मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> नेतृत्व को हार और विफलताओं की भी जिम्मेदारी लेनी चाहिए: नितिन गडकरी

नेतृत्व को हार और विफलताओं की भी जिम्मेदारी लेनी चाहिए: नितिन गडकरी

नई दिल्ली 23 दिसंबर 2018 । तीन हिंदी भाषी राज्यों में हाल में भाजपा की हार के बाद केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने शनिवार को कहा कि ‘नेतृत्व’ को ‘हार और विफलताओं’ की भी जिम्मेदारी लेनी चाहिए. साफगोई के लिये चर्चित भाजपा नेता ने कहा कि सफलता की तरह कोई विफलता की जिम्मेदारी नहीं लेना चाहता. गडकरी ने कहा, ‘सफलता के कई दावेदार होते हैं लेकिन विफलता में कोई साथ नहीं होता. सफलता का श्रेय लेने के लिये लोगों में होड़ रहती है लेकिन विफलता को कोई स्वीकार नहीं करना चाहता, सब दूसरे की तरफ उंगली दिखाने लगते हैं.’

वह यहां पुणे जिला शहरी सहकारी बैंक असोसिएशन लिमिटेड द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में बोल रहे थे. गडकरी ने कहा कि राजनीति में जब भी हार होती है तब कमेटी बैठती है लेकिन जब जीत मिलती है तो कोई पूछने वाला नहीं होता है क्योंकि जीत के सभी हकदार होते हैं, हार की जिम्मेदारी लेने को कोई तैयार नहीं होता.

गडकरी ने कहा के राजनीति में विधानसभा और लोकसभा चुनाव में मिली हार के बाद प्रत्याशी मिलने पर बहाना बनाते हैं कि पोस्टर नहीं मिला, पार्टी से पैसा मांग रहा था तो नहीं दिया. बड़े नेता की सभा मांगी थी तो वो भी नहीं हुई, कैंसिल कर दी. इस प्रकार सारा वातावरण खराब कर दिया और इन सब कारणों की वजह से हार हुई है. गडकरी बोले, ‘मैंने ऐसे नेताओं से कहा कि आप चुनाव हारे क्योंकि इसमें पक्ष और आप खुद लोगों का विश्वास पाने में पीछे रह गए और इसीलिए आपकी हार हुई. इसलिए अपने हार की जिम्मेदारी खुद लो दूसरो पर जिम्मेदारी मत डालो.

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

फ्रांस से भारत आएंगे 4 और राफेल लड़ाकू विमान, 101 स्क्वाड्रन को फिर से जिंदा करने के लिए IAF तैयार

नई दिल्ली 15 मई 2021 । राफेल लड़ाकू विमान का एक और जत्था 19-20 मई …