मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> मनोहर पर्रिकर ने अपने लिए कराई थी 14 LIC Policy

मनोहर पर्रिकर ने अपने लिए कराई थी 14 LIC Policy

नई दिल्ली 22 मार्च 2019 । अपनी जिंदगी में हर कोई अपने फ्यूचर को सेफ करने के लिए एलआईसी या म्यूचुअल फंड में इंवेस्ट करता है। अपनी जेब के हिसाब से पॉलिसी की रकम रखते हैं। ताकि वो आराम से उसका प्रीमियम दे सकें। आज देश के सबसे बड़े नेताओं में से एक मनोहर पर्रिकर का निधन हो गया है। वो कैंसर से पीडि़त थे। आपको जानकर ताज्जुब होगा कि उनके पास 14 एलआईसी की पॉलिसी थी। जिनकी रकम अलग-अलग थी। अब वो इस दुनिया में नहीं है। ऐसे में अब वो रकम उनके परिजनों को मिलेगी। आइए आपको भी बताते हैं कि आखिर उन्होंने कितने-कितने रुपए की पॉलिसी कराई हुई थी। अब उनके घरवालों को कितने रुपए मिलेंगे।

55 लाख रुपए की 14 पॉलिसी
उन्होंने राज्यसभा चुनाव लडऩे के दौरान इलेक्शन कमिशन को जो इनकम एफिडेविट दिया था, उसमें उन्होंने अपनी एलआईसी पॉलिसी का ब्यौरा भी दिया था। एडीआर की रिपोर्ट के मुताबिक इलेक्शन कमिशन को उन्होंने अपनी 14 पॉलिसी के बारे में जानकारी दी थी। जो कि अलग-अलग रकम की थी। अगर सभी पॉलिसी की रकम को जोड़ा जाए तो उन्होंने 55 लाख रुपए की एलआईसी पॉलिसी ली थी। 55 लाख रुपए की पॉलिसी की रकम को काफी बड़ी रकम माना जा सकता है।

इस तरह से कराई थी पॉलिसी
मनोहर पर्रिकर की ओर से काफी सूझ-बूझ के साथ अपनी पॉलिसी कराई थी। छोटे-छोटे टुकड़ों में इन पॉलिसी को कराया था। उन्होंने 5-5 लाख रुपए की 7 पॉलिसी कराई थी। इन पॉलिसी की कुल रकम 35 लाख रुपए है। वहीं एक लाख और दो लाख रुपए की उन्होंने एक-एक पॉलिसी ही कराई थी। वहीं तीन लाख रुपए की पॉलिसी उनके पास तीन थी। वहीं उनके पास चार-चार लाख रुपए की दो पॉलिसी थी। यानि बाकी की 20 लाख रुपए की पॉलिसी एक, दो, तीन और चार लाख रुपए की पॉलिसी के रूपए थी।

3 लाख रुपए का पेंशन
इतने बड़े ओहदे पर होने के बाद भी मनोहर पर्रिकर के पास पेंशन प्लान भी था। जिसके लिए वो हर महीने या साल में प्रिमीयम भी भरते थे। उन्होंने 3 लाख रुपए का पेंशन प्लान एचडीएफसी से लिया था। देश के युवा इस बात से सीख ले सकते हैं कि अपने फ्यूचर को सेक्योर करने के लिए पेंशन प्लान भी ले सकते हैं। जिसमें आपको इमकम टैक्स में भी बेनिफिट मिलेगा।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

कोरोना की तीसरी लहर आई तो बच्चों को कैसे दें सुरक्षा कवच

नई दिल्ली 12 मई 2021 । भारत में कोरोना वायरस की दूसरी लहर से हाहाकार …