मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> अब जनरल कोच में ऐसे ही नहीं घुस पायेगी भीड़…

अब जनरल कोच में ऐसे ही नहीं घुस पायेगी भीड़…

नई दिल्ली 1 मई 2019 । अब‌ ट्रेन के सामान्य कोच में यात्रा करने वाले यात्रियों को परेशानियों से बचाने के लिये रेलवे नई पहल करने जा रहा है। इसके तहत यात्रियों को बायोमेट्रिक टोकन के जरिये कोच में प्रवेश मिलेगा। इस व्यवस्‍था के लागू होने से अवैध रूप से सीटों की खरीद फरोख्त पर अंकुश लग सकेगा।

अभी है यह व्यवस्‍था
अभी सामान्य कोच में यात्रा करने वाले यात्रियों को लंबी कतारों में घंटों खड़े रहने के बावजूद सीट नहीं मिल पाती है। वहीं कुलियों और दूसरे कर्मचारियों को कुछ लोग पैसे देकर अवैध रूप से सीट पर कब्जा कर लेते हैं। लाइन में धक्का मुक्की करके भी कुछ लोग कोच में पहले घुसने में सफल हो जाते हैं। कई बार लंबे समय से इंतजार कर रहे लोगों को खड़े-खड़े यात्रा करनी पड़ती है। जो यात्री ट्रेन में सवार नहीं हो पाते हैं उन्हें किसी दूसरी ट्रेन की प्रतीक्षा करनी पड़ती है या अपनी यात्रा रद्द करनी पड़ती है।

इस तरह मिलेगा प्रवेश

रेलवे की माने तो नई व्यवस्‍था के तहत यात्रियों को परेशानी से बचाने के लिये टिकट खरीदते वक्त ही बायोमेट्रिक टोकन दे दिया जाएगा। यात्रियों को सामान्य कोच के बाहर लगी स्कैनिंग मशीन पर इस टोकन को स्कैन करना होगा। इसके बाद ही रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) के जवान यात्रियों को कोच में प्रवेश देंगे। साथ ही सामान्य कोच में जितनी सीटें होंगी उतनी ही टिकटें जारी की जायेंगी। मध्य रेलवे सबसे पहले यह सुविधा पुष्पक एक्सप्रेस में लागू करेगी। वहीं पश्चिम रेलवे भी इस व्यवस्‍था को लागू करने पर गंभीरता से विचार कर रहा है कि इसे किस डिविजन से शुरू किया जाये।

कोच बढ़ाने पर भी विचार किया जाएगा

नई व्यवस्‍था से जहां लोगों को यात्रा के दौरान परेशानियों से निजात मिलेगी वहीं गर्मी के मौसम में बेतहाशा भीड़ को नियंत्रित करना रेलवे के लिये बड़ी चुनौती साबित होने वाली है। सीटों की संख्या के आधार पर टोकन जारी करने के बाद बाकी के यात्री कैसे सफर करेंगे? यह पूछे जाने पर रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि “यह काफी चुनौतीपूर्ण है, लेकिन इसे प्रायोगिक तौर पर शुरू करेंगे।” उन्होंने कहा कि ज्यादा यात्री होंगे तो कोच बढ़ाने पर भी विचार किया जाएगा।
ट्रेन छूटने से चार घंटे पहले मिलेगा टोकन
इस व्यवस्‍था के तहत ट्रेन छूटने से चार घंटे पहले टिकट लेने वाले यात्रियों को बायोमेट्रिक टोकन दिया जायेगा। अधिकारियों की मानें तो रेलवे यह कदम आम यात्रियों के सफर को आरामदायक बनाने के लिये उठा रहा है।

बता दें कि फिलहाल सामान्य कोच में सफर करने में लोगों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। सीट से दोगुने से भी ज्यादा यात्रियों के कोच में सवार हो जाने के कारण कई लोगों को खड़े-खड़े सफर करना पड़ता है। कई बार तो भीड़ के कारण कुछ यात्री शौचालय तक में बैठकर यात्रा करने से भी परहेज नहीं करते हैं।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

अमित शाह के बयान पर नीतीश कुमार का तंज, बोले- इतिहास कोई कैसे बदल सकता है

नयी दिल्ली 14 जून 2022 । बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपनी सहयोगी पार्टी बीजेपी …