मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> मिंटो हॉल का नाम अब BJP के पूर्व अध्यक्ष कुशाभाऊ ठाकरे पर, सीएम शिवराज सिंह चौहान का ऐलान

मिंटो हॉल का नाम अब BJP के पूर्व अध्यक्ष कुशाभाऊ ठाकरे पर, सीएम शिवराज सिंह चौहान का ऐलान

भोपाल 27 नवंबर 2021 । मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने ऐलान किया है कि चर्चित ऐतिहासिक भवन मिंटो हॉल का नाम बदला जाएगा। भोपाल स्थित मिंटो हॉल का नाम भारतीय जनता पार्टी (भाजपा)के संस्थापक सदस्य स्वर्गीय खुशाभाऊ ठाकरे होगा। मिंटो हॉल को साल 1990 में नवाब सुल्तान जहान बेगम ने बनवाया था। बताया जाता है कि जहान बेगम भोपाल की अंतिम बेगम थीं। उन्होंने इस हॉल का नाम मिंटो लॉर्ड मिंटो को सम्मान देने के लिए रखा था। शुक्रवार को मिंटो हॉल में आयोजित हुई भाजपा प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इसकी घोषणा की है। इससे पहले भाजपा में ही मिंटो हॉल का नाम बदलकर डॉक्टर हरिसिंह गौर करने की मांग उठी थी। भारत की आजादी के बाद और मध्य प्रदेश के बनने के बाद इस बिल्डिंग का इस्तेमाल राज्य विधानसभा हॉल के तौर पर होता था। शिवराज सिंह चौहान ने कहा, ‘यह हमारी जमीन है, हमारी मिट्टी है, हमारा पत्थर, हमारी बिल्डिंग है यह हमारे मजदूरों की मेहनत है लेकिन इसका नाम मिंटो है। कई विधायक विधानसभा में ठाकरे जी की बदौलत पहुंचे। ठाकरे जी ने एमपी में पार्टी को बढ़ाया है इसलिए इस बिल्डिंग का नाम अब ठाकरे के नाम पर होगा। साल 2018 में इस हॉल को कन्वेशन सेंटर के रूप में बदल दिया गया था। इसमें रेस्टुरेंट और बार भी था। मध्य प्रदेश के बीजेपी अध्यक्ष वीडी शर्मा ने कहा कि इस हॉल को ठाकरे की सोच के आधार पर विकसित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि बार को बंद किया जाएगा और जरुरी बदलाव किये जाएंगे।

भारतीय जनता पार्टी के कई नेता पिछले कई दिनों अलग-अलग स्थानों और बिल्डिगों का नाम बदलने की मांग कर रहे हैं। यहां शिवराज सरकार ने इससे पहले हबीबगंज रेलवे स्टेशन नाम बदल कर रानी कमालपती रेलवे स्टेशन किया गया था। मुख्यमंत्री ने इससे पहले होशंगाबाद का नाम बदल कर नर्मदा नगर कर दिया था। सीएम ने कहा, ‘लोग सोचते हैं कि भोपाल नवाबों से ताल्लुक रखता है। लेकिन उन्हें सोचना चाहिए कि भोपाल गोंड्स से ताल्लुख रखता है। इसलिए उन्होंने रेलवे स्टेशन का नाम अंतिम गोंड रानी कमलापति के नाम पर रखा था।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

‘राजपूत नहीं, गुर्जर शासक थे पृथ्वीराज चौहान’, गुर्जर महासभा की मांग- फिल्म में दिखाया जाए ‘सच’

नयी दिल्ली 21 मई 2022 । राजस्थान के एक गुर्जर संगठन ने दावा किया कि …