मुख्य पृष्ठ >> अब पाकिस्तान का पानी पूरी तरह रोकने की तैयारी

अब पाकिस्तान का पानी पूरी तरह रोकने की तैयारी

नई दिल्ली 22 नवम्बर 2019 । भारत रणनीतिक सर्जिकल स्ट्राइक करने की तैयारी में है। दरिया उज्ज, भीनी, नाज, सूतर, तलैन आदि नालों के संगम पंजतीर्थी में बनने वाली उज्ज मल्टीपर्पज परियोजना यह काम पूरा करेगी। उज्ज मल्टीपर्पज परियोजना के 2013-14 में बने प्लान को बदलकर अब केंद्र सरकार के निर्देश से पाकिस्तान को बहने वाले उज्ज दरिया का पानी पूरी तरह से रोकने की तैयारी है।

बाढ़ के दौरान उज्ज दरिया में पाकिस्तान की ओर बहने वाले डेढ़ लाख क्यूसेक से अधिक पानी को भी डायवर्ट कर पंजाब, राजस्थान आदि राज्यों को भेजा जाएगा। यह काम मार्च 2020 से शुरू हो जाएगा। कंडी इलाके की बंजर और बारिश पर निर्भर भूमि आगामी कुछ वर्षों में हरियाली में तब्दील हो जाएगी।

केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी उज्ज मल्टीपर्पज परियोजना का इसी साल जनवरी में शिलान्यास तय था, लेकिन पाकिस्तान की ओर व्यर्थ बहने वाले पानी को रोकने के लिए इस परियोजना का शिलान्यास टाल दिया गया था। इसके बाद से लगातार परियोजना की रिवाइज्ड डीपीआर बनाने का काम जारी है।

उज्ज दरिया पर बनने वाली जम्मू कश्मीर की पहली मल्टीपर्पज परियोजना से कंडी की सूखी जमीनों को आने वाले कुछ वर्षों में ही पानी से तर किया जा सकेगा।

इस परियोजना से सिंचाई और पेयजल दोनों की आपूर्ति हो सकेगी। उज्ज मल्टीपर्पज परियोजना से सांबा और कठुआ जिले के कंडी इलाकों की 24 हजार हेक्टेयर भूमि की सिंचाई होगी। पहले जहां 16 हजार हेक्टेयर की सिंचाई का प्रावधान था वहीं अब इसे आठ हजार हेक्टेयर बढ़ा दिया गया है।

बिजली उत्पादन को लेकर भी नए सुझाव से काम किया जा रहा है। विभागीय सूत्रों के अनुसार 26 मेगावाट बिजली का अतिरिक्त उत्पादन किए जाने की योजना तैयार की जा रही है। पहले 186 मेगावाट बिजली उत्पादन होना था जिसे बढ़ाकर अब यह 212 मेगावाट किया जा रहा है।

इस परियोजना से प्रतिवर्ष होने वाले 310 मिलियन यूनिट बिजली का उत्पादन भी बढ़ जाएगा। जलस्तर का उच्चतम स्तर 609 मीटर तय किया गया है। 34.50 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में उज्ज परियोजना का जलाशय तैयार होगा। पूर्व में निधार्रित परियोजना की 5850 करोड़ की लागत भी बढ़ने जा रही है।

उज्ज मल्टीपर्पज परियोजना की रिवाइज्ड डीपीआर का काम जारी है। विभिन्न विभागों के लंबित मामलों को लेकर चर्चा की गई है। इस परियोजना को मार्च 2020 तक शुरू किए जाने की योजना है।

भारत ने पेश की मानवता की मिसाल, गलती से सीमा पार करने वाले पीओके नागरिक भेजा वापस

कुपवाड़ा जिले में एलओसी से भारतीय क्षेत्र में घुस आए एक पाकिस्तानी नागरिक को सद्भावना दिखाते हुए पुलिस ने वापस भेज दिया। कुपवाड़ा पुलिस ने पाकिस्तान के पाजकोट निवासी शब्बीर अहमद नामक नागरिक को वापस उसके देश भेजा। वह इस साल 18 मई को जिले के करनाह इलाके में दिलार चौकी के पास से गिरफ्तार किया गया था, जब वह आवश्यक अनुमति के बिना भारतीय क्षेत्र में चला आया था।
पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि मुकदमा दर्ज करने के बाद उसे चिकित्सकीय परीक्षण के लिए अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने बताया कि वह मानसिक रूप से पीड़ित है
इसके बाद केंद्र के अधिकारियों ने पाकिस्तान में संबंधित अधिकारियों से संपर्क किया ताकि अहमद की स्वदेश वापसी हो सके। प्रवक्ता ने बताया कि कानूनी औपचारिकताएं पूरी करने के बाद सद्भावनापूर्ण व्यवहार अपनाते हुए अहमद को वीरवार को पाकिस्तानी अधिकारियों को सौंप दिया गया।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

जमीन विवाद में नया खुलासा, ट्रस्ट ने उसी दिन 8 करोड़ में की थी एक और डील

नई दिल्ली 17 जून 2021 । अयोध्या में श्री राम मंदिर ट्रस्ट के द्वारा खरीदी …