मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> कमलनाथ ने जोड़े हाथ और मांगी माफी

कमलनाथ ने जोड़े हाथ और मांगी माफी

 भोपाल 19 जून 2019 । मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में आज अपनी मांगों को लेकर आदिवासियों ने धरना प्रदर्शन किया था , जिसमें पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान भी पहुंचे थे। प्रदर्शन में शिवराज ने सरकार पर बड़ा हमला बोला था और मांगे पूरी ना होने पर धरना जारी रखने और आंदोलन की चेतावनी दी थी।मुख्यमंत्री कमलनाथ को जब इस धरना प्रदर्शन की जानकारी लगी तो उन्होंने आदिवासियों को बुलाया था ।

इस वार्ता में आदिवासियों के प्रमुख नेताओं के साथ शिवराज भी कमलनाथ से मिलने मंत्रालय पहुंचे थे। यहां उन्होंने अपनी मांगे रखी और सीएम ने सभी मांगो को पूरा करने का आश्वासन दिया।वही आदिवासियों ने अपनी मांगें पूरी होने के बाद विजय जुलूस भी निकाला।शिवराज ने खुद इसकी जानकारी मीडिया को दी है। उन्होंने कहा कि सीएम ने आदिवासियों की सभी मांगे पूरी होने का विश्वास दिलाया है। उन्होंने कहा कि सरकार के होश ठिकाने आ गए, अक्ल ठिकाने लग गई। आदिवासी अभी संतुष्ट हैं लेकिन प्रशासन गड़बड़ी न करे, हम कदम कदम पर लड़ेंगे और पीछे नहीं हटेंगे। शिवराज ने बताया कि भोपाल कलेक्टर ने आकर कहा कि सीएम बात करने को तैयार हैं चलो, तब जाकर हमने अफसरों के साथ सीएम से बात की।

मामा मुख्यमंत्री नहीं है लेकिन किसी से कम भी नहीं है।शिवराज ने कहा कि आदिवासियों का पसीना गिरेगा तो मामा खून बहाएगा। वन विभाग और आबकारी विभाग ने जो फर्जी मामले बनाए हैं, सरकार वो जांच के बाद वापस लेगी। वन जमीन पर गेहूं चना की तुलाई जो बची है, सरकार वो खरीदेगी। आदिवासी वन भूमि पट्टे से बेदखल नहीं किये जाएंगे। जमीन से कब्जा नहीं हटेगा, उसी जमीन पर रहेंगे। सरकार मक्का की फसल और कुए में ब्लास्टिंग की परमिशन भी देगी।पूर्व सीएम ने कहा कि मुख्यमंत्री ने पंचायतों का सीमांकन और तेंदूपत्ते को लेकर भी भरोसा दिलाया है। इससे पहले शिवराज धरना-प्रदर्शन में शामिल होने पहुंचे थे और सरकार पर जमकर निशाना साधा था । शिवराज ने कहा कि कमलनाथ गरीबों की हाय तुम्हें तबाह और बर्बाद करके रख देगी।

पकड़ना है तो बड़े माफियाओं को पकड़ों।वल्लभ भवन के दलालों पर कार्रवाई करो। अगर आदिवासियों के हक को किसी सरकार ने छिनने की कोशिश की तो हम उस सरकार को भी नही छोड़ेंगे। सुन ले सरकार अगर आदिवासी की जमीन पर हाथ लगाया तो हम छोड़ेंगे नही।अगर आदिवासियों की मांगे सरकार नहीं मानेगी तो हम आंदोलन करेंगे। आदिवासियों के साथ मैं लड़ूंगा चाहे प्राण भी क्यों न चले जाए। अगर हम आदिवासियों के हित में तीर कमान हाथ में उठाएंगे तो ज़िम्मेदारी तुम्हारी होगी।जीना है अपने हक़ में लड़ना सीखो और इनकी लड़ाई में लड़ूंगा।

भाजपा ने कांग्रेस पर बोला हमला, कमलनाथ सरकार पर लगाया वादाखिलाफी का आरोप, आंदोलन की दी चेतावनी

अपने कार्यकाल के 6 महीने पूरे होने पर प्रदेश की कमलनाथ सरकार जहां यह प्रचारित करने में लगी है कि उसने जनता से किए गए वादों को पूरा करना शुरू कर दिया है तो भाजपा, सरकार पर आरोप लगा रही है कि कांग्रेस जनता से किए गए वादे पूरे करने में नाकाम साबित हुई है। मंगलवार को इसी को लेकर भाजपा कार्यालय लोक शक्ति में पूर्व मंत्री और मौजूदा विधायक पारस जैन सहित विधायक मोहन यादव,महापौर मीना जोनवाल सहित भाजपा के पदाधिकारियों ने एक प्रेस वार्ता ली और प्रदेश की कमलनाथ सरकार पर जनता से वादाखिलाफी करने का आरोप लगाया।

पूर्व मंत्री पारस जैन के मुताबिक सरकार ढिंढोरा पीट रही है कि वादे के मुताबिक किसानों के कर्जे माफ कर दिए गए हैं लेकिन सच्चाई यह है कि किसान अभी भी कर्ज माफी के लिए भटक रहा है। उन्होंने आरोप लगाया गेहूं गेहूं खरीदी में भी किसानों के साथ नाइंसाफी हो रही है।पूर्व मंत्री पारस जैन ने कमलनाथ सरकार पर विधायकों का स्वेच्छानुदान मद कम करने का भी आरोप लगाया और कहा कि भाजपा के विधायकों के स्वेच्छा अनुदान प्रस्ताव स्वीकृत नहीं किए जा रहे हैं। उन्होंने चेतावनी दी अगर 1 महीने के अंदर प्रदेश सरकार ने अपने वचन पत्र में किए गए वादे पूरे नहीं किए तो वे उज्जैन से सरकार के खिलाफ आंदोलन शुरू करेंगे।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

चीन नहीं, हिमाचल में तैयार होगा दवाइयों का सॉल्ट, खुलेगा देश का पहला एपीआई उद्योग

नई दिल्ली 01 अगस्त 2021 । नालागढ़ के पलासड़ा में एक्टिव फार्मास्यूटिकल इनग्रेडिएंट (एपीआई) उद्योग …