मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> मोतीनगर के बाद मुनिनगर ews क्वार्टर खाली कराने के नोटिस वितरित

मोतीनगर के बाद मुनिनगर ews क्वार्टर खाली कराने के नोटिस वितरित

उज्जैन 25 दिसंबर 2019 । प्रदेश की कमलनाथ सरकार के “माफ़िया” अभियान का खामियाजा गरीब और झुग्गी निवासियों को भुगतना पड़ रहा है, माफियाओं से कब्जे खाली कराने की आड़ में सरकारी अधिकारी वर्षो पुराने अपने मकान और जमीन पर रह रहे गरीबों को बेघर करने का षड्यंत्र रच रहे है जिसे लेकर एक बड़े तबके में कमलनाथ सरकार के खिलाफ रोष पैदा हो रहा है । सेतु निगम की त्रिवेणी ब्रिज के नीचे की जमीन से गरीबों को हटाने का मामला अभी चल ही रह था कि कमलनाथ की माफिया मुहीम का फायदा उठाकर एमपी हाऊसिंग बोर्ड ने भी अपने वर्षो पुराने हितग्राहियों से कब्जा छुड़ाने की मुहीम छेद दी है इसी कड़ी में हाऊसिंग बोर्ड ने मुनिनगर में ews के 15×15 के डुप्लेक्स क्वार्टरों में रह रहे 50 से अधिक लोगो को नोटिस वितरण कर 4 जनवरी तक मकान खाली करने अथवा उन पर ताले लगाने के नोटिस जारी किए है जिसे लेकर पुरे क्षेत्र में विरोध मुखर हो गया है लोगो का कहना है कि शिवराज के 15 साल के राज में कभी गरीबों को परेशान नही किया गया लेकिन कमलनाथ सरकार ने आते ही गरीबों पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है ।

क्या है मामला
इंदौर रोड स्थित मुनिनगर में 1980 में हाऊसिंग बोर्ड ने 5-5 हजार में डुप्लेक्स मकान गरीबो को दिए थे, जिसकी कुछ किश्तें ही लोग जमा कर पाए थे शेष राशि जमा नही हो पाने के चलते हाऊसिंग बोर्ड ने अब सभी को ब्याज का त्याज जोड़कर 70 हजार तक के नोटिस जारी किए है जो सभी के लिए भर पाना मुश्किल हो रहा है , 5 हजार की राशि का 70 हजार रुपये वसूलना किसी भी रूप में जायज नही है लेकिन हाऊसिंग बोर्ड के अधिकारी कमलनाथ के आदेशों का हवाला देकर यहां 40-40 सालों से रह रहे गरीबों को बेघर करने पर आमादा है ।

नानाखेड़ा पुलिस लगा रही चक्कर
हाऊसिंग बोर्ड ने इस मुहीम में पुलिस का भी दुरपयोग किया जा रहा है, बोर्ड के अधिकारियों के निर्देश पर नानाखेड़ा पुलिस रोजाना क्षेत्र में मुनादी कर लोगों को घर खाली करने के लिए डरा रही है अगर 4 जनवरी तक लोगो ने मकान खाली नही किये तो हाउसिंग बोर्ड यहां पुलिस के माध्यम से लोगो के घरों पर ताले लगवाकर उन्हें बेघर कर देगा ।

वर्शन …
शिवराज सरकार में कभी हमें बेघर करने के आदेश नही आये लेकिन कमलनाथ सरकार ने एक साल में ही हमें बेघर करने का निर्णय ले लिया , हम यहां 40 सालों से रह रहे है, 5 हजार बकाया था उसका डबल तिबल ब्याज ले लें लेकिन 70 हजार कैसे भर सकेंगे इतना ब्याज तो कोई बनिया भी नही लेता ।
अशोक , निवासी मुनिनगर

मोदी जी तो लोगो को ढाई ढाई लाख रुपये देकर उन्हें आशियाने दे रहे है लेकिन कमलनाथ जी वर्षो से रह रहे लोगो को ही बेघर करने पर आमादा है ये कैसी गरीबों की सरकार है ।
चेतन, मुनिनगर

5 हजार के 70 हजार वसूल रहे है, गरीब व्यक्ति इतने पैसे कहाँ से लाएगा, हमने कमलनाथ जी को इसलिए नही जिताया था कि वो हमें बेघर कर दें, 40 सालों से यहां रह रहे है हमारी सभी अच्छी बुरी यादें इस घर से जुड़ी है ।
विजया, निवास

पुरे मकान क्षतिग्रस्त है, हाउसिंग बोर्ड ने कभी मेंटेनेंस तक नही कराया न ही क्षेत्र में सड़क, चेम्बर, लगवाए फिर भी 5 हजार के 70 हजार मांग रहे है इतना ब्याज तो कोई साहूकार भी नही लेता, हमें कमलनाथ जी से ये उम्मीद नही थी ।
सविता बाई, निवासी

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

चीन नहीं, हिमाचल में तैयार होगा दवाइयों का सॉल्ट, खुलेगा देश का पहला एपीआई उद्योग

नई दिल्ली 01 अगस्त 2021 । नालागढ़ के पलासड़ा में एक्टिव फार्मास्यूटिकल इनग्रेडिएंट (एपीआई) उद्योग …