मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> ओमिक्रॉन लहर से मध्य प्रदेश के 50 जिलो में संक्रमण फैला : डॉ पुरोहित

ओमिक्रॉन लहर से मध्य प्रदेश के 50 जिलो में संक्रमण फैला : डॉ पुरोहित

भोपाल 12 जनवरी 2022 । करोना की तीसरी लहर भारत में ओमिक्रॉन वेरिएंट से आई है. जबकि पिछले साल कोरोना के डेल्टा वेरिएंट ने तबाही मचाई थी। ओमिक्रॉन वेरिएंट डेल्टा के मुकाबले बेहद तेज़ी से फैल रहा है ।
मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण का तांडव जारी है।आए दिन कोरोना के आंकड़ों में बढ़ोतरी हो रही है।
मध्य प्रदेश में संक्रमण दर 3.7 प्रतिशत हो गई है।भोपाल में 11 जनवरी तक 562 केस मिले हैं । प्रदेश के अब 50 जिलों में संक्रमण फैल चुका है।

यह खुलासा राष्ट्रीय संचारी रोग नियंत्रण कार्यक्रम के सलाहकार डॉ नरेश पुरोहित ने ब्लू आईज को करते हुए बताया की इस वेरिएंट से संक्रमित होने वाले मरीजों में ज्यादातर सर्दी जुकाम के लक्षण दिख रहे हैं। लिहाजा शुरुआत में इसकी पहचान करने में काफी परेशानी हो रही है. लेकिन डेल्टा के मुकाबले ओमिक्रॉन में कुछ अलग लक्षण भी हैं, जो बेहद डरावने हैं.
प्रख्यात महामारी रोग विज्ञानी डॉ पुरोहित ने
हाल ही में ब्रिटिश जेनेटिक एपिडेमियोलॉजी जरनल मे प्रकाशित एक शोध रिपोर्ट के हवाले से बताया कि ओमिक्रॉन से संक्रमित होने के बाद मरीजों को शरीर में असहनीय दर्द का अनुभव हो रहा है. खास कर पीठ के निचले हिस्से में काफी ज्यादा दर्द होता है.
रिपोर्ट के अनुसार संक्रमण के शुरुआती चरणों में सर्वाअधिक लोग उल्टी आने की शिकायत कर रहे हैं.
रिपोर्ट में कहा गया है कि पीठ के निचले हिस्से में दर्द बाद में पूरे शरीर की मांसपेशियों फैल जाता है.
डॉ पुरोहित ने अमेरिका के रोग नियंत्रण केंद्र की एक ताजा रिपोर्ट का उल्लेख करते हुए कहा कि ओमिक्रॉन से जुड़े कुछ सामान्य लक्षण खांसी, थकान, कफ और नाक बहना है, इसके अलावा वहां मरीजों में लगातार नए लक्षण पाएं जा रहे है। जिनमें मितली, हल्का बुखार, गले में खराश और सिरदर्द जैसे लक्षण भी दिख रहे हैं।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

‘राजपूत नहीं, गुर्जर शासक थे पृथ्वीराज चौहान’, गुर्जर महासभा की मांग- फिल्म में दिखाया जाए ‘सच’

नयी दिल्ली 21 मई 2022 । राजस्थान के एक गुर्जर संगठन ने दावा किया कि …