मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> स्वास्थ्य के प्रति उदासीनता के चलते हर वर्ष विश्व में लाखों मरीजों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ता है

स्वास्थ्य के प्रति उदासीनता के चलते हर वर्ष विश्व में लाखों मरीजों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ता है

भोपाल 17 सितम्बर 2021 । विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा हाल ही मे जारी रिपोर्ट के अनुसार, स्वास्थ्य संबंधी देखभाल के प्रति उदासीनता के चलते हर वर्ष दुनिया भर में लाखों मरीजों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ता है। जहां इसके परिणामस्वरूप अमीर देशों में हर 10 में से एक मरीज को नुक्सान उठाना पड़ता है। वहीं दूसरी ओर विश्व स्वास्थ्य संगठन के आंकड़े बताते हैं कि भारत जैसे मध्यम और निम्न आय वाले देशों में सही देखभाल न मिलने के कारण हर वर्ष 26 लाख मरीजों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ता है, जिनमें से ज्यादातर मौतों को सही उपचार के जरिये टाला जा सकता है। जबकि इसके चलते 13.4 करोड़ लोगों को किसी न किसी रूप से चाहे वो धन संबंधी हो या स्वास्थ्य संबंधी, हानि उठानी पड़ती है।
ग्लोबल पेशेंट सेफ्टी डे के अवसर पर राष्ट्रीय सामुदायिक स्वास्थ्य कार्यक्रम के सलाहकार डॉ नरेश पुरोहित ने जानकारी देते हुए बताया कि सभी स्वास्थ्य कर्मी चिकित्सालय में आने वाले मरीजों की सुरक्षा व सुविधा, मरीजों के साथ सौम्य व अच्छा व्यवहार, मरीजों की प्राइवेसी, गोपनीयता का ध्यान रखें। उपचार से पूर्व मरीज की पहचान, पर्चे पर दवा, जांच, परामर्श आदि में विशेष सावधानी बरतें। डॉ. पुरोहित ने बताया कि सरलता पूर्वक पठनीय भाषा में लिखने व मरीज का सही उपचार करते हुए सही जानकारी देना चाहिए। किसी भी शल्यक्रिया, प्रसव, जांच के पहले मरीज के परिजनों से सहमति जरूर लेनी चाहिए।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

फतह मुबारक हो मुसलमानो, भारत के खिलाफ जीत इस्लाम की जीत…जश्न मनाने के बदले जहर उगलने लगा पाक

नई दिल्ली 25 अक्टूबर 2021 । खराब बल्लेबाजी और खराब गेंदबाजी की वजह से टीम …