मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> महाकाल विस्तारीकरण: 17 मकानों को हटाने का काम शुरू

महाकाल विस्तारीकरण: 17 मकानों को हटाने का काम शुरू

उज्जैन 29 दिसंबर 2021 । महाकाल विस्तारीकरण योजना के अंतर्गत स्मार्ट सिटी द्वारा लगातार विकास कार्य किया जा रहा है। इससे पहले भी महाकाल विस्तारीकरण योजना की जद में आ रहे मकान-दुकानों को हटाया गया था। मंगलवार को 17 मकानों को हटाने की कार्यवाही नगर निगम गैंग की मदद से प्रशासन द्वारा पुलिस फोर्स तैनात कर शुरू की गई। हालांकि इस दौरान अधिकांश मकान मालिकों ने अपना समान स्वयं ही हटाया। महाकाल विस्तारीकरण योजना के अंतर्गत उज्जैन स्मार्ट सिटी कंपनी और महाकाल मंदिर प्रबंधन समिति मंदिर के पास 70 मीटर के दायरे में 13,145 वर्ग मीटर भूमि और उस पर बने 152 घरों का अधिग्रहण कर रही है। प्रथम चरण में महाकाल मंदिर के सामने बने 11 मकान और त्रिवेणी संग्रहालय से चारधाम मंदिर पहुंच मार्ग के बीच बने 11 मकानों के अधिग्रहण की कार्रवाई की गई थी। वहीं अब बेगमबाग क्षेत्र के 17 मकानों को हटाने की कार्यवाही की गई है। काम के टारगेट पर ध्यान
काशी विश्वनाथ के बाद महाकालेश्वर मंदिर के विकास के लोकार्पण की तैयारी प्रधानमंत्री से करवाई जा सकती है, यहीं कारण है कि महाकाल विस्तारीकरण योजना के कार्यों में तेजी शुरू दिखाई दे रही है। महाकाल पथ को फरवरी तक पूरा करने का प्रशासन का टारगेट है। एसडीएम संजय साहू ने बताया कि स्मार्ट सिटी के तहत रोड चौड़ा होना है। इसके चलते बेगमबाग नाले के पास बने 17 मकानों को चिन्हित किया गया था। मकान मालिकों को पंवासा मल्टी में मकान दिए गए है। निगम अमले ने पुलिस फोर्स की मौजूदगी में 12 मकानों को आंशिक और 5 मकानों को पूरी तरह जमींदोज कर दिया है। संस्कृति, कलात्मक और हेरिटेज लुक
महाकाल विस्तारीकरण योजना के प्रथम चरण में महाकाल और उसके आसपास स्मार्ट सिटी के लगभग 224 करोड़ रूपए के विकास कार्य चल रहे है, जिसमें 900 मीटर लंबा महाकाल कॉरिडोर भी शामिल है। जिसकी चौड़ाई लगभग 12 मीटर तय की गई है। वहीं मंदिर समिति द्वारा फेसिलिटी सेंटर भी बनाया जा रहा है। स्मार्ट सिटी द्वारा चलाये जा रहे वर्तमान कार्य 80 प्रतिशत तक पूरे हो चुके है, शेष कार्यों को फरवरी तक पूरा करने का टारगेट तय किया गया है। महाकाल विस्तारीकरण योजना के अंतर्गत संस्कृति, कलात्मक और हेरिटेज लुक पर ज्यादा ध्यान दिया जा रहा है। खासकर महाकाल कॉरिडोर जूता स्टैंड, क्लॉक रूम, वेटिंग रूम, रेस्टोरेंट, पेयजल और अन्य सुविधाएं होंगी। पब्लिक प्लाजा में यात्रियों के लिए कियोस्क, टिकट काउंटर, टॉयलेट्स ब्लॉक आदि की सुविधा प्रदान की जायेगी।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

‘राजपूत नहीं, गुर्जर शासक थे पृथ्वीराज चौहान’, गुर्जर महासभा की मांग- फिल्म में दिखाया जाए ‘सच’

नयी दिल्ली 21 मई 2022 । राजस्थान के एक गुर्जर संगठन ने दावा किया कि …