चुनाव में समान संख्या में सीटों पर चुनाव लड़ा था. प्रशांत किशोर ने कहा, ‘‘मेरे अनुसार लोकसभा चुनाव का फार्मूला विधानसभा चुनाव में दोहराया नहीं जा सकता.’’

वह हाल में सीएए और एनसीआर को लेकर बीजेपी को लगातार निशाना बनाते आए हैं. उन्होंने कहा, ‘‘अगर हम 2010 के विधानसभा चुनाव को देखें जिसमें जदयू और बीजेपी ने साथ मिलकर चुनाव लड़ा था तो यह अनुपात 1:1.4 था. अगर इसमें इस बार मामूली बदलाव भी हो, तो भी यह नहीं हो सकता कि दोनों दल समान सीटों पर चुनाव लड़ें.’’

प्रशांत किशोर ने कहा, ‘‘JDU अपेक्षाकृत बड़ी पार्टी है जिसके करीब 70 विधायक हैं जबकि BJP के पास करीब 50 विधायक हैं. इसके अलावा, विधानसभा चुनाव नीतीश कुमार को NDA का चेहरा बनाकर लड़ा जाना है.’’

अजित पवार बनेंगे डिप्टी सीएम, पृथ्वीराज चव्हाण और संजय राउत के भाई का पत्ता कटा- सूत्र

महाराष्ट्र में आज होने वाले उद्धव ठाकरे मंत्रिमंडल विस्तार से जुड़ी बड़ी खबर सामने आयी है. सूत्रों के मुताबिक एनसीपी नेता अजित पवार डिप्टी सीएम बनेंगे. इसके साथ ही खबर आयी कि कांग्रेस नेता पृथ्वीराज चव्हाण का पत्ता कट गया है. आज शिनसेना, एनसीपी और कांग्रेस के कुल 36 मंत्री शपथ लेंगे. शिवसेना और एनसीपी कोटे से 13-13 मंत्री जबकि कांग्रेस कोटे से 10 मंत्री शपथ ले सकते हैं.

अजित पवार को लेकर महाराष्ट्र के जानकारों का कहना है कि शरद पवार के पास इसके सिवाए कोई और विकल्प नहीं था. शरद पवार के बाद महाराष्ट्र की राजनीति में एनसीपी का दूसरा बड़ा नाम अजित पवार ही हैं. अजित पवार की प्रशासन में भी अच्छी पकड़ मानी जाती है. सूत्रों के मुताबिक मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे भी उन्हें अपने मंत्रिमंडल में चाहते थे.

अजित पवार को लेकर एक और रोचक जानकारी सामने आयी है. अजित पवार ने जब नए मंत्रिमंडल के लिए अपना जो बायोडाटा दिया उसमें देवेंद्र फडणवीस के साथ तीन दिन के डिप्टी सीएम के कार्यकाल का भी जिक्र किया है. माना जा रहा है कि अजित पवार को लेकर अभी तक जो खींचतान चल रही थी वो उनके मंत्रालय को लेकर थी.

दरअसल जानकारी के मुताबिक एनसीपी की ओर अजित पवार के लिए गृहमंत्रालय की मांग की जा रही थी लेकिन शिवसेना की ओर से उन्हें वित्त मंत्रालय का प्रस्ताव दिया गया था. अजित पवार के मंत्रालय को लेकर देर रात तक चर्चा हुई. माना जा रहा है कि उन्हें वित्त मंत्रालय सौंपा जा सकता है. संभावित मंत्रियों की लिस्ट भले ही सामने आ गई हो लेकिन मंत्रालयों को लेकर अभी भी सस्पेंस बरकरार है.

शिवसेना की ओर से अब्दुल सत्तार का नाम भी लिस्ट में शामिल किया गया है, अब्दुल सत्तार चुनाव से पहले ही शिवसेना में शामिल हुए थे. ऐसे में कैबिनेट मंत्री का पद मिलना उनके लिए किसी लॉटरी से कम नहीं माना जा रहा है. उद्धव ठाकरे के इस मंत्रिमंडल विस्तार में कुल आठ नए मंत्रियों को जगह दी गई जा रही है.

एनसीपी की फाइनल लिस्ट

अजित पवार – डिप्टी सीएम
दिलीप वळसे पाटील
धनंजय मुंडे
अनिल देशमुख
डॉ. राजेंद्र शिंगणे
हसन मुश्रीफ
जितेंद्र आव्हाड
नवाब मलिक
बालासाहेब पाटील
राजेश टोपे

राज्य मंत्री
प्राजक्त तनपुरे
दत्ता भरणे
अदिती तटकरे
संजय बनसोडे

कांग्रेस की तरफ से मंत्री
अशोक चाव्हाण – केबिनेट
केसी पांडवी
विजय बडेटिवार
अमित देशमुख
सुनिल केदार
यशोमति ठाकुर
वर्षा गायकवाड़
असलम शेख

राज्यमंत्री
विश्वजीत कदम
सतेज पाटिल

शिवसेना फाइनल लिस्ट
गुलाबराव पाटील
दादा भुसे
संजय राठोड को वापस मंत्री पद
अनिल परब
उदय सामंत
गुलाबराव पाटील
शंभूराजे देसाई
दादा भुसे
संजय राठोड
अब्दुल सत्तार

तीन निर्दलियों को भी दिया मौक़ा
येडगांवकर
शंकरराव गडाख
बच्चू कडू

आपको बता दें कि 28 नवंबर को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के साथ 6 मंत्रियों ने शपथ ली जिसके बाद से ही मंत्रिमंडल का विस्तार का इंतजार हो रहा था. दो बार मंत्रिमंडल का विस्तार इसलिए टल गया था क्योंकि मंत्रियों के नाम फाइनल नहीं हो पा रहे थे. वहीं इस मंत्रिमंडल विस्तार का बीजेपी ने बहिष्कार किया है, किसानों के मुद्दे पर बीजेपी ने समारोह में शामिल नहीं होने का फैसला लिया है.

दोपहर 1 बजे मुंबई में शपथ ग्रहण समारोह होना है. शपथ ग्रहण समारोह राजभवन के बजाय महाराष्ट्र विधान भवन के प्रांगण में किया जा रहा है. मंत्रियों की लिस्ट फाइनल नहीं होने की वजह से अभी तक मंत्रिमंडल का विस्तार टलता रहा. महीने भर पहले 28 नवंबर को जब शिवसेना के अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने शिवाजी पार्क में शपथ ली थी तो उनके साथ और 6 मंत्रियों ने भी शपथ ली थी.

इनमें एनसीपी से छगन भुजबल और जयंत पाटील, कांग्रेस से बालासाहेब थोराट और नितिन रावत और शिवसेना से एकनाथ शिंदे और सुभाष देसाई थे. पहले माना जा रहा था कि मंत्रिमंडल का विस्तार विधानसभा के शीतकालीन सत्र के पहले होगा लेकिन वो हो नहीं सका. उसके बाद 23 दिसंबर को शपथ विधि की तारीख मुकर्रर की गई लेकिन तब भी मंत्रिमंडल का विस्तार टल गया.

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

किश्तवाड़ में बादल फटने से पांच की मौत, 40 से ज्यादा लोग लापता

नई दिल्ली 28 जुलाई 2021 ।  जम्मू-कश्मीर में भारी बारिश का कहर देखने को मिला …