मुख्य पृष्ठ >> अपराध >> पड़ोसी ही निकला दरिंदा,मासूम के साथ दुष्कर्म कर हत्या का मामला

पड़ोसी ही निकला दरिंदा,मासूम के साथ दुष्कर्म कर हत्या का मामला

उज्जैन 8 जून 2019 । पांच साल की मासूम का अपहरण कर उसके साथ दरिंदगी करने के बाद हत्या किए जाने के सनसनीखेज मामले का पुलिस ने पर्दाफाश कर दिया है।
पुलिस ने इस मामले में उस हैवान को गिरफ्तार कर लिया है जो मासूम को सोते हुए उठाकर ले गया और उसके साथ जबरदस्ती कर मानवता की सारी मर्यादाओं को तार तार कर उसे मौत के घाट उतार दिया।
5 साल की मासूम का अपहरण कर,उसके साथ दुष्कर्म करने और हत्या कर देने के इस झकझोर देने और कलंकित कर देने वाली इस घटना का शनिवार को पुलिस अधीक्षक सचिन अतुलकर ने प्रेस कांफ्रेंस लेकर खुलासा किया।

ये है मामला
दरअसल भूखी माता क्षेत्र में ईंट भट्टे पर काम करने वाले विष्णु की 5 साल की बच्ची मासूम को दरिंदे ने अपनी हबस पूरी करने के लिए रात में उस समय उठा लिया जब वह अपने दादा गिरधारी और दादी सहित अपनी बहनों के साथ भट्टे पर बनी टापरी में सो रही थी। हैवान मासूम को टापरी से करीब 300 मीटर नदी की तरफ ले गया और उसके साथ दुष्कर्म किया और पहचाने जाने के डर से मासूम को वहीं गला घोंटकर और ईंट से सिर कुचलकर मौत के घाट उतार दिया और लाश को नदी में फेंक दिया।

पुलिस ने दिखाई तत्परता
5 साल की मासूम के इस तरह सोते हुए परिवार के लोगों के बीच से गायब होने को पुलिस ने गंभीरता से लिया और सूचना मिलते ही न केवल उसकी खोजबीन शुरू कर दी बल्कि तुरंत ही अपहरण कर प्रकरण दर्ज कर दिया।
दोपहर तक पुलिस परिजनों और आसपास के लोगों की मदद से मासूम को ढूंढती रही लेकिन 5 साल की मासूम के अपहरण के मामले में दोपहर करीब तीन बजे उस समय नया मोड़ आ गया जब लालपुल के समीप शिप्रा नदी में उसकी लाश तैरती मिली और वहीं कुछ दूरी पर उसके कपड़े मिले। लिहाजा एसपी सहित आईजी राकेश गुप्ता,डीआईजी अविनाश शर्मा भी मौके पर पहुंचे और जांच टीम को गाइड किया।

SP ने गठित की SIT
बच्ची को उठाकर ले जाने और कुछ घँटे बाद उसकी लाश नदी में मिलने की घटना की गंभीरता को पुलिस कप्तान सचिन अतुलकर ने समझा और मामले की जांच के लिए SIT यानी स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम का गठन कर दिया और साइबर सेल सहित क्राइम ब्रांच को जिम्मेदारी सौंपी। चूँकि जिस तरह से बच्ची गायब हुई और जबरदस्ती कर उसकी हत्या कर लाश को नदी में फेंका गया उससे पुलिस के लिए ये बात क्लीयर थी कि आरोपी नजदीकी है जो ईंट भट्ठे पर ही काम करता है।लिहाजा पुलिस ने ईंट भट्टे पर काम करने वाले संदिग्धों को उठाया और उनसे पूछताछ की तो आरोपी शिवा मराठा ने अपना जुर्म कबूल कर लिया।
पुलिस कप्तान सचिन अतुलकर के मुताबिक आरोपी का नाम शिवा मराठा है। उसे गिरफ्तार किया है। उसी ने सोते हुए बच्ची को उठाया और टापरी से दूर खेत में ले जाकर उसके साथ दुष्कर्म किया और हत्या कर दी।
पुलिस कप्तान सचिन अतुलकर के मुताबिक आरोपी शिवा मराठा महाकाल मंदिर के बाहर फूल की दुकान पर डेली बेजेज पर काम करता है। घटना वाले दिन वह रात दो से तीन बजे के बीच दुकान से भट्टे पर बने अपने घर के लिए निकला। भट्टे पर अपने घर मे जाने से पहले उसके अंदर का शैतान जाग गया और उसने अपने घर के बगल में बनी विष्णु की टापरी का ईंट हटाकर दरवाजा खोला और बच्ची को सोते हुए उठाकर खेत में ले गया और उसके साथ दुष्कर्म किया। क्योंकि बच्ची उसे पहचानती थी इसलिए पहचानने के डर से उसने ईट मारकर बच्ची की हत्या कर दी और लाश नदी में फ़ेंक दी और घर जाकर सो गया।
पुलिस कप्तान सचिन अतुलकर के मुताबिक आरोपी शिवा मराठा के खिलाफ बच्ची का अपहरण करने के साथ दुष्कर्म कर हत्या किए जाने के मामले में धारा 449, 376 (a)(b) 366, 302,201 भादवि एवं 5,6 पास्को अधिनियम सहित धारा 3,2,5 एससी एक्ट में कार्यवाही की गई है।साथ ही उपसंचालक अभियोजन डॉ साकेत व्यास एवं एडीपीओ उमेश सिंह तोमर से विधिक राय ली गई है ताकि आरोपी को सख्त से सख्त सजा सजा दिलाई जा सके।इसलिए फोरेंसिक एक्सपर्ट प्रीति गायकवाड़ की निगरानी में महत्वपूर्ण साक्ष्य एकत्रित किये गए हैं।

IG ने दिया SIT को 30 हजार का इनाम

मामले की गंभीरता को देखते हुए आईजी राकेश गुप्ता ने इस मामले के खुलासे के लिए इन्वेस्टिगेशन टीम को ₹30000 के इनाम देने की घोषणा की है।

एसपी सचिन अतुलकर के मुताबिक 5 साल की मासूम के इस सनसनीखेज अपहरण,दुष्कर्म और हत्या किए जाने के मामले के खुलासे में एडिशनल एसपी नीरज पांडेय,सीएसपी कोतवाली हंसराज सिंह के मार्गदर्शन में साइबर सेल प्रभारी रही निरीक्षक दीपिका शिंदे, महाकाल थाना प्रभारी अरविंद सिंह तोमर के अलावा एसआईटी टीम के सब इंस्पेक्टर गगन बादल,ओ पी जोशी, एएसआई लोकेंद्र सिंह बैस, धर्मेंद्र, आरक्षक प्रमोद, मनीष सहित एसआईटी टीम में शामिल किए गए इंगोरिया थाना प्रभारी प्रकाश वास्कले, कोतवाली थाना प्रभारी आर एस बोराना, चिमनगंज मंडी थाने में पदस्थ सब इंस्पेक्टर प्रीति चौहान की सराहनीय भूमिका रही।एसपी के मुताबिक मामले की गंभीरता को देखते हुए इन सभी एक्सपर्ट्स की टीम को मिलाकर एसआईटी का गठन किया गया था।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

किश्तवाड़ में बादल फटने से पांच की मौत, 40 से ज्यादा लोग लापता

नई दिल्ली 28 जुलाई 2021 ।  जम्मू-कश्मीर में भारी बारिश का कहर देखने को मिला …