मुख्य पृष्ठ >> अंतर्राष्ट्रीय >> महाराष्ट्र सरकार बनाएगी जम्मू कश्मीर में रिजॉर्ट

महाराष्ट्र सरकार बनाएगी जम्मू कश्मीर में रिजॉर्ट

नई दिल्ली 4 सितम्बर 2019 । जम्मू कश्मीर को लेकर महाराष्ट्र सरकार ने बड़ा फैसला किया है. महाराष्ट्र कैबिनेट बैठक में फैसला लिया गया है कि कश्मीर में महाराष्ट्र टूरिज्म डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन (MTDC) के 2 टूरिस्ट रिजॉर्ट होंगे. महाराष्ट्र के पर्यटन मंत्री जयकुमार रावल के मुताबिक जम्मू में पहलगाम और लद्दाख में अगले 15 दिन में जगह को लेकर सर्वे किया जाएगा.  फिलहाल इसके लिए अभी 1-1 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है. इसके साथ ही अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद जम्मू कश्मीर में रिजॉर्ट बनाने वाला महाराष्ट्र पहला राज्य बन जाएगा. कहा जा रहा है कि इससे अमरनाथ और वैष्णो देवी जाने वाले पर्यटकों और श्रद्धालुओं को फायदा होगा.  जब अनुच्छेद 370 को कमजोर करने का फैसला केंद्र सरकार ने लिया था, तभी महाराष्ट्र सरकार के पर्यटन विभाग ने घोषणा की थी कि कश्मीर में रिजॉर्ट खोले जाएंगे. महाराष्ट्र सरकार के पर्यटन विभाग ने घोषणा की थी कि जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में महाराष्ट्र टूरिज्म डेवेलपमेंट कॉर्पोरेशन (एमटीडीसी) के रिजॉर्ट खोलेगा. महाराष्ट्र के पर्यटन मंत्री जयकुमार रावल ने कहा था कि हम लद्दाख और जम्मू-कश्मीर में एमटीडीसी के रिजॉर्ट खोलने की तैयारी में हैं. जैसे ही दोनों राज्यों में उप-राज्यपाल की नियुक्ति होगी, हम कोशिश करेंगे कि वहां जमीनें खरीद सकें. हम हर केंद्र शासित प्रदेशों में जमीनें खरीद सकते हैं. लेकिन, अनुच्छेद 370 और 35-ए की वजह से कश्मीर में जगह खरीदना असंभव था.

दोगुनी हो जाएगी वायुसेना की ताकत
भारत को फ्रांस से अपना पहला राफेल लड़ाकू विमान 20 सितंबर को मिलने जा रहा है. इससे भारत की वायुसेना की ताकत दोगुनी हो जाएगी. जब रफाल आसमान को चीरकर गुजरेगा तो दुश्मनों के दिल दहल जाएंगे. राफेल परमाणु हमला करने में सक्षम है. पाकिस्तान का F-16 जेट राफेल के सामने पुराना है. साथ ही यह बेहद छोटे रनवे से उड़ान भरने में सक्षम है. राफेल दुनिया का सबसे आधुनिक एयरक्राफ्ट है.राफेल आधुनिक और उन्नत तकनीकी से लैस है.

जानकारी के अनुसार, 20 सितंबर को राजनाथ सिंह और बीएस धनोआ की मौजूदगी में राफेल जेट विमान भारतीय वायुसेना को सौंपा दिया जाएगा. भारतीय वायुसेना के मुताबिक, फ्रांस के अधिकारी वहां रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, वायुसेना चीफ बीएस धनोआ और कई रक्षा अधिकारियों की मौजूदगी में राफेल विमान को भारत को देंगे. दरअसल, सितंबर 2016 में भारत और फ्रांस के बीच 36 राफेल विमान खरीदने को लेकर डील हुई थी. इन विमानों की कीमत 7.87 बिलियन यूरो तय की गई थी.
उल्‍लेखनीय है कि भारतीय वायुसेना राफेल जेट विमान को उड़ाने के लिए 24 पायलटों इसके लिए ट्रेनिंग देगा. इसके बाद राफेल विमान पहली बार देश की सुरक्षा के लिए उड़ाने को तैयार होंगे. सभी पायलट तीन बैचों में ट्रेनिंग लेंगे. बताया जा रहा है कि भारतीय वायुसेना राफेल विमान की एक-एक टुकड़ी को हरियाणा के अंबाला और पश्चिम बंगाल के हाशिमारा में अपने एयरबेस पर बनाने जा रही है.

पाकिस्तान सीमा पर 50 से ज्यादा आतंकियों का जमावड़ा, कश्मीर में दाखिल होने की साजिश!
जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) से धारा 370 हटने के बाद बौखलाया पाकिस्तान लगातार भारत में आतंकी साजिश के नए नए पैंतरे करने में जुटा हुआ है. लेकिन सीमा पर मुस्तैद भारतीय सुरक्षा एजेंसियां लगातार पाकिस्तान की साजिश का पर्दाफाश करने में लगी हैं. सोमवार को भारतीय सुरक्षा एजेंसियों ने लश्कर ए तैयबा के दो आतंकियों को पकड़ा था. लश्कर के इन 2 आतंकियों से सुरक्षा एजेंसियों की पूछताछ में बड़ा खुलासा हुआ है. ऐसा बताया जा रहा है कि पाकिस्तानी सेना बड़े पैमाने पर आतंकियों को कश्मीर में दाख़िल कराने की साजिश कर रही है. खबर है कि लाइन आफ कंट्रोल से कश्मीर में घुसपैठ कराने में पाक सेना की तीन पोस्ट जोहली, बर्गी और न्यू बाठला शामिल है.

पाक सेना के इन्ही पोस्ट के नजदीक खचरबन लांचिंग पैड के जरिये ये आतंकी कश्मीर में दाखिल हुए थे. खचरबन लांचिग पैड पर 50 से ज्यादा आतंकियों का जमावड़ा है जो पाकिस्तानी सेना की मदद से कश्मीर में दाखिल होने की साजिश कर रहे है. सुरक्षा बलों के हत्थे चढ़े दोनों आतंकियों की तस्वीर ZEE न्यूज के पास है. पकड़े गए दोनों आतंकी पाकिस्तान के हैं, जिनके नाम खलील अहमद और नाज़िम खोखर है. आतंकी खलील अहमद और नाजिम खोखर ने कबूल किया है कि रावलपिंडी में पाकिस्तानी सेना के मुख्यालय में उसकी मुलाकात पाकिस्तानी सेना के कुछ बड़े अधिकारियों से कराई गई थी. इसके बाद कश्मीर में हमले के लिए 7 आतंकियों के ग्रुप को तैयार किया गया. इन सात आतंकियों में 3 अफगानी मूल के भी आतंकी शामिल हैं. जिन्हें सेना पर बैट एक्शन के साथ साथ घाटी में सुरक्षा बलों पर हमले के लिए तैयार किया गया था.पकड़े गये लश्कर के दोनों आतंकियों से सुरक्षा एजेंसियां लगातार पूछताछ करने में लगी हुई हैं. जांच एजेंसियों के मुताबिक पकड़े गये लश्कर का एक आतंकी खलील अहमद, जिसकी उम्र 36 साल है वह पाकिस्तान के रावलपिंडी का रहने वाला है जबकि दूसरा आतंकी नज़ीम खोखर जिसकी उम्र 25 साल है वह पाकिस्तान के फारवर्ड क्वेटा का रहने वाला है. दोनों आतंकियों ने जांच एजेंसियों से कहा है कि उन्हें लश्कर के खचरबन और कोटली में आतंकी हमले की ट्रेनिंग दी गई थी.

लश्कर के इन आतंकियों ने बड़ा खुलासा करते हुए कहा है कि लाइन आफ कंट्रोल से कश्मीर में घुसपैठ कराने की जिम्मेदारी पाक सेना के तीन पोस्ट जोहली, बर्गी और न्यू बाठला को दी गई थी. पाक सेना के पोस्ट के नजदीक खचरबन लांचिंग पैड के जरिये ये आतंकी कश्मीर में दाखिल हुए थे. इन आतंकियों ने ये भी बताया है कि खचरबन लांचिग पैड पर 50 से ज्यादा आतंकियों का जमावड़ा है जो पाकिस्तानी सेना की मदद से जम्मू कश्मीर में दाखिल होने की साजिश में लगे हुए हैं. सभी आतंकी नूर नाम के गाईड के जरिये कश्मीर में दाखिल होने में कामयाब हो गये थे.

जांच एजेंसियों के मुताबिक दोनों आतंकियों को हमले के टारगेट का मुआयना करने के लिए भेजा गया था, जिन्हें सुरक्षाबलों ने पकड़ लिया था. इन आतंकियों ने सुरक्षाबलों से बाकी सभी आतंकियों के बारे में कई अहम जानकारियां भी दी हैं . पकड़े गये आतंकियों ने कहा है कि अफगानी मूल के आतंकी अमजद, ऐहसान और सरफराज को उर्दू बोलनी नहीं आती है. इन आतंकियों के ग्रुप में कुल चार पाकिस्तानी हैं और तीन अफगानी मूल के आतंकी हैं.

खुफिया एजेंसियों के मुताबिक पाकिस्तान तालिबानी आतंकियों को कश्मीर की तरफ भेजेने की कोशिश में लगातार लगा हुआ है. एक रिपोर्ट के मुताबिक कुछ दिनों पहले ही अफगानिस्तान के ईस्टरन प्रांत से 350 से ज्यादा आतंकियों को लश्कर में शामिल कर पाकिस्तानी सेना टेरर कैंपों में ट्रेनिंग देने में लगी हुई है यही नहीं खुरासान ईलाकों में भी जैश ए मोहम्मद और आईएसआईएस आतंकी संगठनों को पाकिस्तान की एजेंसियां लगातार मदद करने में लगी हुई हैं जिससे कश्मीर में बड़े हमले कराये जा सके.

एक तरफ जहां पाकिस्तान को एफएटीएफ की तरफ से ब्लैक लिस्ट होने की तलवार लटकी है, वहीं पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज़ नहीं आ रहा है. पाक अधिकृत कश्मीर में भारत के खिलाफ आतंकी साजिश के लिए पाक सेना की मदद से टेरर कैंपों में आतंकियों को ट्रेनिंग दी जा रही है.

मालूम हो कि भारतीय संसद की ओर से जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) में धारा 370 और 35ए निष्क्रिय कर दिया गया है. इसके बाद से इस राज्य के पास विशेष राज्य का दर्जा नहीं है. इस बात से पाकिस्तान बौखलाया हुआ है. भारत का आंतरिक मामला होने के बावजूद वह जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) को लेकर दुनियाभर में हल्ला कर रहा है, हालांकि संयुक्त राष्ट्र के अलावा अमेरिका, फ्रांस जैसे देशों ने पाकिस्तान के आरोपों को खारिज कर दिया है. इसके बाद से पाकिस्तान जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) को अशांत करने के लिए तरह-तरह के हथकंडे अपना रहा है.

100 लोगों का प्रतिनिधिमंडल आज गृह मंत्री अमित शाह से करेगा मुलाकात
जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद आज गृह मंत्री अमित शाह की राज्य की आम जनता से मुलाकात होनी है. दिल्ली में गृह मंत्रालय में होने वाली इस मुलाकात में जम्मू कश्मीर के करीब 100 लोगों का प्रतिनिधिमंडल अमित शाह और गृह मंत्रालय के अधिकारियों से मिलेगा. ऐसा बताया जा रहा है कि इस प्रतिनिधिमंडल में जम्मू, पुलवामा, लद्दाख और कश्मीर से जुड़े लोग शामिल हैं.

दोपहर 12 बजे करीब जम्मू कश्मीर पंचायत एसोसिएशन का प्रतिनिधिमंडल गृह मंत्रालय पहुंच गया है. इस प्रतिनिधिमंडल की पहले अधिकारियों से मुलाकात होगी. इसके बाद यह प्रतिनिधिमंडल गृह मंत्री अमित शाह से मिलेगा.

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

राहुल ने जारी किया श्वेतपत्र, बोले- तीसरी लहर की तैयारी करे सरकार

नई दिल्ली 22 जून 2021 । कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस …