मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> हमें मार दीजिए चाहे गाड़ दीजिए, फर्क नहीं पड़ता; लखीमपुर जाने की जिद में राहुल

हमें मार दीजिए चाहे गाड़ दीजिए, फर्क नहीं पड़ता; लखीमपुर जाने की जिद में राहुल

नई दिल्ली 6 अक्टूबर 2021 । उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा के मुद्दे पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की। इस दौरान राहुल गांधी ने सीधे तौर पर उत्तर प्रदेश सरकार और केंद्र को निशाने पर लेते हुए कहा कि किसानों पर सरकार का आक्रमण हो रहा है। किसानों को जीप से कुचला जा रहा है। राहुल ने पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए यह भी कहा कि पीएम लखनऊ गए लेकिन लखीमपुर नहीं गए। प्रियंका गांधी के साथ हुई धक्का-मुक्की के सवाल पर राहुल गांधी ने कहा कि यह किसानों का मुद्दा है। प्रियंका के साथ धक्का-मुक्की हुई इससे हमें कोई फर्क नहीं पड़ता। राहुल ने आगे कहा कि हमें मार दिया जाए, गाड़ दिया जाए, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता…हमारी ट्रेनिंग ऐसी हुई है। यह किसानों का मुद्दा है। मैं लखनऊ जाकर जमीनी हकीकत पता करना चाहता हूं।

‘किसानों पर योजनागत तरीके से हमला किया जा रहा’

राहुल ने इस दौरान कहा कि सरकार किसानों की ताकत नहीं समझ पा रही है। उन्होंने कहा कि तीनों कृषि कानून किसानों पर हमला है। राहुल ने कहा कि पूरे देश के किसानों पर योजनागत तरीके से हमला हो रहा रहा, पहले भूमि अधिग्रहण बिल वापस किया गया और फिर तीन काले कानून लाए गए। राहुल ने कहा कि यूपी में किसानों को मारा जा रहा है। इस सरकार में जो रेप करते हैं, किसानों को मारते हैं वे जेल से बाहर रहते हैं और जो कुछ नहीं करते उन्हें जेल में डाला जा रहा है। राहुल गांधी को दौरे की परमिशन नहीं

लखीमपुरी खीरी हिंसा के पीड़ित परिवारों से मिलने के लिए गईं प्रियंका गांधी को मंगलवार गिरफ्तार कर लिया गया था। आज राहुल गांधी भी लखीमपुर खीरी जाने वाले हैं। हालांकि, इलाके में धारा 144 लगी होने की वजह से उत्तर प्रदेश सरकार ने उन्हें इस दौरे की परमिशन नहीं दी है। लखनऊ पुलिस कमिश्नर डीके ठाकुर ने राहुल के दौरे को लेकर कहा, ‘सरकार ने राहुल गांधी को मंजूरी नहीं दी है। अगर वह लखनऊ आएंगे, तो हम उनसे एयरपोर्ट पर निवेदन करेंगे कि वह लखीमपुर खीरी और सीतापुर नजाएं। लखीमपुर और सीतापुर के एसपी-डीएम ने कानून-व्यवस्था को ध्यान में रखते हुए हमसे राहुल गांधी को रोकने को कहा है।’राहुल ने कहा कि हम तीन लोग जा रहे हैं। सेक्शन 144 तब लागू होता है, जब 4 या फिर उससे ज्यादा लोग एक साथ हों। उत्तर प्रदेश में यह नए तरह की राजनीति है, जहां पीड़ित जेल के अंदर होते हैं और मारने वाले बाहर होते हैं। इससे पहले हाथरस कांड हुआ था और भाजपा के विधायक का भी रेप के मामले में नाम आया था। प्रियंका गांधी को लेकर राहुल गांधी ने कहा कि भले ही यूपी सरकार ने उन्हें बंद कर लिया है, लेकिन यह मामला किसानों का है। इस दौरान राहुल गांधी मीडिया पर भी बरसते दिखे। उन्होंने कहा कि यह तो आपका काम है और उस जिम्मेदारी को आप लोग उठाते नहीं है। उल्टे आप लोग हमसे ही सवाल पूछते हैं कि राजनीति हो रही है। ‘देश की आवाज को कुचला जा रहा’

राहुल गांधी ने कहा कि कभी देश में लोकतंत्र हुआ करता था, लेकिन आज तानाशाही का दौर है। नेता उत्तर प्रदेश में नहीं जा सकते। हमें कल से कहा जा रहा है कि आप यूपी नहीं जा सकते। छत्तीसगढ़ के सीएम को कहा जाता है कि सेक्शन 144 लागू है। ये कहते हैं कि मैं अकेला हूं तो कैसे यह नियम लागू होगा। लेकिन उन्हें परमिशन नहीं दी गई, यही तानाशाही है। राहुल गांधी ने कहा कि हिन्दुस्तान की आवाज को कुचलने का काम हो रहा है। उन्होंने आरोप लगाया कि देश के ढांचे पर भाजपा और आरएसएस ने कब्जा कर लिया है। सभी संस्थाओं को नियंत्रित किया गया है।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

नरेश पटेल की एंट्री के कयास ने लिखी हार्दिक पटेल के एग्जिट की पटकथा

नयी दिल्ली 18 मई 2022 । कांग्रेस से लंबे समय से नाराज चल रहे गुजरात …