मुख्य पृष्ठ >> Uncategorized >> पुलवामा हमले के रिएक्शन से घबराया मसूद अज़हर हर 15 घंटे में बदल रहा ठिकाना

पुलवामा हमले के रिएक्शन से घबराया मसूद अज़हर हर 15 घंटे में बदल रहा ठिकाना

नई दिल्ली 28 फरवरी 2019 । पुलवामा हमले के बाद हरकत में आई भारतीय सैन्य बल ने पुलवामा व एलओसी समेत समस्त जम्मू-कश्मीर पर अपनी दबीश बनाई हुई है. जिससे घबराया जैश-ए-मोहम्मद आतंकी संगठन का आका मसूद अजहर का कलेज़ा मुंह को आ गया है. उसने पाकिस्तान सरकार से अपनी सुरक्षा की गुहार लगाई है. आपको बता दें, इस घटना के बाद मसूद ने पिछले 48 घंटों में 3 ठिकाने बदले हैं. जानकारी के मुताबिक, पाकिस्तान ने मसूद अज़हर की सुरक्षा बढ़ा दी है. साथ ही इन आतंकियों को पाकिस्तानी आर्मी कैम्पो में पनाह दी जा रही है |

सुत्रों के अनुसार, भारतीय सीमा से तकरीबन 3 किलोमिटर के दायरे में लगभग 27 लॉच पैड हैं जहां 57 आतंकि भारतीय सीमा में घुसने के फिराक में थे जो अब पुलवामा हमले के बाद भारत के पलटवार से घबराकर छिपने की जगह ढूंढ रहे हैं |

देश पर आतंकियों की बुरी नज़र है. ऐसे में इमेल के जरिये भारतीय सुरक्षा एजेंसियों ने एक नया और सनसनीखेज खुलासा किया है. अब पुलवामा हमले के बाद आतंकियों की नज़र गुजरात में बने “स्टैचू ऑफ यूनिटी” यानि देश के पहले गृहमंत्री रहे सरदार पटेल की मुर्ती पर है. जिसे लेकर सभी पुलिस अधिकारियों को चौकसी बरतने को कहा गया है. आपको बता दें, सुरक्षा एजेंसियों को सरदार पटेल की मुर्ती समेत गुजरात के अन्य तीर्थस्थलों व रेलवे स्टेशन को उड़ाने के संकेत मिले हैं. जिसके बाद प्रदेश के “एंटी टेररिस्ट स्क्वॉड” की टीम को जांच में लगा दी गई है. साथ ही इस इमेल में कितनी सच्चाई है? इसकी पुस्टीकरण भी की जा रही है |

बैन लगने पर बौखलाया आतंकी हाफिद सईद, दी सरकार को चुनौती देने की धमकी
जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हमले के बाद भारत समेत कई देशों ने पाकिस्तान पर आंतक की फंडिंग और पनाह देना बंद करने का दबाव बनाया है। अलग पड़ने के डर से पाकिस्तान ने एक दिखावे की कार्रवाई करने का फैसला किया है और वैश्विक आतंकी हाफिज सईद के संगठन जमात-उद-दावा और फलाह-ए-इंसानियत फाउंडेशन पर बैन दोबारा लागू कर दिया। अब आतंकी हाफिज सईद इस फैसले को चुनौती देने की बात कही है।

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर लड़ाई जारी रखने का ऐलान

इस फैसले पर नाराजगी जाहिर करते हुए हाफिज सईद ने कहा कि उसपर और उसके संगठन पर लगाए गए बैन के खिलाफ वे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर लड़ाई लड़ेंगे। हाफिज सईद इस बैन के खिलाफ लड़ाई जारी रखने का ऐलान किया है। सईद ने सीधे तौर पर सरकार को चुनौती देने की बात कही है।

इमरान खान की अगुवाई में लिया गया फैसला

आपको बता दें कि पाकिस्तान ने गुरुवार को हाफिद सईद के जमात-उद-दावा (जेयूडी) और खैराती इकाई फलाह-ए-इंसानियत फाउंडेशन पर एक बार फिर प्रतिबंध लगा दिया है। मीडिया रिपोर्टों में बताया गया कि यह फैसला प्रधानमंत्री इमरान खान की अगुवाई में राष्ट्रीय सुरक्षा समिति की बैठक में लिया गया। बताया जा रहा है कि इस बैठक में पुलवामा आत्मघाती हमले के बाद की भू-रणनीति और राष्ट्रीय सुरक्षा के माहौल पर चर्चा की गई। दोनों संगठनों पर पिछले साल फरवरी में भी रोक लगाया गया था। हालांकि बाद में रोक की अवधि खत्म कर दी गई थी। अब सरकार ने एक बार फिर इन्हें प्रतिबंधित करने का फैसला किया गया है।

जैश-ए-मोहम्मद के खिलाफ पाकिस्तान ने की कार्रवाई
भारत और पाकिस्तान के बीच सीमा पर चल रही तल्खियों के बीच बड़ी खबर आ रही है कि इमरान खान सरकार ने आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की है. न्यूज 18 को वरिष्ठ सरकारी सूत्रों से मिली खबर के मुताबिक बुधवार रात पाकिस्तान ने जैश के कैंप्स पर कार्रवाई की. साथ ही सरकारी सूत्रों ने ये भी भरोसा दिलाया कि पाकिस्तान जल्द ही इंडियन एयरफोर्स के पायलट अभिनंदन को रिहा करेगा.

ये है जैश पर कार्रवाई की वजह?

आपको बता दें संयुक्त राष्ट्र परिषद में अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस ने जैश ए मोहम्मद को ब्लैकलिस्ट करने की मांग की है. न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के अनुसार, संयुक्त राज्य अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस ने बुधवार को पाकिस्तान स्थित आतंकवादी समूह जैश ए मोहम्मद को ब्लैकलिस्ट करने के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में प्रस्ताव दिया. प्रस्ताव में कश्मीर के पुलवामा हमले का हवाला दिया गया है.

आपको बता दें 14 फरवरी को पाकिस्तान के आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने सीआरपीएफ के काफिले पर हमला किया था, जिसमें 40 जवान शहीद हो गए थे. इसके बाद भारत ने मंगलवार को पीओके के बालाकोट में चल रहे जैश के बड़े कैंप पर हवाई हमला किया था. जिसमें 300 से ज्यादा आतंकी मारे जाने की खबर थी.

जैश ए मोहम्मद सरगना मसूद अजहर पर कसेगा शिंकजा, अमेरिका-ब्रिटेन-फांस ने दिया ब्लैकलिस्ट करने का प्रस्ताव
अमेरिका ने बालाकोट में जैश-ए-मोहम्‍मद के आतंकी ठिकानों पर भारतीय हमले का खुलेआम समर्थन किया है। इससे पहले अमेरिकी विदेश विभाग ने एक बयान जारी कर पाकिस्‍तान से आतंकी ठिकानों के खिलाफ सार्थक कार्रवाई करने को कहा था। इसके अलावा ऑस्‍ट्रेलिया और फ्रांस जैसे देश पहले ही भारत के कदम का समर्थन कर चुके हैं। दूसरी तरफ, जम्‍मू में सीमा से लगते इलाकों के स्‍कूलों को बंद कर दिया गया है। खासकर पांच किलोमीटर के दायरे में आने वाले स्‍कूलों को बंद कर दिया गया है। वहीं, समझौता एक्‍सप्रेस 28 फरवरी को भी नहीं चलेगी। पाकिस्‍तान ने भारत के साथ मौजूदा तनाव को देखते हुए यह फैसला लिया है।

पुलवामा हमले को रचने वाले पाकिस्तानी आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद पर शिकंजा कसने की तैयारी हो गई है। समाचार एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक, अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस ने 15 सदस्यी यूएन सिक्योरिटी काउंसिल की सैंक्शंस कमिटी को प्रस्ताव दिया है जैश के सरगना मसूद अजहर पर शिकंजा कसा जाए। उसके इंटरनैशनल यात्रा पर बैन लगाई जाए और उसकी संपत्तियां भी फ्रीज कर दी जाएं। तीनों देशों ने इस संगठन को ब्लैकलिस्ट करने का प्रस्ताव भी दिया है। व्हाइट हाउस के राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद (एनएससी) के एक अधिकारी ने कहा, “अमेरिका भारत और पाकिस्तान के बीच बढ़ते तनाव को लेकर चिंतित है और उसने दोनों पक्षों से तनाव कम करने के लिए तत्काल कदम उठाने का आह्वान किया है।”

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

भारत की IT कंपनी ने बदली किस्मत, एक झटके में 500 लोग बन गए करोड़पति

नई दिल्ली 23 सितम्बर 2021 । आईटी सेक्टर की कंपनी फ्रेशवर्क्स (Freshworks) की अमेरिका के …