मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> अब उज्जैन में मस्जिद के नीचे शिव मंदिर का दावा, संत अतुलेशानंद ने उठाई जांच की मांग

अब उज्जैन में मस्जिद के नीचे शिव मंदिर का दावा, संत अतुलेशानंद ने उठाई जांच की मांग

 उज्जैन 11 मई 2022 । ताजमहल के 22 कमरे, काशी की ज्ञानवापी मस्जिद में भगवान की मूर्तियों का विवाद अब उज्जैन भी पहुंच गया है। उज्जैन की बगैर नींव की मस्जिद के बारे में दावा किया गया है कि इसके नीचे प्राचीन शिव मंदिर और गणेश प्रतिमा है। यह दावा महामंडलेश्वर अतुलेशानंद जी महाराज ने किया है। उन्होंने कहाकि मस्जिद की जांच हो और फोटोग्राफी व वीडियोग्राफी करवाई जाए। उन्होंने यहां तक कहाकि अगर प्रशासनिक जिम्मेदारों ने कार्यवाही नहीं की कोर्ट का दरवाजा भी खुला है।

दावा किया 2007 में अंदर जाकर देखा था
आवाहन अखाड़े के महामंडलेश्वर व अखंड हिन्दू सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष संत अतुलेशानंद सरस्वती महाराज ने यह दावा किया है। उनका कहना है कि 2007 में उन्होंने खुद मस्जिद में प्रवेश कर प्राचीन परमार कालीन राजा भोज के समय की शिव और गणेश प्रतिमा वहां देखी है। उन्होंने कहाकि उज्जैन मां क्षिप्रा के तट पर स्थापित है। राजाभोज की राजधानी रहा उज्जैन एक दुर्लभ स्थान है, जिस पर 1600 में मुस्लिम मुगल शासकों ने कब्जा जमा लिया।

फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी हो
महामंडलेश्वर अतुलेशानंद ने कहाकि मस्जिद की फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी की जाए। तब तक कोई उससे छेड़छाड़ न करे। उनका दावा है कि मस्जिद के अंदर हाथी, घोड़े और पत्थरों पर विशाल पहरेदार सैनिकों की मूर्तियां बनी हैं। संत ने इस मामले में कोर्ट जाने की बात कही है। साथ ही उन्होंने ग्वालियर से मस्जिद से जुड़े डॉक्यूमेंट मंगवाने की बात कहते हुए प्रशासन से हिंदुओं की संपत्ति उनको देने की गुहार लगाई है।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

‘राजपूत नहीं, गुर्जर शासक थे पृथ्वीराज चौहान’, गुर्जर महासभा की मांग- फिल्म में दिखाया जाए ‘सच’

नयी दिल्ली 21 मई 2022 । राजस्थान के एक गुर्जर संगठन ने दावा किया कि …