मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> वापस आ रही है लोगों की पसंदीदा मारुति 800 कार

वापस आ रही है लोगों की पसंदीदा मारुति 800 कार

नई दिल्ली 1 अगस्त 2018 । ये एक पहली गाड़ी थी, जो सारी चीज़ों के साथ लॉन्‍च हुई थी। एसी, इज़ी स्टेयरिंग, तमाम चीज़ें थीं। ये एक पॉपुलर गाड़ी थी। 26 साल बाद मारुति 800 की विदाई एक गाड़ी की विदाई नहीं थी, एक युग की विदाई थी। बाज़ार की हक़ीकतों ने सपनों के इस हवाई जहाज पर पूर्ण विराम लिख दिया था। लेकिन वक्त का पहिया पलट रहा है। लौट रही है ललक की सवारी। मारुति 800। नाम वही लेकिन रंगत नई।

मारुति 800 को मिल रहा है नया नाम :
दरअसल 800 वापस तो आ रही है लेकिन नए नाम के साथ। यानी आपकी सपनों की कार आएगी ज़रूर लेकिन नए कलेवर के साथ। ये कार तो एक होगी लेकिन इसमें खूबियां अनेक होंगी। हिंदुस्तान में क्रिकेट मतलब सचिन तेंदुलकर, हीरो मतलब अमिताभ बच्चन, घी मतलब डालडा, ठंडा मतलब कोका कोला और कार मतलब मारुति 800। मारुति 800 ये नाम भारत के उन कुछ गिने-चुने नामों में से एक है, जो रहे न रहे लेकिन उनके नाम सदियों तक याद रहेंगे।

ज़ाहिर है लोगों कि ज़ुबान पर पिछले 28 सालों से जो नाम चढ़ा हुआ है, उसे कोई कंपनी ऐसे ही कैसे खत्म हो जाने देती। मारुति सुज़ूकी ने फैसला किया कि आम आदमी की ज़िंदगी से जुड़ी इस कार को दोबारा आम आदमी के बीच उतारना है। लेकिन कंपनी ने इस बार इस बात का खयाल रखा है कि उनकी और पूरे हिंदुस्तान की यह सबसे चहेती कार फिर से सड़कों पर उतारी तो जाएगी, लेकिन नए अंदाज़ और नए रूबाब के साथ।

दिवाली के आसपास लांच होगी मारुति सर्वो 800
भारत में जिन दो कारों ने सबसे ज़्यादा लोगों का दिल जीता उनमें सबसे पहला नंबर है आपकी अपनी मारुति 800 औऱ दूसरा नंबर है मारुति ऑल्टो। अब ये देखना होगा कि मारुति सर्वो कितना दिल जीत पाती है।

800 के जैसी कीमत भी होगी जो आम आदमी के सपनों को पूरा करेगी तो सर्वो का माइलेज होगा जो बढ़ती मंहगाई में भी आपके जेब का ख्याल रखेगी। मारुति की ये मोस्ट अवेटेड कार इस साल दिवाली के आसपास लांच होने वाली है। मारुति 800 बड़े शहरों से पहले ही अलविदा कह चुकी है औऱ कंपनी ने पुरानी अल्टो को भी बंद करने का फैसला किया है। लेकिन पुरानी अल्टो की जगह लेने और मारुति 800 की याद दिलाने आ रही है नई सर्वो 800।

दिलचस्‍प है आम आदमी की कार की कहानी :
जिस कार ने मिडिल क्लास आदमी को स्कूटर से उतारकर कार में सवार करा दिया आखिर उसकी कहानी क्या है? कैसे इस कंपनी को भगवान का नाम मिला और किसकी कोशिशों से तैयार हुई आम आदमी की कार? ये कहानी है भारत की कार की, ये कहानी है आम आदमी की कार की, ये कहानी है सपनों की कार की।

पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के बड़े बेटे संजय गांधी का सपना था कि कार मध्यमवर्ग के लोगों की सवारी बने। संजय गांधी चाहते थे कि कम खर्च वाली इस कार का निर्माण भारत में ही किया जाए। 1971 में कंपनी अधिनियम के तहत मारुति उद्योग लिमिटेड का निर्माण किया गया और जिसके पहले मैनेजिंग डॉयरेक्टर संजय गांधी बने। आप तक छोटी और बेहतरीन कारें पहुंचाने के लिए मारुति को कई पड़ावों से गुजरना पड़ा। दो साल से ज़्यादा का समय तो सिर्फ सरकार की मंजूरी में लगा।

फिर एक अच्‍छे पार्टनर की तलाश में कंपनी ने दुनिया भर के बाजारों को छाना। और फिर मारुति मिला सुजूकी मोटर का साथ। हालांकि सुज़ूकी मोटर से पहले मारुति की साझेदार के रूप में फॉक्सवैगन को चुना गया था। फॉक्सवैगन गोल्फ वो छोटी कार थी जो भारत में उतारी जानी थी। लेकिन वह भारत के हिसाब से कुछ ज्यादा महंगी पड़ रही थी। देश में मारुति कारों की फैक्ट्री लगाने के लिए किसानों से ज़मीन अधिग्रहण विवाद और देश में इमरजेंसी ने आम आदमी के इस कार के काम की रफ्तार पर तकरीबन ब्रेक लगा दिया। 1977 में मारुति उद्योग लिमिटेड दिवालिया हो गई। जस्टिस एसी गुप्ता कमीशन ने ‘मारुति स्कैंडल’ की जांच कर 1978 में अपनी रिपोर्ट सौंपी। इसके तीन साल बाद इंदिरा गांधी की पहल पर कंपनी को दोबारा खड़ा करने की कोशिश हुई।

इस बार मारुति ने जो रफ्तार पकड़ी उसका नतीजा दिसंबर 1984 में नज़र आया जब आम आदमी की इस कार की चाबी तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने हरपाल सिंह नाम के शख्स के हाथों में सौंपी। हरपाल सिंह मारुति कार के पहले मालिक बने। हालांकि मारुति फैक्ट्री में काम करने वाले मजदूर चाहते थे कि पहली मारुति 800 भगवान तिरुपति को भेंट दी जाए। लेकिन जापानी मालिकों ने उनकी गुज़ारिश ठुकरा दी। इसके बाद मजदूरों ने पैसा इकट्ठा कर मारुति 800 भगवान तिरुपति को अर्पित की गई। 1997 में सरकार ने मारुति का नियंत्रण अपने हाथों में ले लिया। हालांकि साल 2000 में कंपनी सरकारी नियंत्रण से मुक्त हो चुकी है और अब मारुति सुजूकी कार बनाने वाली विश्‍व की सबसे बड़ी कंपनी बनने की ओर बढ़ रही है। भारत ही नहीं बल्कि एशिया के कई देशों की सड़कों पर मरुति कारें दौड़ रही हैं वो भी तेज़, बहुत तेज़।

कीमत पर है लोगों की नजर :
जब से सर्वो 800 के आने की खबर लगी है, लोग इस कार का बेसब्री से इंतज़ार कर रहे हैं। सब इस कार को मारुति 800 से जोड़कर देख रहे हैं। हालांकि इस कार में सिर्फ 800 का नाम ही है वरना इसके फीचर्स तो मौजूदा छोटी कारों को भी पछाड़ रहे हैं। भारत की सबसे ब़डी कार निर्माता कंपनी इन दिनों अपनी सबसे पहली कार मारुति 800 के नए वर्जन को तैयार करने में जुटी है। कंपनी के पोर्टफोलियो में मारुति 800 अब तक की सबसे चर्चित कार है। कंपनी अब इसे सर्वो 800 के नाम से नए रंग-रूप में बाजार में पेश करने वाली है। माना जा रहा है कि दिवाली या इस साल के आखिर तक आने वाली इस कार की कीमत महज़ 1.50 से दो लाख रुपये के आस-पास होगी।

जानें क्‍या होगा नई सर्वो 800 में खास :
मारुति की इस नई कार की हाल ही में तस्वीरें भी लीक हुई हैं। इन तस्वीरों में कार को बेहतर लुक और इंटीरियर के साथ दिखाया गया है। जल्द ही लॉन्च होने वाली इस सर्वो 800 में आखिर कौन सी खूबियां हैं जो इसे बाकी कारों से अलग बनाएगी।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

कोरोना विस्फोट के बीच क्या लगेगा लॉकडाउन? पीएम मोदी की आज बड़ी बैठक

नई दिल्ली 19 अप्रैल 2021 । कोरोना की दूसरी लहर की वजह से देश में …