मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> केदारनाथ और वैष्णो देवी बर्फ से ढंके

केदारनाथ और वैष्णो देवी बर्फ से ढंके

नई दिल्ली 13 दिसंबर 2018 । पहाड़ों में इस मौसम की भारी बर्फबारी हो रही है। बुधवार को सामने आई तस्वीरों और जानकारी के अनुसार जहां केदारनाथ मंदिर बर्फ की चादर से ढक गया। वहीं वैष्णों देवी माता के त्रिकुटा पर्वतों के बाद भवन में भी मौसम की पहली बर्फबारी हुई। त्रिकुटा की पहाड़ियों पर बर्फ की सफेद चादर बिछने के बाद वैष्णो देवी भवन का प्रांगण और यात्रा मार्ग सफेद हो उठा है। हिमाचल प्रदेश में भी भारी बर्फबारी के कारण रास्ते बंद हो गए और मशक्कत के बाद खोला जा सका।खबरों के अनुसार श्रद्धालु माता के दर्शनों के साथ-साथ बर्फबारी का भी पूरा आनंद उठा रहे हैं। बारिश के कारण कटरा में भी ठंड बढ़ गई है। भवन मार्ग पर सर्द हवाएं चल रही है। बारिश और बर्फबारी के बीच यात्रा फिलहाल सामान्य तरीके से चल रही है। सर्दियों की यह भवन पर पहली बर्फबारी हुई है। बारिश और बर्फबारी के कारण कटरा से भवन तक चॉपर सेवा भी सस्पेंड कर दी गई है। ऐसे में श्रद्धालुओं को कुछ दिक्कतों का सामना भी करना पड़ा। खराब मौसम के कारण चॉपर ने सुबह से एक भी उड़ान नहीं भरी है। हांलाकि पैदल यात्रा बिना बाधा के जारी है।

अद्धकुंवारी से भवन तक चलने वाली बैटरी कार सेवा भी बंद है। मौसम विभाग के अनुसार अभी एक-दो दिन तक मौसम इसी तरह रहने की संभावना है। माता वैष्णो देवी मार्ग पर पहले तो हल्की बर्फबारी हो रही थी परंतु जैसे ही इसमें इजाफा हुआ मां वैष्णो देवी के दर्शनों के लिए भवन की ओर बढ़ रहे श्रद्धालुओं या फिर दर्शन कर वापिस कटड़ा की ओर जा रहे श्रद्धालुओं में खुशी की लहर दौड़ गई।

मस्ती और सेल्फी का दौर भी शुरू हो गया। बर्फ गिरने लगी तो युवाओं ने मस्ती करने का मौका नहीं छोड़ा। ढेरों लोग सेल्फी लेते और वैष्णों देवी का मनोरम दृश्य अपने मोबाइल कैमरों में कैद करते नजर आए।बारिश और बर्फबारी के बाद कटड़ा व श्री माता वैष्णो देवी यात्रा मार्ग पर शीतलहर के चलते तापमान में गिरावट आई है। वहीं जमीनी इलाकों में यह काम हल्की बारिश ने कर दिया। त्रिकुटा की पहाड़ियां, मां वैष्णो देवी का भवन जब बर्फ की सफेद चादर से लिपट गई हैं।

हिमाचल प्रदेश में भारी बर्फबारी के चलते ऊंची चोटियां बर्फ की चादर से ढक गई। शिमला, मनाली, शिकारी देवी और कमरूना में बर्फ गिरी है। चंबा के भरमौर और सिरमौर के हरिपुरधार में सीजन की पहली बर्फबारी हुई है। इससे समूचा प्रदेश शीत लहर की चपेट में आ गया है।

बर्फबारी के कारण 100 के करीब रूट प्रभावित हुए हैं और लोगों को कई किलोमीटर पैदल ही अपने गंतव्य तक पहुंचना पड़ा। जबकि कुछ क्षेत्रों में लोग रास्तों में ही फंसे हुए हैं। भारी बर्फ की वजह से पहाड़ी इलाकों में जन जीवन मुश्किल हो गया है। भारी बर्फबारी के कारण कुफरी, नारकंडा और हिंदुस्तान तिब्बत मार्ग को बंद कर दिया गया है।

उत्तराखंड में मौसम ने ली करवट। चार धाम के साथ ही मसूरी और आस पास की पहाड़ियों में हिमपात। अधिकांश जिलों में कल सुबह से हो रही है रिमझिम बारिश। तापमान गिरने से समूचे राज्य में ठंडक बढ़ी। मौसम विभाग के अनुसार अगले 2 दिन बारिश के बने रहेंगे आसार।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

पिता को 3 साल बाद पता चला कि बेटी SI नहीं है, नकली वर्दी पहनती है

जबलपुर 20 अप्रैल 2021 । मध्य प्रदेश के जबलपुर जिले के एक पिता ने कटनी एसपी …