मुख्य पृष्ठ >> अंतर्राष्ट्रीय >> इंस्टाग्राम पर छाए पीएम मोदी, तीन करोड़ फॉलोअर्स के साथ दुनिया के सभी नेताओं को पछाड़ा

इंस्टाग्राम पर छाए पीएम मोदी, तीन करोड़ फॉलोअर्स के साथ दुनिया के सभी नेताओं को पछाड़ा

नई दिल्ली 14 अक्टूबर 2019 । प्रधानमंत्री नरेंद मोदी की शोहरत दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है। अमेरिका में हाउडी मोदी समारोह के सफल आयोजन के बाद अब पीएम मोदी इंस्टाग्राम पर छाए हुए हैं। पीएम मोदी सोशल मीडिया पर हमेशा एक्टिव रहते हैं। सोशल साइट्स इंस्टाग्राम पर उनके फॉलोअर्स की संख्या तीन करोड़ के पार हो गई है।

पीएम मोदी दुनिया में सबसे अधिक फॉलोअर्स वाले नेताओं में पहले स्थान पर पहुंच गए हैं। पीएम मोदी ने इंस्टाग्राम पर फॉलोअर्स के मामले में अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा को भी पछाड़ दिया है। इंस्टाग्राम पर ट्रंप के 14.9 मिलियन और बराक ओबामा के 24.8 मिलियन फॉलोअर्स हैं।

इंस्टाग्राम पर पीएम मोदी के बाद दूसरे स्थान पर इंडोनेशिया के राष्ट्रपति जोको विडोडो हैं, जिनके 2.5 करोड़ फॉलोअर्स हैं। इंस्टाग्राम के अलावा ट्विटर पर मोदी के 50 मिलियन से अधिक फॉलोअर्स हो गए हैं, जबकि फेसबुक पर यह संख्या 44 मिलियन है। ट्विटर पर पूर्व यूएस प्रेसिडेंट बराक ओबामा 65.7 मिलियन फॉलोअर्स के साथ पीएम मोदी से आगे हैं।

कश्मीर मुद्दे पर मलयेशिया से नाराज भारत, सरकार उठा सकती है ये बड़ा कदम
भारत सरकार जल्द ही मलयेशिया के खिलाफ बड़ा कदम उठा सकती है। मलयेशिया द्वारा संयुक्त राष्ट्र में कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान का साथ देते हुए भारत की कार्रवाई को गलत बताने के बाद भारत सरकार मलयेशिया के खिलाफ व्यापारिक कार्रवाई की तैयारी कर रही है। इसके मद्देनजर सरकार ने सख्त संदेश भी भेज दिया है।
आयात पर लग सकता है प्रतिबंध
बता दें कि केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार मलयेशिया से आयात होने वाले पाम ऑयल ( Palm Oil ) पर प्रतिबंध लगाया जा सकता है। इसके साथ ही अन्य उत्पादों पर भी प्रतिबंध की घोषणा हो सकती है।
प्रति वर्ष भारत 90 लाख टन का होता है आयात
एक एजेंसी की रिपोर्ट में सरकारी सूत्रों के हवाले से यह बात प्राप्त हुई है। बता दें कि प्रति वर्ष भारत 90 लाख टन पाम ऑयल आयात करता है। ज्यादातर तेल इंडोनेशिया और मलयेशिया से ही आता है। इसके अतिरिक्त अर्जेंटीना और यूक्रेन से भी तेल आयात किया जाता है। कुल खाद्य तेल की खपत में पाम ऑयल का हिस्सा करीब दो तिहाई है।
साल 2019 में जनवरी से सितंबर तक सबसे अधिक पाम ऑयल मलयेशिया से ही आयात किया गया था। इस अवधि में 39 लाख टन ऑयल मलयेशिया से आया था। लेकिन अब इस पर सरकार पूरी तरह से प्रतिबंध लगा सकती है।
मलयेशिया के पीएम ने दिया बयान
हालांकि इस संदर्भ में मलयेशिया के प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद ने कहा था कि उन्हें भारत से इस प्रकार की कोई सूचना नहीं मिली है। तेल पर प्रतिबंध लगाने की खबर के बाद मलयेशिया में पाम ऑयल में पिछले पांच दिनों के मुकाबले भाव में कमी देखी गई है।
पाकिस्तान से बात करने की दी थी सलाह
बता दें कि पिछले महीने मोहम्मद ने जम्मू-कश्मीर के हालात पर टिप्पणी करते हुए इसे भारत का आक्रमण करार दिया था। उन्होंने भारत को पाकिस्तान से बात करने की सलाह भी दी थी। तब विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा था कि वे मलयेशिया सरकार को कहेंगे कि वह कोई भी बयान देने से पहले हकीकत को समझ लें।

कश्मीर के नाम पर पाकिस्तान ने की नाकामी छुपाने की कोशिश, थरूर ने लगाई लताड़
विश्व के हर पटल पर मुंह की खाने के बाद भी पाकिस्तान का कश्मीर मुद्दे पर रोना कम नहीं हुआ है। अगस्त में भारत सरकार द्वारा जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद से पाकिस्तान ऐसा बौखलाया हुआ है कि वो हर वैश्विक मंच पर कश्मीर मुद्दे को उठाने की कोशिश करता है और हर बार उसे मुंहतोड़ जवाब मिलता है। भारत की ओर से लगातार उसके झूठ को बेनकाब किया जा रहा है। इस बार तो पाकिस्तान ने हद कर दी, उसने कश्मीर पर झूठ बोलकर अपनी नाकामी छुपाने की कोशिश की। इस बार कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने पाकिस्तान को उसके इस झूठ के लिए लताड़ लगाई है।

शशि थरूर ने रविवार को ब्रेल्ग्रेड में एशियाई संसदीय सभा की बैठक में पाकिस्तान द्वारा जम्मू-कश्मीर मुद्दा उठाने पर उसकी आलोचना की। कांग्रेस नेता ने कहा कि भारत के आंतरिक मामले का संदर्भ देकर पाकिस्तान मंच के राजनीतिकरण का प्रयास कर रहा है।

सूत्रों ने कहा कि अंतर संसदीय संघ की वार्षिक बैठक से इतर एशियाई संसदीय सभा में थरूर ने पाकिस्तानी सीनेट के अध्यक्ष के एक पत्र की निंदा की, जिसमें उन्होंने पाकिस्तान द्वारा दिसंबर 2019 में तय एपीए पूर्ण सत्र की मेजबानी करने में नाकामी के लिए जम्मू-कश्मीर की गतिविधियों को जिम्मेदार बताया।

थरूर ने पाकिस्तान की सीनेट के अध्यक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि उन्होंने भारत के आंतरिक मामले का संदर्भ ‘अनावश्यक रूप से सभा के राजनीतिकरण के लिए किया।’ पूर्व विदेश राज्य मंत्री ने कहा, ‘जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है। जम्मू-कश्मीर की स्थिति में ऐसा कुछ भी नहीं जो किसी भी रूप में उनके देश में रहने और काम करने की स्थिति को प्रभावित करे।’ थरूर ने कहा, ‘भारत के आंतरिक मामले उसकी सीमाओं से बाहर नहीं जाते और पड़ोसियों को प्रभावित नहीं करते।’

पाकिस्तान के काली सूची में जाने पर फैसला आज, एफएटीएफ की बैठक में होगा निर्णय
पेरिस में शुरू हुई फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) की बैठकों में यह आकलन किया जाएगा कि इस्लामाबाद ने वैश्विक निगरानी के तहत आतंकी वित्तपोषण और धन शोधन (मनी लॉन्डरिंग) को रोकने के लिए कदम उठाया है या नहीं, ऐसे में पाकिस्तान की किस्मत अधर में लटकी हुई है। एफएटीएफ ने पाकिस्तान को अक्तूबर तक कुछ कदम उठाने के लिए कहा गया था, उसमें अगर उसने ढिलाई बरती है तो वह पाक को ‘ब्लैक लिस्ट’ में डाल सकता है, जिसका मतलब यह होगा कि उसे आईएमएफ और विश्व बैंक जैसे अंतरराष्ट्रीय वित्तीय संस्थानों से कर्ज और सहायता नहीं मिल सकेगी।

पाकिस्तान पहले से ही ‘ग्रे लिस्ट’ (वॉच लिस्ट) में है और एफएटीएफ ने धन शोधन और आतंक के वित्तपोषण के खिलाफ कार्रवाई पूरी करने के लिए उसे अक्तूबर तक का समय दिया है। वैश्विक निकाय में वर्तमान में 37 देश और दो क्षेत्रीय संगठन शामिल हैं, जो दुनिया भर के अधिकांश प्रमुख वित्तीय केंद्रों का प्रतिनिधित्व करते हैं। इसकी रविवार से 18 अक्तूबर तक पेरिस में प्लेनरी और वर्किंग ग्रुप की बैठकें होंगी। वर्तमान में, चीन एफएटीएफ का अध्यक्ष है, जो नई तकनीकों के धन शोधन और आतंकवादी वित्तपोषण के जोखिमों को कम करने के लिए काम कर रहा है।

पाकिस्तान हालांकि, चीन, मलेशिया और तुर्की की मदद से ‘ब्लैक लिस्ट’ में आने से बच सकता है, लेकिन आतंकवाद से लड़ने के मामले में उसका रिकॉर्ड इसे ‘ग्रे लिस्ट’ से हटाने में मददगार साबित नहीं होगा। पिछले 23 अगस्त को विश्व निकाय के एशिया-पैसिफिक ग्रुप ने पाकिस्तान से नाखुशी व्यक्त करते हुए कहा था कि यह आतंक के वित्तपोषण और धनशोधन के खिलाफ कार्रवाई को लेकर आवश्यक 40 में से 32 मापदंडों में विफल रहा है।

अब सीमा पर दुश्मन की खैर नहीं, सुरक्षा बलों को मिली ड्रोन को मार गिराने की इजाजत
अंतरराष्ट्रीय सीमा पर भारत के खिलाफ पाकिस्तान की ड्रोन साजिश को नाकाम करने के लिए सुरक्षा बलों को विशेष अधिकार दिए गए हैं। पाकिस्तान छोटे ड्रोन के जरिए भारत में हथियार और ड्रग्स भेजने की कोशिश में जुटा हुआ है। ऐसे में सुरक्षा बलों को 1000 फीट या उससे कम उंचाई पर उड़ने वाले ड्रोन को मार गिराने की छूट मिल गई है।
केंद्र सरकार के सूत्रों के अनुसार, ‘अंतरराष्ट्रीय सीमा पर तैनात सुरक्षा एजेंसियों को सीमा पर दिखने वाले ड्रोन को मार गिराने की छूट दे दी गई है। इसके मुताबिक 1000 या उससे कम उंचाई पर उड़ने वाले ड्रोन को मार गिराया जाएगा।’ हालांकि एक हजार फीट से ज्यादा उंचाई पर उड़ने वाले ड्रोन पर किसी भी तरह की कार्रवाई से पहले अनुमति लेना जरूरी होगा क्योंकि वह विमान भी हो सकता है।

हाल ही में सुरक्षा एजेंसियों ने पंजाब में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर छोटे ड्रोन को उड़ते देखा था। चीन निर्मित इन ड्रोन का इस्तेमाल एसॉल्ट राइफल और ड्रग्स पहुंचाने के लिए किया जा रहा था। पिछले सोमवार को फिरोजपुर में हुसैनीवाला बॉर्डर पोस्ट पर बीएसएफ के जवानों ने एक ड्रोन को देखा था।

ये ड्रोन पाक सीमा से भारत में घुसने की कोशिश कर रहा था। बीएसएफ ने इसकी सूचना पंजाब पुलिस को दी, जिसके बाद सर्च ऑपरेशन चलाया गया। स्थानीय पुलिस अभी भी मामले की जांच में जुटी हुई है।

पीएम मोदी के परिवार की सादगी हुई जगजाहिर, केस में नहीं हुआ प्रधानमंत्री के नाम का इस्तेमाल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भतीजी दमयंती बेन मोदी से हुई चेन स्नैचिंग की घटना सुलझ गई है. दोनों आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. लेकिन इस मामले से एक और बात जो सामने आई है, वह पीएम मोदी के परिवार की सादगी है. आज के समय में जहां एक तरफ वीआईपी कल्चर हावी है, वहीं पीएम मोदी का परिवार इससे पूरी तरह से दूर है. उनके परिवार ने व्यक्तिगत मकसद से कभी भी पीएम के नाम का इस्तेमाल नहीं किया. पीएम मोदी की राजनीतिक यात्रा में उनके परिवार के लोग भी साथ दे रहे हैं.

जब दमयंती बने के साथ चेन स्नैचिंग की घटना हुई तो वे एक आम शख्स की तरह ही पुलिस स्टेशन गईं. इसके बाद दिल्ली पुलिसकर्मयों के व्यवहार की सराहना भी की. दमयंती बेन ने अपने साथ हुई इस घटना को झेला और किसी भी तरह के स्पेशल ट्रीटमेंट की मांग नहीं की. घटना से पता चला है कि प्रधानमंत्री का परिवार आज भी सार्वजनिक परिवहन और ऑटो से यात्रा करना पसंद करता है. यही नहीं वो लोग दिल्ली में एक गुजराती समाज धर्मशाला में ठहरे हुए थे.

बता दें कि पीएम मोदी के भाई प्रह्लाद मोदी की बेटी दमयंती बेन मोदी की शिकायत के आधार पर पुलिस ने शनिवार को मामला दर्ज किया था. दमयंती बेन के अमृतसर से सुबह दिल्ली पहुंचने पर चैन स्नैचिंग की घटना हुई थी. इस मामले में रविवार को दोनों आरोपियों नोनू और बादल को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. दमयंती बने की पर्स में उनका फोन, पचास हजार रुपये, कुछ पेपर और दूसरे समान थे. ऑटो रिक्शा से उतरते समय दो स्कूटर सवार लोगों ने मोबाइल और पर्स झपट लिया था. वे अमृतसर से सुबह दिल्ली पहुंची थीं.

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

प्रियंका गांधी का 50 नेताओं को फोन-‘चुनाव की तैयारी करें, आपका टिकट कन्फर्म है’!

नई दिल्ली 21 जून 2021 । उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव …