मुख्य पृष्ठ >> अंतर्राष्ट्रीय >> जानें क्यों चीनी लड़कियों से शादी कर चीन में बसने लगे हैं भारतीय लड़के

जानें क्यों चीनी लड़कियों से शादी कर चीन में बसने लगे हैं भारतीय लड़के

नई दिल्ली 2 मई 2019 । ये झेंग मोमो और राजशेखर सिंह हैं. राजशेखर चीन में पढ़ने गए थे. वहीं उन्हें मोमो से प्यार हो गया. उन दोनों ने शादी का फैसला किया. इन दोनों की शादी अब दस साल की हो गई है. मोमो की एक ही शर्त थी कि वो शादी के बाद अपने देश में ही रहेंगी. भारतीय लड़के अच्छी खासी संख्या में मेडिकल और दूसरे कई कोर्सों की पढाई करने करने चीन की यूनिवर्सिटी में जाते हैं. पढाई के दौरान अक्सर उन्हें चीनी लड़कियों से प्यार हो जाता है. इनमें से कई के प्यार शादी में तब्दील हो जाते हैं.

हां, शादी में एक ही संकट होता है कि कोई भी चीनी लड़की उनके साथ भारत आकर घर नहीं बसाना चाहती, लिहाजा उन्हें वहीं रुकना होता है. हालांकि शादी के बाद भी भारतीय लड़कों को चीन की नागरिकता कभी नहीं मिलती. बल्कि एक परमिट मिल जाता है, जो हर साल के लिहाज से रिन्यू होता रहता है. हालांकि राजशेखर और मोमो के मामले में कुछ अलग हुआ, वो शादी के कुछ साल तो चीन में रहे. फिर वहां से अमेरिका चले गए.(साभार-चाइना डेली)

अक्सर भारतीय दुल्हे चीन में ही परंपरागत तरीके से शादी भी करना पसंद करते हैं. वो भारत से अपने रिश्तेदारों, पुजारी और केटरिंग करने वालों को बुला लेते हैं. चीनी लड़कियां भारतीय लड़कों को इसलिए भाती हैं. इसकी वजह ये भी है कि वो आमतौर पर पढीलिखी और ओपन होती हैं.

आमतौर पर अगर भारतीय लड़के और चीनी लड़कियों में शादी हो रही होती है तो ये दोनों तरीके से की जाती है. यानि भारतीय पद्धति से भी और फिर परंपरागत चीनी तरीके से भी.

अक्सर जब भारतीय लोग चीन जाकर परंपरागत तरीके से शादी करते हैं, तो ऐसे दृश्य भी देखे जाते हैं, जहां वैसे ही रीतिरिवाज वर और वधू पक्ष के बीच होते हैं, जैसा हम भारतीय शादियों में देखते हैं. जैसा आप देख ही रहे हैं कि शादी की रस्में शुरू हो चुकी हैं और चीनी लड़की की मां उत्सुकता से इन्हें देख रही हैं.

चीनी दुल्हन की मां दूल्हे का स्वागत कर रही हैं. टीका लगाकर वर का स्वागत. इसके बाद आरती उतारी जाएगी

फिर दूल्हे और दुल्हन के पिताओं का मिलन. दोनों ने नए रिश्ते में बंधने पर एक दूसरे के प्रति आभार जाहिर किया

पंडित जी खासतौर पर भारत से वहां शादी कराने पहुंचे थे. वर-वधू ने एक दूसरे के साथ जीवन निभाने का वादा किया और सात फेरे लिये.

और फिर शादी के बाद दावत भी खास भारतीय अंदाज में हुई..हर किसी ने भारतीय स्वाद का लुत्फ उठाया. चीन में भारतीय छात्र बड़ी संख्या में पढाई करने जाते हैं. इसमें से कई वहीं की लड़कियों के साथ शादी करके बस जाते हैं. एक अंदाज के अनुसार 48 हजार भारतीय चीन में रहते हैं. दरअसल चीन की मेडिकल और इंजीनियरिंग की पढाई कमोवेश सस्ती है. फिर यहां पढाई के बाद जॉब भी आसानी से मिल जाती है.

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

राहुल ने जारी किया श्वेतपत्र, बोले- तीसरी लहर की तैयारी करे सरकार

नई दिल्ली 22 जून 2021 । कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस …