मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> कमलनाथ सरकार का एक्शन, इन लोगों को नहीं मिलेगा 200 रूपए प्रतिमाह बिजली बिल का लाभ

कमलनाथ सरकार का एक्शन, इन लोगों को नहीं मिलेगा 200 रूपए प्रतिमाह बिजली बिल का लाभ

भोपाल 22 दिसंबर 2018 । संबल योजना में बिजली कंपनी को हर माह 12 करोड़ रुपए का फटका लग रहा है। सरकार बदलते ही बिजली कंपनी ने संबल योजना में रजिस्ट्रेशन कराने वाले उपभोक्ताओं की जांच शुरू कर दी है। प्रतिमाह 500 यूनिट से अधिक बिजली इस्तेमाल करने वाले उपभोक्ताओं को योजना से बाहर करने की तैयारी है।
मप्र पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी में एक लाख 8 हजार से अधिक उपभोक्ताओं ने संबल योजना के तहत रजिस्ट्रेशन करवाया था। कंपनी द्वारा ऐसे उपभोक्ताओं को 200 रुपए प्रतिमाह का बिल भेजा जा रहा है।
योजना के तहत बाकी की राशि सब्सिडी के रूप में राज्य सरकार से मिलना है। संबल योजना में ऐसे लखपति गरीबों का मुद्दा उठाया था, जिनके बड़े-बड़े मकान होने के बावजूद उन्होंने संबल योजना का लाभ ले लिया था। पत्रिका की खबर के बाद बिजली कंपनी ने पूरे मामले को लेकर शासन को पत्र लिखकर जानकारी उपलब्ध करवाई थी।
अब ऐसे उपभोक्ताओं को चिंहित कर कंपनी सूची तैयार कर रहा है, जिनकी खपत अधिक है। प्रथम चरण में 500 यूनिट से अधिक उपभोक्ताओं को संबल योजना के बाहर करने की तैयारी की जा रही है। सभी झोन प्रभारियों को ऐसे उपभोक्ताओं की सूची तैयार करने के निर्देश दिए हैं।

200 भी नहीं भर रहे
संबल योजना का लाभ उठाने वाले कई उपभोक्ता 200 रुपए का बिल भी नहीं भर रहे हैं। पहले से घाटे में चल रही कंपनी का घाटा और बढ़ गया है। कंपनी को तीन माह से सब्सिडी की राशि भी नहीं मिल रही है। ऐसे में कंपनी ने शासन से योजना को लेकर निर्देश मांगा है कि कितनी यूनिट तक का बिल इस योजना में मान्य होगा।

यूनिट सीलिंग का फॉर्मूला होगा तैयार
योजना के तहत बड़ी संख्या में लोगों ने रजिस्ट्रेशन करवा लिया है। कई उपभोक्ता है जिनके बड़े-बड़े मकान हैं और अधिक यूनिट की खपत भी दर्ज हो रही है। सभी जोन पर ऐसे अधिक खपत वाले उपभोक्ताओं की सूची तैयार की जा रही है। शासन से चर्चा कर यूनिट सीलिंग का फार्मूला भी तैयार किया जा रहा है। प्रथम चरण में 500 यूनिट वाले उपभोक्ताओं की सूची तैयार की जा रही है।

मध्यप्रदेश में कांग्रेस के इस फैसले से, बीजेपी में खुशी की लहर, शिवराज सिंह ने जताया आभार

मध्य प्रदेश में सत्ता बदलते ही बदलाव का भी नया दौर शुरू हो गया। मध्य प्रदेश के नवनिर्वाचित मुख्य मंत्री कमलनाथ ने आदेश दिया, कि 25 से 30 दिसंबर तक मध्य प्रदेश में सुशासन सप्ताह मनाया जाएगा। फिलहाल दोस्तों आपकी जानकारी के लिए बता दूं, कि यह बीजेपी के लिए किस तरह से खास बात है।

दरअसल, पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय श्री अटल बिहारी बाजपेई का 25 दिसंबर को जन्मदिन मनाया जाता है। इसी उपलक्ष में पूरे देश में इस दिन को सुशासन दिवस के रूप में बीजेपी अभी तक मनाती आ रही है, इसलिए मध्य प्रदेश में 25 से 30 दिसंबर को सुशासन सप्ताह मनाया जाएगा, इस दौरान राज्य के मुख्य अधिकारी तथा कर्मचारी 24 दिसंबर को प्रदेश में सुशासन स्थापित रखने के लिए अटल बिहारी बाजपेई जी की फोटो के सामने शपथ लेंगे, मध्यप्रदेश में नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री कमलनाथ जी के इस आदेश के बाद पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उनका आभार जताया है, जानकारी के लिए बता दूँ, पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी जी का इसी साल लगभग 3 महीना पहले लंबी बीमारी के बाद देहांत हो गया था।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

बिना लगेज सफर करने वाले एयर पैसेंजर्स को किराए में छूट मिलेगी

नई दिल्ली 27 फरवरी 2021 ।  डोमेस्टिक एयर पैसेंजर्स को अब बैगेज नहीं ले जाने …