मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> कितना भी विरोध करो, हम नागरिकता देकर ही दम लेंगे

कितना भी विरोध करो, हम नागरिकता देकर ही दम लेंगे

नई दिल्ली 14 जनवरी 2020 । गृह मंत्री अमित शाह ने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर कांग्रेस पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा है कि कांग्रेस वालों कान खोल कर सुन लो, जितना विरोध करना है करो, हम सारे लोगों को नागरिकता देकर ही दम लेंगे. भारत पर जितना अधिकार मेरा और आपका है, उतना ही अधिकार पाकिस्तान से आए हुए शारणार्थियों का भी है.

अमित शाह ने मध्य प्रदेश के जबलपुर में एक रैली को संबोधित करते हुए रविवार को ये बात कही. उन्होंने कहा, ‘आज सारे कांग्रेसी पूरे देश में CAA का विरोध कर रहे हैं. जो महात्मा गांधी ने कहा था, राहुल गांधी आप महात्मा गांधी की भी नहीं सुनोगे. महत्मा गांधी को तो कब का आपने छोड़ दिया है.’

उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस वालों कान खोल कर सुन लो, जितना विरोध करना है करो, ये सारे लोगों को नागरिकता देकर ही हम दम लेंगे. भारत पर जितना अधिकार मेरा और आपका है, उतना ही अधिकार पाकिस्तान से आए हुए शारणार्थियों का है. वो भारत के बेटा-बेटी हैं, वो हमारे भाई हैं.’

केजरीवाल, ममता, कम्युनिस्ट कर रहे गुमराह

अमित शाह ने कहा कि CAA पर बीजेपी एक जन जागरण अभियान चला रही है. ये जन जागरण अभियान बीजेपी इसलिए चला रही है क्योंकि कांग्रेस पार्टी, केजरीवाल, ममता बनर्जी, कम्युनिस्ट ये सभी इकट्ठा होकर देश को गुमराह कर रहे हैं. उन्होंने कहा, ‘ आज मैं बताने आया हूं कि CAA में कहीं पर भी किसी की नागरिकता छीनने का प्रावधान नहीं है, इसमें नागरिकता देने का प्रावधान है.’

अमित शाह ने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने देश का बंटवारा धर्म के आधार पर किया. बंटवारे के समय पूर्वी और पश्चिमी पाकिस्तान से हिंदू, सिख, जैन, बौद्ध, पारसी और ईसाइ को भारत आना था, मगर उस समय स्थिति सही नहीं होने के कारण वहां वो रह गए. हमारे देश के सभी नेताओं ने आश्वासन दिया कि आप अभी वहां रह जाइए और आप जब भी कभी भारत आएंगे तो आपका स्वागत किया जाएगा, भारत आपको नागरिकता देगा.

अमित शाह ने बताया कि 2 जुलाई 1947 को महात्मा गांधी जी ने कहा था कि जिन लोगों को पाकिस्तान से भगाया गया, जो पाकिस्तान में रह गए हैं उनको पता होना चाहिए कि वो भारत के नागरिक थे, जब भी भारत में आना चाहें भारत उनको नागरिकता देगा.

अल्पसंख्यकों को उकसाया जा रहा

देश में सीएए के खिलाफ जारी विरोध प्रदर्शनों पर अमित शाह ने कहा कि देश के अल्पसंख्यकों को उकसाया जा रहा है कि आपकी नागरिकता चली जाएगी. मैं देश के अल्पसंख्यक भाइयों-बहनों से कहने आया हूं कि CAA को पढ़ लें, इसमें कहीं पर भी किसी की भी नागरिकता जाने का कोई प्रावधान नहीं है.

कमलनाथ जी अपनी उम्र का करें लिहाज : अमित शाह

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने जबलपुर में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि, ‘CAA पर भाजपा एक जन जागरण अभियान चला रही है. ये जन जागरण अभियान भाजपा इसलिए चला रही है क्योंकि कांग्रेस पार्टी, केजरीवाल, ममता बनर्जी, कम्युनिस्ट ये सभी इकट्ठा होकर देश को गुमराह कर रहे हैं. आज मैं बताने आया हूं कि CAA में कहीं पर भी किसी की नागरिकता छीनने का प्रावधान नहीं है, इसमें नागरिकता देने का प्रावधान है.’ उन्होंने कहा कि भारत पर जितना अधिकार मेरा और आपका है, उतना ही अधिकार पाकिस्तान से आए हुए हिंदू, सिख, बौद्ध, ईसाई शरणार्थी का है.

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि देश के अल्पसंख्यकों को उकसाया जा रहा है कि आपकी नागरिकता चली जाएगी. मैं देश के अल्पसंख्यक भाइयों-बहनों से कहने आया हूं कि CAA को पढ़ लें इसमें कहीं पर भी किसी की भी नागरिकता जाने का कोई प्रावधान नहीं है. उन्होंने कहा, ‘JNU में कुछ लड़को ने भारत विरोधी नारे लगाए, उन्होंने नारे लगाए- भारत तेरे टुकड़े हों एक हज़ार, इंशाअल्लाह इंशाअल्लाह’. ऐसे लोगों को जेल में डालना चाहिए या नहीं?

गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि जो देश विरोधी नारे लगाएगा उसका स्थान जेल की सलाखों के पीछे होगा. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने मध्य प्रदेश के सीएम पर तंज कसते हुए कहा, ‘कमलनाथ जी जोर-जोर से कहते हैं CAA लागू नहीं होगा, अरे कमलनाथ जी ये जोर से बोलने की आयु नहीं है. आपका स्वास्थ बिगड़ जाएगा. अगर इतना जोर बाकी है तो मध्य प्रदेश को ठीक करिए.

कमलनाथ का पलट वार , जनता उम्र नहीं काम देखती है

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पर निशाना साधा है। कमलनाथ ने कहा कि जनता नेता की उम्र नहीं बल्कि उनका काम देखती है। अमित शाह ने रविवार को जबलपुर में एक रैली में कमलनाथ की ज्यादा उम्र को लेकर उपहास किया था। शाह ने कहा था कि इस उम्र में कमलनाथ को ज्यादा जोर से नहीं बोलना चाहिए, वरना उनकी सेहत खराब हो जाएगी।

कमलनाथ ने कहा, ‘हमने केवल एक साल में दिखाया है कि सरकार कैसे काम करती है। 265 दिनों में 365 वादों को पूरा करके लोगों का विश्वास जीत लिया है। हम खाली वादे करने में विश्वास नहीं करते हैं। जनता मेरे काम को देखती है, मेरी उम्र नहीं। लोगों ने मेरी उम्र के बावजूद मुझे 5 साल के लिए चुना है।

हार से गृहमंत्री निराश: कमलनाथ

कमलनाथ ने आगे कहा, ‘हम समझ सकते हैं, राज्यों में मिल रही लगातार हार ने गृहमंत्री जी को निराशा की ओर धकेल दिया है। गृहमंत्री जितना कठिन परिश्रम विपक्षियों की आलोचना करने में कर रहे हैं, उतना परिश्रम, गिरती हुई अर्थव्यवस्था को सुधारने और रोजगार के अवसर सृजित करने में करते तो देश का ज्यादा भला होता।’

कमलनाथ ने उम्र को लेकर चर्चिल का किस्सा सुनाया

कमलनाथ ने कहा- गृहमंत्री अमित शाह ने मेरी उम्र को लेकर जो कुछ कहा था, उस पर मुझे एक किस्सा याद आता है। एक बार ब्रिटेन के पूर्व प्रधानमंत्री विंस्टन चर्चिल के 80वें जन्मदिन की पार्टी में एक फोटोग्राफर उनसे मिला। फोटोग्राफर ने चर्चिल को शुभकामना देते हुए कहा कि वह आशा करता है कि सौवें जन्मदिन पर भी उसे चर्चिल की फोटोग्राफ उतारने का मौका मिलेगा। चर्चिल ने तुरंत उसकी बात का जवाब देते हुए कहा कि- नौजवान तुम तो अभी युवा हो और घबराओ मत, 20 साल में तुम्हें कुछ नहीं होगा।’

अमित शाह ने उम्र पर की थी टिप्पणी
नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के समर्थन में गृहमंत्री अमित शाह ने जबलपुर में रविवार को एक रैली की थी। इसमें कमलनाथ की उम्र को लेकर टिप्पणी कर दी थी। शाह ने कहा था-कमलनाथ जी कहते हैं कि मध्य प्रदेश में सीएए को लागू नहीं होने देंगे। कमलनाथ जी, ज्यादा जोर से बोलने की आपकी उम्र नहीं है। इस उम्र में अगर ज्यादा तेज बोलेंगे तो सेहत बिगड़ जाएगी। आप बस अपने राज्य की समस्याओं को ठीक करें।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

31 जुलाई तक सभी बोर्ड मूल्यांकन नीति के आधार पर जारी करें परिणाम, सुप्रीम कोर्ट ने दिए आदेश

नई दिल्ली 24 जून 2021 । देश के सभी राज्य बोर्डों के लिए समान मूल्यांकन …