मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> ह्यूस्टन में नई केमिस्ट्री, नई हिस्ट्री; आतंकियों को पनाह देने वाले पाकिस्तान का पर्दाफाश

ह्यूस्टन में नई केमिस्ट्री, नई हिस्ट्री; आतंकियों को पनाह देने वाले पाकिस्तान का पर्दाफाश

नई दिल्ली 24 सितम्बर 2019 । पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendar Modi) और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने आतंकवाद (terrorism) पर पाकिस्तान (Pakistan) को खरी खरी सुना दी है. ह्यूस्टन (Houston) में एक मंच पर मौजूद पीएम मोदी ने साफ कहा कि आतंकवाद के खिलाफ निर्णायक लड़ाई लड़नी होगी. वहीं ट्रंप ने इस्लामिक आतंकवाद के खिलाफ जंग की बात कही.

ह्यूस्टन में हाउडी कार्यक्रम के दौरान पीएम मोदी ने पाकिस्तान का नाम लिए बगैर आतंकवाद पर निशाना साधा. पीएम मोदी ने कहा कि भारत जो कर रहा है, उससे कुछ ऐसे लोगों को भी दिक्कत हो रही है, जिनसे खुद अपना देश संभल नहीं रहा है. प्रधानमंत्री ने कहा कि आतंकवाद और उसे बढ़ावा देने वालों के खिलाफ अब निर्णायक लड़ाई लड़ने की जरूरत है.

पीएम मोदी के साथ कार्यक्रम में मौजूद अमेरिका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने भी आतंकवाद पर पाकिस्तान को कड़ा संदेश दिया. ट्रंप ने कहा कि भारत-अमेरिका इस्लामिक आतंकवाद से मिलकर लड़ेंगे. उधर, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने कहा कि हम गर्व के साथ खड़े हैं और ये हमारी ज़िम्मेदारी है कि हम अपने बेगुनाह नागरिकों की रक्षा इस्लामिक टेररिज़्म से करें. इसलिए ऐतिहासिक थी ह्यूस्टन में मोदी की रैली
पहली बार एक साथ एक मंच पर भारतीय के प्रधानमंत्री और अमेरिका के राष्ट्रपति आए. पहली बार दुनिया के सबसे बड़े और सबसे पुराने लोकतंत्र के प्रमुखों की साझा रैली की. पहली बार अमेरिका के राष्ट्रपति 50 हज़ार भारतवंशियों को एक साथ संबोधित किया. पहली बार 50 हज़ार से ज्यादा भारतीयों ने ‘Howdy Modi’ के लिए रजिस्ट्रेशन कराया. पहली बार चुनावी साल में अमेरिकी भारतीयों को संबोधित करने वाले ट्रंप पहले राष्ट्रपति बने. पहली बार अमेरिका के ह्यूस्टन में भारतीयों को संबोधित करने वाले पीएम मोदी पहले नेता बने.

अमेरिका में ‘ब्रांड इंडिया’ की ताकत:
भारतीय आबादी – करीब 30 लाख हैं. भारतीय वोटर – करीब 15 लाख हैं. ग्रीन कार्ड धारक – करीब 12.8 लाख हैं. भारतीय मूल के सांसद – 5 हैं. भारतीय वैज्ञानिक – 12% हैं. NASA में भारतीय वैज्ञानिक – 36 %
भारतीय डॉक्टर – 38% हैं. माइक्रोसॉफ्ट में भारतीय – 34% हैं. XEROX में भारतीय – 13 % हैं. IBM में भारतीय – 28%, INTEL में भारतीय – 17 % हैं.

भारत-अमेरिका अपनी सीमाओं की सुरक्षा के लिए मिलकर करेंगे काम-ट्रंप
अमेरिका के ह्यूस्टन में हुए Howdy Modi कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आतंकवाद के खिलाफ भारत की लड़ाई में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भी मजबूती के साथ खड़े हैं. हाउडी मोदी के मंच से ही ट्रंप ने भी कहा कि भारत और अमेरिका इस्लामिक आतंकवाद के खिलाफ नई रक्षा साझेदारी पर मिलकर काम करेंगे. हम भारत के साथ इस्लामिक आतंकवाद के खिलाफ लड़ेंगे. अपनी सीमाओं की सुरक्षा के लिए दोनों देश मिलकर काम करेंगे. इसके बाद, ट्रंप ने भारत और अमेरिका की सेनाओं के प्रति आभार व्यक्त करते हुए कहा कि दोनों देशों की सेनाओं की वजह से ही हम अपनी आजादी महसूस कर पाते हैं.

हाउडी मोदी कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिना नाम लिए पाकिस्तान के वजीर-ए-आजम इमरान खान पर निशाना साधा. मोदी ने कहा कि देश के सामने 70 सालों से अनुच्छेद-370 एक बड़ी चुनौती थी. लेकिन भारत ने कुछ दिन पहले इसे फेयरवेल दे दिया. अब जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के लोगों को हक और अधिकार मिलेगा. जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को निरस्त करने के हमारे फैसले से वे लोग (इमरान खान) भी परेशान हैं जो अपना ही देश नहीं संभाल पा रहे हैं. पीएम ने कहा, ये वही लोग हैं जो अशांति चाहते हैं. ये लोग आतंक के समर्थक हैं. आतंकवाद और आतंकवादियों को पालते हैं. आप सभी लोग उनको पहचानते हैं. अमेरिका में 9/11 हो या मुंबई 26/11, उसके साजिशकर्ता कहां से आए थे? अब वक्त आ गया है कि हम सभी मिलकर आतंकवाद को बढ़ावा देने वाली शक्तियों के खिलाफ निर्णायक लड़ाई लड़ना शुरू कर दें. पीएम मोदी ने कहा कि प्रेसीडेंट ट्रंप आतंक के खिलाफ हमारे साथ मजबूती से खड़े हैं. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी हाउडी मोदी कार्यक्रम में आतंकवाद और सीमा सुरक्षा पर अपनी बातें रखीं. उन्होंने कहा कि हम निर्दोष नागरिकों की कट्टरपंथी इस्लामिक आतंकवाद के खतरे से रक्षा करने के लिए प्रतिबद्ध हैं. भारत और अमेरिका इस बात को अच्छी तरह से समझते हैं कि अपने समुदाय को सुरक्षित रखने के लिए हमें अपनी सीमाओं की रक्षा करनी होगी. सीमा सुरक्षा भारत और अमेरिका दोनों के लिए महत्वपूर्ण है. जब ट्रंप ने यह बात कही, उस समय पीएम मोदी समेत स्टेडियम में मौजूद सभी लोग खड़े होकर तालियां बजाने लगे. ट्रंप ने कहा कि दोनों ही देशों के लिए अपनी सीमाओं की सुरक्षा करना जरूरी है. इसके लिए हम दोनों मिलकर कदम उठाएंगे. ट्रंप के इस बयान को पाकिस्तान द्वारा घुसपैठ की कोशिशों के जवाब के तौर पर देखा जा रहा है. ट्रंप ने कहा कि अमेरिका और भारत यह बात जानते हैं कि अपने लोगों को सुरक्षित रखने के लिए अपनी सीमाओं को सुरक्षित रखना बहुत जरूरी है. हम सुरक्षा को खतरा पैदा करने वालों को अपनी सीमाओं के अंदर आने नहीं देंगे. अवैध प्रवास को रोकने की दिशा में भी काम किया जा रहा है.

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

चीन नहीं, हिमाचल में तैयार होगा दवाइयों का सॉल्ट, खुलेगा देश का पहला एपीआई उद्योग

नई दिल्ली 01 अगस्त 2021 । नालागढ़ के पलासड़ा में एक्टिव फार्मास्यूटिकल इनग्रेडिएंट (एपीआई) उद्योग …