मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> बुआ के खिलाफ चुनाव प्रचार करेंगे ज्योतिरादित्य सिंधिया

बुआ के खिलाफ चुनाव प्रचार करेंगे ज्योतिरादित्य सिंधिया

नई दिल्ली 9 नवम्बर 2018 । मध्यप्रदेश सरकार की कैबिनेट मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया शिवपुरी विधानसभा सीट से चौथी बार BJP प्रत्याशी के रूप में चुनाव मैदान में उतरेंगी। यशोधरा राजे सिंधिया के विरुद्ध चुनाव प्रचार करने उनके भतीजे ज्योतिरादित्य सिंधिया जाएंगे। यह देखना रोचक होगा। इस बार कांग्रेस ने शिवपुरी जिले की तीन विधानसभा सीटों से बिल्कुल नए उम्मीदवारों को उतारा गया है। जिनमें शिवपुरी करेरा और पोहरी विधानसभा क्षेत्र शामिल हैं। इनमें सबसे कम उम्र के प्रत्याशी सिद्धार्थ लढा को कांग्रेस ने टिकट दिया है। वह अभी केवल 36 वर्ष के हैं और पिछले लगभग 5 वर्ष पहले ही राजनीति में आए हैं।उनके सामने भाजपा की वरिष्ठ नेता, ग्वालियर से सांसद रहीं और शिवपुरी से तीन बार विधायक रहीं अनुभवी राजनेता यशोधरा राजे सिंधिया चुनाव मैदान में हैं। ऐसे में इस विधानसभा सीट से कांग्रेस प्रत्याशी के समर्थन में उनके भतीजे एवं कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया अपनी बुआ के विरोध में चुनाव प्रचार करने कितना सक्रिय होते हैं, यह चर्चा का विषय बना हुआ है।लोगों का कहना है कि सिंधिया की सक्रियता के कारण ही इस क्षेत्र से कांग्रेस मजबूत होगी। जबकि भाजपा प्रत्याशी यशोधरा राजे सिंधिया ने काफी पहले से इस विधानसभा क्षेत्र में अपना जनसंपर्क शुरू कर दिया है। अपने पिछले कार्यकाल के दौरान शिवपुरी विधानसभा क्षेत्र में एवं शहर में कराए गए विकास कार्यों के साथ ही भविष्य की योजनाओं को पूरा करने को लेकर जनता के बीच जा रही हैं। वहीं कांग्रेस प्रत्याशी भाजपा की प्रदेश सरकार की असफलताओं को मुद्दा बनाकर चुनावी मैदान पर हैं।

कांग्रेस के कुल 229 उम्मीदवार घोषित
प्रदेश भाजपा के कद्दावर नेता एवं पूर्व मंत्री सरताज सिंह ने अपनी पार्टी को बड़ा झटका देते हुए गुरुवार को कांग्रेस का हाथ थाम लिया। कांग्रेस ने सरताज को होशंगाबाद से अपना प्रत्याशी घोषित कर दिया है।

वहीं बुधनी में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के खिलाफ कांग्रेस ने पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव को खड़ा किया है। कांग्रेस ने 229 प्रत्याशियों की अंतिम सूची जारी कर दी, जतारा सीट लोकतांत्रिक जनता दल के लिए छोड़ी है। पांच प्रत्याशियों को बदला गया है।

भाजपा ने सरताज का टिकट काट दिया था, इसके बाद उन्होंने यह कदम उठाया। जिले की राजनीति में इसे सियासी भूचाल के रूप में देखा जा रहा है। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी की सरकार में स्वास्थ्य मंत्री रहे सरताज सिंह होशंगाबाद जिले में 60 साल से जनसंघ और भाजपा की राजनीति के पर्याय बन चुके थे।

75 के फार्मूले में पार्टी ने उनका मंत्री पद छीन लिया था, अब टिकट पर कैंची चलते ही सरताज ने बगावत कर दी। कांग्रेस ने उन्हें तुरंत ही होशंगाबाद से अपना उम्मीदवार घोषित कर दिया। सियासी हलकों में इसे बड़ी घटना माना जा रहा है।

फूट-फूट कर रोए सीएम के साले संजय सिंह

राजनीति को दाव- पेच का खेल माना जाता है। इसमें भावनाओं के लिए कोई जगह नहीं है लेकिन एक के बाद एक नेता का पार्टी द्वारा अनदेखा किए जाने पर फूट-फूटकर रोने की खबर से यह तो साफ हो गया कि उन्हें भाजपा से बहुत उम्मीदें थी।

दरअसल, पहले सरताज सिंह और अब सीएम शिवराज सिंह चौहान के साले संजय सिंह मसानी का कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए रोने का वीडिओ वायरल हुआ है। उनकी बॉलीवुड में अच्छी पकड़ है और वे पेशे से अच्छे बिजनेसमैन है। अब वे राजनीति में अपनी पैठ जमा रहे हैं। संजय शिवराज की पत्नी के भाई है लेकिन पार्टी द्वारा दरनिकार किए जाने पर उन्हें कांग्रेस ने बालघाट के वारासिवनी से प्रत्याशी बनाया है। वहीं कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए उनका दर्द आंसू बनकर बह निकला और वे फूट- फूटकर रोने लगे।

मध्यप्रदेश की सियासत में कैटरीना की एंट्री, कांग्रेस बना सकती है स्टार प्रचारक

विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस और बीजेपी द्वारा टिकट वितरण के बाद अब स्टार प्रचारकों की चर्चा जोरों पर है. बीजेपी ने एमपी चुनाव के लिये अपने स्टार प्रचारकों की सूचा जारी कर दी है. वहीं अब खबर है कि कांग्रेस भी पार्टी के स्टार प्रचारकों की सूची जल्द जारी कर सकती है. पार्टी विधानसभा चुनाव के लिये सिनेमा से एक ऐसे चेहरे को स्टार प्रचारक बना सकती है जिसके लाखों फॉलोअर्स हैं.

प्रदेश की सियासी गलियारों में चर्चा है कि कांग्रेस एक्टर कैटरीना कैफ को स्टार प्रचार बना सकती है. एमपी कांग्रेस के प्रवक्ता अब्बास हाफिज का कहना है कि बीजेपी की स्टार प्रचारकों की सूची की बात करें तो उसमें स्टार प्रचारक कम और असंतुष्ट ज्यादा हैं. जहां तक कांग्रेस के स्टार प्रचारकों की सूची की बात है, तो वो जल्दी आ जाएगी. हमारे स्टार प्रचारक तो पहले से मैदान में हैं. वहीं उन्होंने कहा कि राहुल गांधी से बड़ा स्टार प्रचारक कौन है. वो हर क्षेत्र का दौरा कमलनाथ और सिंधिया के साथ कर चुके हैं. चाहे वह महाकौशल, विंध्य, मालवा,निमाड, चंबल हो और भोपाल में राहुल गांधी और हमारे तमाम नेता आ चुके हैं. हमारे सबसे स्टार प्रचारक प्रदेश की जनता है, जो पीडित है.
अब्बास हाफिज ने कहा कि महिलाएं, कुपोषण से शिकार बच्चे, बेरोजगार युवा और परेशान किसान हमारे प्रचारक हैं. वहीं कैटरीना कैफ को स्टार प्रचारक बनाने की बात पर उन्होंने कहा कि अभी पीसीसी स्तर पर कोई सूचना नहीं है, लेकिन हो सकता है. कोई प्रत्याशी उनको बुलाए और वह प्रचार भी करें.

संजय सिंह मसानी का बॉलीवुड से भी गहरा नाता ,बेहद लोकप्रिय हैं

मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने बुधवार देर रात 29 प्रत्याशियों की चौथी सूची जारी कर दी है। हाल ही में कांग्रेस में शामिल हुए मुख्यमंत्री शिवराज के साले संजय सिंह मसानी को वारासिवनी विधानसभा से टिकट दिया गया है। कांग्रेस की पहली सूची में 155, दूसरी में 16, तीसरी में 13 और चौथी लिस्ट में 29 प्रत्याशियों को मौका दिया गया है। इस तरह पार्टी ने कुल 213 उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है। संजय सिंह मसानी महाराष्ट्र के गोंदिया के रहने वाले हैं। सियासत के अलावा बॉलीवुड से भी उनका गहरा नाता रहा है। मध्य प्रदेश में शूट हुई कई फिल्मों में वो नजर आ चुके हैं। हाल ही में महेश्वर में पैडमैन फिल्म की शूटिंग हुई थी। उस फिल्म में संजय सिंह मसानी ने अक्षय कुमार के साले का किरदार निभाया था। अब तक वो लगभग आधा दर्जन फिल्मोंं में नजर आ चुके हैं। बॉलीवुड से नाता होने के कारण संजय सिंह काफी लोकप्रिय भी हैं। ऐसे में इनकी लोकप्रियता को पार पा पाना बीजेपी के लिए आसान नहीं होगा।बालाघाट जिले का वारासिवनी क्षेत्र सुगंधित चावल उत्पादन के लिए मशहूर हैं। इस सीट पर बीजेपी का कब्जा है। पहले वारासिवनी कांग्रेस का गढ़ हुआ करता था। वर्ष 1998 से लेकर 2008 तक यह सीट कांग्रेस के कब्जे में थी। वर्तमान में इस विधानसभा पर भाजपा के योगेन्द्र निर्मल विधायक हैं।

सरकार अच्छे दिन के वादे भुलाकर कर रही मंदिर-मूर्तियों की बाते: चिदंबरम

नोटबंदी के दो साल पूरे होने के मौके पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने केंद्र की मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि नोटबंदी से फेक मनी खत्म नहीं हो हुई। जाली नोट बनाने वालों ने 2,000 और 5,00 रुपये के नए नोटों की भी फेक मनी तैयार कर ली। नोटबंदी के समय अमान्य किए गए सभी 99.3% नोट वापस आरबीआई के पास आ गए। उन्होंने कहा कि वास्तव में सभी अमान्य नोटों को बैंक काउंटर पर एक्सचेंज किया गया। उन्होंने नोटबंदी को सरकार की ओर से लॉन्च की गई मनी लॉन्ड्रिंग स्कीम बताया। यहां एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान चिदंबरम ने कहा कि यह सरकार अब अच्छे दिन की बात नहीं करती, अब विकास, नौकरियों, निवेश, ज्यादा आय या ग्रोथ की भी कहीं चर्चा नहीं है।

उन्होंने कहा कि आजकल हम जो भी चर्चा सुनते हैं वह केवल हिंदुत्व का अजेंडा है। चुनाव के ठीक बाद प्रधानमंत्री ने देश से सभी विवादित और विभाजनकारी मुद्दों को भूल विकास पर फोकस करने की अपील की थी। आज विकास या अच्छे दिन का वादा भुलाया जा सकता है। प्रधानमंत्री खुद विवादित मुद्दों को हवा देते हैं। आरएसएस, मंत्री से लेकर बीजेपी के नेता सभी विभाजनकारी मुद्दों पर बातें कर रहे हैं और लिख रहे हैं।

उन्होंने तंज भरे अंदाज में कहा कि इस बात पर कोई संदेह नहीं है कि देश की जनता ऐसे विकास पर गौर करेगी और जब उसे मौका मिलेगा वह उचित जवाब देगी। पूर्व वित्त मंत्री ने आगे कहा कि हाल में कर्नाटक में लोगों को मौका मिला था और उन्होंने कांग्रेस-जेडीएस के पक्ष में वोट किया। उसके बाद उपचुनावों में बीजेपी को तगड़ा झटका लगा। अब बीजेपी और आरएसएस के लोग हिंदुत्व के अजेंडे को हवा दे रहे हैं। अगले कुछ हफ्ते काफी महत्वपूर्ण रहने वाले हैं।

मूर्ति पर कहा, सरकार फेल
एक सवाल के जवाब में चिदंबरम ने कहा कि साढ़े चार साल पहले उन्होंने विकास, नौकरियों और ग्रोथ की बात की थी। उन्होंने इनमें से कुछ भी हासिल नहीं किया था। ऐसे में अब वे हिंदुत्व, विशाल मंदिर, भव्य मूर्तियों की बात कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि केंद्र मोदी सरकार पूरी तरह से फेल रही है।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

कोरोना विस्फोट के बीच क्या लगेगा लॉकडाउन? पीएम मोदी की आज बड़ी बैठक

नई दिल्ली 19 अप्रैल 2021 । कोरोना की दूसरी लहर की वजह से देश में …