मुख्य पृष्ठ >> अगले वर्ष अधिक मास के कारण एक माह बाद आएगी नवरात्रि

अगले वर्ष अधिक मास के कारण एक माह बाद आएगी नवरात्रि

उज्जैन 25 दिसंबर 2019 । तीन साल 2020 में अधिक मास का संयोग बनेगा। नए साल में अश्विन, अधिक मास होगा। इसी का प्रभाव है कि श्राद्घ पक्ष में एक माह बाद शारदीय नवरात्र का आरंभ होगा। सामान्यत: श्राद्घपक्ष की सर्वपितृ अमावस्या के अगले ही दिन शारदीय नवरात्र का आरंभ हो जाता है, लेकिन नए साल में सर्वपितृ अमावस्या के अगले दिन नवरात्र की बजाय अधिक मास की शुरुआत होगी। ज्योतिषियों ने बताया कि पंचागीय गणना के अनुसार 18 सितंबर शुक्रवार को अधिक मास के रूप में प्रथम अश्विन की शुरुआत होगी। अधिक मास को पुरुषोत्तम मास के नाम से भी जाना जाता है। इस मास को शुद्घ मास की गणना
में नहीं गिना जाता है। इसलिए इसे अधिक मास की संज्ञा दी गई है, जो 18 सितंबर से शुरू होकर 17 अक्टूबर तक रहेगा। इस बार अधिक मास में दो तिथियां कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तथा शुक्ल पक्ष की तृतिया का क्षय है। धर्मधानी उज्जयिनी में अधिक मास में नवनारायण तथा सप्त सागरों की यात्रा का विधान है।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

जमीन विवाद में नया खुलासा, ट्रस्ट ने उसी दिन 8 करोड़ में की थी एक और डील

नई दिल्ली 17 जून 2021 । अयोध्या में श्री राम मंदिर ट्रस्ट के द्वारा खरीदी …