मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> चिंता कुर्सी की , 11 दिन में तीसरी बार करेंगे कमलनाथ विधायकों के साथ बैठक

चिंता कुर्सी की , 11 दिन में तीसरी बार करेंगे कमलनाथ विधायकों के साथ बैठक

भोपाल 16 जुलाई 2019 । कर्नाटक और गोवा में कांग्रेसी विधायकों के बागी रुख को देखकर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ पूरी तरह सतर्क हो गए हैं. कमलनाथ ने कांग्रेसी विधायकों के साथ-साथ राज्य सरकार को समर्थन कर रहे सपा, बसपा और निर्दलीय विधायकों की 17 जुलाई को बैठक बुलाई है. प्रदेश सरकार के साथ-साथ अपनी कुर्सी को भी संकट से बचाए रखने के लिए कमलनाथ पिछले 11 दिन में विधायकों की तीसरी बैठक करने जा रहे हैं. बीजेपी द्वारा मध्य प्रदेश की कांग्रेस सरकार को गिराने की आशंकाओं के बीच सीएम कमलनाथ लगातार विधायकों की बैठकें कर रहे हैं. इससे पहले कमलनाथ ने अपने निवास पर 7 जुलाई को विधायकों के साथ डिनर पर बैठक की थी. सूत्रों की मानें तो उन्होंने इस बैठक में विधायकों और उनकी सरकार को समर्थन दे रहे सपा, सपा और निर्दलीय विधायकों से कहा था कि वे सभी मानसून सत्र में सदन में उपस्थित रहें ताकि बेवजह सरकार संकट में न आए.मुख्यमंत्री कमलनाथ ने अब 17 जुलाई को एक बार फिर विधायकों की बैठक बुलाई है. इसमें कांग्रेसी विधायकों के साथ-साथ राज्य सरकार को समर्थन कर रहे सपा, बसपा और निर्दलीय विधायकों को भी आमंत्रित किया गया है. दरअसल मुख्यमंत्री कमलनाथ को इस बात की आशंका है कि बीजेपी वित्तीय मामलों सहित अन्य महत्वपूर्ण मुद्दों पर कभी भी वोटिंग की मांग करने का ‘गेम प्लान’ कर सकती है. इसी डर के चलते कमलनाथ लगातार विधायकों के विश्वास को बनाए रखना चाहते हैं.

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भी की बैठक

इसके बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भी मध्य प्रदेश के विधायकों का मूड जानने के लिए बैठक की थी. सिंधिया ने 11 जुलाई को भोपाल में अपने पार्टी के विधायकों और सरकार को समर्थन दे रहे सपा, बसपा और निर्दलीय विधायकों को डिनर दिया था.

कमलनाथ दो तरफा संकट में घिरे

यही नहीं लोकसभा चुनाव के बाद कांग्रेस नेता राहुल गांधी कमलनाथ से नाराज माने जा रहे हैं. राहुल ने साफ कहा था कि हार की जिम्मेदारी सभी को लेनी चाहिए और उन्हें अपने पद से इस्तीफा देना चाहिए. ऐसे में कमलनाथ दोतरफा संकट से घिरे हुए हैं. एक तरफ जहां सरकार बचाने की चुनौती है तो दूसरी तरफ कुर्सी को बरकरार रखने का चैलेंज भी है. ऐसे में माना जा रहा है कि कमलनाथ विधायकों को अपने पक्ष में भी मजबूती से जोड़े रखना चाहते हैं.

बता दें कि मध्य प्रदेश में कुल 230 विधानसभा सीटें हैं, जिनमें से 114 विधायक कांग्रेस के पास हैं. वहीं, 108 बीजेपी, दो बसपा, एक सपा और चार निर्दलीय विधायक हैं. मौजूदा समय में एक सीट रिक्त है. कमलनाथ सरकार को कांग्रेस के साथ-साथ सपा, बसपा और 4 निर्दलीय विधायक समर्थन कर रहे हैं. ऐसे में कमलनाथ इन सभी का विश्वास अपने पक्ष में बरकरार रखना चाहते हैं.

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

प्रियंका गांधी का 50 नेताओं को फोन-‘चुनाव की तैयारी करें, आपका टिकट कन्फर्म है’!

नई दिल्ली 21 जून 2021 । उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव …