मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> रेप के मामले में मध्य प्रदेश नंबर वन

रेप के मामले में मध्य प्रदेश नंबर वन

भोपाल 23 अक्टूबर 2019 । मध्य प्रदेश के मंत्री पीसी शर्मा का बयान- बीजेपी सरकार सिर्फ घोषणाएं करती रही उसी का परिणाम है कि रेप के मामले में मध्यप्रदेश नंबर वन है, हमारी सरकार महिला अपराध रोकने के लिए प्रयासरत है, नई तकनीक से महिला अपराध को रोका जाएगा, आने वाले समय में इसका रिजल्ट भी दिखाई देगा।

मध्य प्रदेश में बेरोजगारी दर घटने के मामले पर बोले मंत्री शर्मा, छिंदवाड़ा मॉडल से घटी है बेरोजगारी दर, अब छिंदवाड़ा मॉडल को मध्य प्रदेश के दूसरे जिलों में भी किया जाएगा लागू, हर स्तर पर होगा प्रयास, कमलनाथ जी ने काम ज्यादा किया गिनाया है कम, आने वाले दिनों में और घटेगी बेरोजगारी, नगर निगम परिसर की परिषद बैठक पर बोले मंत्री पीसी शर्मा, बैठक से नहीं पड़ेगा सरकार को कोई फर्क, सरकार ने फैसला ले लिया है, अब सिर्फ दो नगर निगम का होगा बंटवारा, *प्रदेश कर्मचारियों की चल रही हड़ताल पर बोले मंत्री, कर्मचारियों की हड़ताल टोकन है सिर्फ हमें अपने वचन याद दिलाने के लिए, सरकार उनकी मांगों पर विचार कर रही है और उनकी मांगों को जल्द मान लिया जाएगा

भोपाल: दो नगर निगम बनाने का प्रस्ताव खारिज

भोपाल में अब एक ही नगर निगम रहेगा. नगर निगम परिषद ने अपने इस फैसले पर मोहर लगा दी. भारी हंगामे के बीच सदस्यों ने भोपाल में दो नगर निगम ना बनाने का प्रस्ताव बहुमत से पास कर दिया.

भोपाल में दो नगर निगम बनाने का फैसला लेने के संबंध में नगर निगम परिषद की विशेष बैठक बुलायी थी. पहले से ही अनुमान था कि बीजेपी शासित नगर निगम परिषद में भोपाल में दो नगर निगम बनाने का प्रस्ताव खारिज हो सकता है. ऐसा ही हुआ भी. परिषद ने दो नगर निगम बनाने का प्रस्ताव बहुमत से खारिज कर दिया.

नगर निगम में कांग्रेस अल्पमत में है. बैठक शुरू होते ही विपक्ष में बैठे कांग्रेस पार्षद सदन में आसंदी के सामने धरने पर बैठ गए और रघुपति राघव राजाराम गाना शुरू कर दिया. इसका जवाब बीजेपी की महिला पार्षदों ने दिया. उन्होंने गाया-कांग्रेस को सद्बुद्धि दे भगवान. कांग्रेस पार्षदों ने जय-जय कमलनाथ के नारे लगाने शुरू किए तो बीजेपी सदस्यों ने भारत माता की जय के नारे लगाए ।

पंचायत के कर्मचारी के पास मिली 50 लाख की सम्पत्ति
जिला पंचायत में सहायक परियोजना अधिकारी भूपेंद्र पांडेय के घर दक्षिण करौंधिया में मंगलवार सुबह 7 बजे लोकायुक्त की टीम कार्रवाई करने पहुंची।

इनके खिलाफ आय से अधिक संपत्ति होने की शिकायत मिली थी। पांडेय की पत्नी टीचर है। करीब 25 सदस्यीय टीम कार्रवाई को अंजाम दे रही है। यह बात भी सामने आ रही है कि वे यहां पिछले 5 वर्षों से सहायक परियोजना अधिकारी के पद पर हैं। अनुपातहीन संपत्ति को लेकर लोकायुक्त पुलिस द्वारा इनकी गोपनीय जांच भी करवाई गई थी। कार्रवाई करने वाली टीम में एक डीएसपी और 3 टीआई समेत अन्य अधिकारी-कर्मचारी शामिल हैं। लोकायुक्त एसपी राजेंद्र वर्मा ने बताया कि भूपेंद्र पांडेय के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति को लेकर शिकायत मिली थी।

शुरुआती जांच में पचास लाख की संपत्ति मिलने का खुलासा हुआ है। इसमें दो मंजिला मकान, एक प्लॉट सहित अन्य चीजें शामिल हैं। बताया जा रहा है कि सहायक परियोजना अधिकारी के पद पर अटैच भूपेंद्र पांडे का मूल पद शिक्षक है। भूपेंद्र पांडे की पत्नी ममता पांडे शासकीय हाई सेकेंडरी स्कूल पनवार में शिक्षिका पद पर पदस्थ है। लोकायुक्त केस कार्यवाही के बाद शिक्षक जगत में हड़कंप मच गया है वही अधिकारी कर्मचारी चुप्पी साधे हुए हैं। लोकायुक्त टीम के पास आय से अधिक संपत्ति मामले की शिकायत पिछले 3 वर्षों से चल रही थी। जिसकी जांच लोकायुक्त द्वारा कराई गई जिसके बाद यह कार्रवाई की गई है।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

सुनील गावस्कर ने बताया, महेंद्र सिंह धोनी के बाद कौन सा बल्लेबाज नंबर-6 पर बेस्ट फिनिशर की भूमिका निभा सकता है

नयी दिल्ली 22 जनवरी 2022 । दक्षिण अफ्रीका दौरे पर टेस्ट के बाद भारत को …