मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> कर्नाटक में बजरंग दल कार्यकर्ता की हत्या: दो दिन और बढ़ाई गई धारा 144, स्कूल भी रहेंगे बंद

कर्नाटक में बजरंग दल कार्यकर्ता की हत्या: दो दिन और बढ़ाई गई धारा 144, स्कूल भी रहेंगे बंद

नयी दिल्ली 22 फरवरी 2022 । कर्नाटक के शिमोगा में बजरंग दल के कार्यकर्ता के हत्या मामले में बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा है। जिला प्रशासन ने इलाकों में धारा 144 की अवधि शुक्रवार तक बढ़ा दी है। जबकि कर्फ्यू सुबह 6 बजे से रात नौ बजे तक रहेगा। कर्नाटक में शिमोगा के उपायुक्त डॉ. सेल्वामणि ने जानकारी दी कि जिले में कर्फ्यू दो दिन और बढ़ाकर शुक्रवार तक कर लिया गया है। इस दौरान सुबह छह बजे से नौ बजे तक कर्फ्यू रहेगा। धारा 144 की अवधि भी शुक्रवार तक बढ़ा दी गई है। इन दिनों स्कूल भी बंद रहेंगे। देश में इन दिनों चुनावों का मौसम चल रहा है। यहां पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव हो रहे हैं तो वहीं इसके अलावा कई राज्यों में स्थानीय निकाय के भी चुनाव चल रहे हैं। इस बीच प्रत्याशियों के कई अजीबोगरीब कारनामे भी सामने आ रहे हैं। हाल ही में तमिलनाडु से एक ऐसी घटना सामने आई जहां स्थानीय चुनाव में एक प्रत्याशी ने अपने वोटर्स को लुभाने के लिए सोने के सिक्के बांट दिए। लेकिन मतदान के बाद वे सभी सिक्के नकली निकल आए। दरअसल, यह घटना तमिलनाडु के अंबुर की है। इंडिया टुडे की एक ऑनलाइन रिपोर्ट के मुताबिक इस प्रत्याशी का नाम मणिमेगालाई दुरईपंडी है और यहां प्रत्याशी पार्षद पद के लिए अंबुर के एक वार्ड से निर्दलीय खड़े हुए थे। यहां 19 फरवरी को चुनाव होना था और इन्होंने अपने समर्थकों के साथ मिलकर 18 की रात में इतना सघन प्रचार किया कि अपने मतदाताओं के लिए पैकेट में कुछ सिक्के लेकर पहुंच गए।

रिपोर्ट के मुताबिक प्रत्याशी और उनके पति ने अपने मतदाताओं को सिक्के बांटते हुए कहा कि यह सब सोने के हैं, इन्हें उपहार के रूप में रख लीजिए और वोट हमको ही दीजिए। उन्होंने मतदाताओं से यह भी कहा कि इन सिक्कों को दो तीन बाद उपयोग में लाना ताकि चुनाव निपट जाए और चुनाव आयोग को पता ना चले। उन्होंने मतदाताओं से मतगणना की तारीख तक इसे नहीं खोलने का अनुरोध किया था। इसी बीच वहां मतदान भी हो गया और इसके बाद रविवार को कुछ मतदाताओं ने अपने सिक्के को बेचने और गिरवी रखने का प्लान बनाया। जब वे दुकान पर गए तो उन्हें पता चला कि उनको सोने के नाम चूना लगा दिया गया है। वे सभी यह जानकर चौंक गए कि सिक्के सोने के नहीं बल्कि तांबे के थे। मतदाताओं का दावा है कि मणिमेगालाई दुरईपंडी ने सोने की पतली परत से लिपटे तांबे के सिक्के दिए थे। फिलहाल उस वार्ड के सभी मतदाता ठगे के ठगे रह गए, इस मामले में प्रशासन की तरफ से कोई बयान नहीं आया है।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

ज्ञानवापी मस्जिद का सर्वे पूरा, हिंदू पक्ष ने किया दावा-‘बाबा मिल गए’; कल कोर्ट में पेश होगी रिपोर्ट

नयी दिल्ली 16 मई 2022 । ज्ञानवापी मस्जिद का सर्वे पूरा हो गया है। तीसरे …