मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> पीएम मोदी ने मध्यप्रदेश में कहा, कांग्रेस में भ्रष्टाचार ही शिष्टाचार

पीएम मोदी ने मध्यप्रदेश में कहा, कांग्रेस में भ्रष्टाचार ही शिष्टाचार

 भोपाल 29 अप्रैल 2019 । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यहां कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर सीधा हमला बोला. उन्होंने कहा कि यह पूरे देश में यह कहते हैं कि किसानों का कर्ज माफ हुआ, जबकि सच्चाई यह है कि किसी गरीब किसान का कर्ज माफ नहीं हुआ. पीएम मोदी ने कहा कि यह कितना झूठ बोलते हैं मुझे समझ नहीं आता.

उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस गरीबों के मुंह से निवाला छीन रही है. गरीब बच्चों और माताओं के पोषक आहार के लिए केंद्र से पैसे भेजे जाते हैं, जिसे राज्य की सरकार चुरा रही हैं, वही पैसा तुगलक रोड में पकड़ा जा रहा है. पीएम मोदी ने कहा कि कांग्रेस पार्टी में भ्रष्टाचार ही शिष्टाचार है.

5 साल में दोगुने से ज्‍यादा बढ़ी पीएम मोदी की आय, नकदी सिर्फ 38,750 रुपए

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 26 अप्रैल को वाराणसी से लगातार दूसरी बार नामांकन दाखिल किया. इस दौरान दिए गए हलफनामे में पीएम मोदी ने अपनी आय और अन्‍य चीजों के बारे में जानकारी दी. चुनावी हलफनामे में दी गई जानकारी के अनुसार, पिछले 5 वर्षों में पीएम मोदी की आय में दोगुना से ज्‍यादा की वृद्धि हुई है. वर्ष 2013-14 में पीएम मोदी की आय 9,69,711 रुपए थी जो वित्‍त वर्ष 2017-18 में बढ़कर 19,92,520 रुपए हो गई. इस तरह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आय में पिछले 5 वर्षों में 10,22,809 रुपए का इजाफा हुआ. हालांकि उनके पास 38,750 रुपए नकद हैं.

प्रधानमंत्री बनने के बाद पीएम मोदी की आय में एक लाख रुपए से ज्‍यादा तक की कमी दर्ज की गई. दरअसल, वर्ष 2013-14 में मोदी की आय 9.69 लाख रुपए थी. अगले वित्‍त वर्ष यानि साल 2014-15 में पीएम मोदी की आय 8.58 लाख रुपए हो गई थी. इस तरह प्रधानमंत्री बनने के बाद उनकी सालाना आय में 1.10 लाख रुपए की कमी हुई थी. वित्‍त वर्ष 2015-16 में उनकी आय में अच्‍छी-खासी वृद्धि दर्ज की गई. उनकी सालाना इनकम 19,23,160 रुपए तक पहुंच गई थी. इसके अगले साल 2016-17 में उनकी आय फिर कम होकर 14,59,750 रुपए हो गई थी. हालांकि, वित्‍त वर्ष 2017-18 में उनकी आय बढ़कर 19,92,520 रुपए तक हो गई.

2.5 करोड़ की संपत्ति के मालिक हैं मोदी

पीएम मोदी कुल 2,51,36,119 करोड़ रुपए के मालिक हैं. उनके पास 1,41,36119 करोड़ रुपए की चल और 1,10,00,000 रुपए की अचल संपत्ति भी है. पीएम के बैंक खाते में महज 4,143 रुपए हैा. इसके अलावा भारतीय स्टेट बैंक (SBI) में उन्होंने एक एफडी कराई थी. इसमें जमा की गई राशि अब तक बढ़कर 1.27 करोड़ रुपये हो गई है. उन्हाेंने 20 हजार रुपये सरकारी बॉन्ड, 7.61 लाख रुपये एनएससी में निवेश किए हुए हैं.

पीएम के पास हैं 1.13 लाख रुपये मूल्य की चार सोने की अंगूठियां

पीएम ने दो जीवन बीमा कराए हैं, जिनकी सरेंडर वैल्यू 1.90 लाख रुपये है. इसके अलावा उनके पास चार सोने की अंगूिठयां भी हैं, जिनकी कीमत 1.13 लाख रुपये है. उन्हें आयकर विभाग की ओर से टीडीएस के तौर पर काटे गए 85,145 रुपये भी मिलने हैं. वहीं, प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) की ओर से भी 1.40 लाख रुपये मिलने हैं.

गांधीनगर के घर में है एक चौथाई हिस्सेदारी, मूल्य 1.10 करोड़

हलफनामे में उन्होंने बताया है कि उनके पास किसी तरह की जमीन या वाणिज्यिक उपयोग की इमारत नहीं है. गांधीनगर में एक घर में वह एक चौथाई हिस्सेदार हैं, जिसका मौजूदा बाजार मूल्य 1.10 करोड़ रुपयेे है. उन्होंने किसी तरह का कर्ज भी नहीं लिया हुआ है. बता दें कि पीएम मोदी की ओर से दाखिल हलफनामे में जसोदा बेन का भी उल्‍लेख किया गया है, लेकिन इसमें उनके नाम के अलावा और कोई विवरण नहीं दिया गया है.

मैंने दिग्विजय सिंह को आतंकवादी नहीं कहा- प्रज्ञा ठाकुर

मध्य प्रदेश के भोपाल संसदीय क्षेत्र से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने अपने बयान पर उपजे विवाद के बाद एक बार फिर यू-टर्न ले लिया है। बगैर नाम लिए दिग्विजय सिंह को आतंकी बताए जाने वाले बयान पर प्रज्ञा ठाकुर ने सफाई देते हुए कहा है कि उन्होंने दिग्विजय को आतंकी नहीं कहा। साध्वी प्रज्ञा से शुक्रवार को पत्रकारों ने पूछा कि आपने दिग्विजय सिंह के लिए कहा था कि वह आतंकी हैं? इस पर प्रज्ञा ने कहा, “मैंने नहीं कहा आतंकी, वह कह सकते हैं। उन्होंने कहा है, हमने नहीं कहा।”

ज्ञात हो कि भोपाल संसदीय क्षेत्र के सीहोर में गुरुवार को प्रचार कार्यालय का उद्घाटन करते हुए प्रज्ञा ठाकुर ने बगैर नाम लिए दिग्विजय सिंह पर हमला करते हुए कहा था, “राज्य में 16 साल पहले उमा दीदी ने हराया था और वह 16 साल मुंह नहीं उठा पाया, और राजनीति करने की कोशिश नहीं कर पाया। अब फिर से सिर उठा है तो दूसरी सन्यासी सामने आ गई है, जो उसके कर्मो का प्रत्यक्ष प्रमाण है।”

उन्होंने आगे कहा था, “एक बार फिर ऐसे आतंकी का समापन करने के लिए, बेरोजगारी बढ़ाने वाले लोगों के लिए फिर से सन्यासी को खड़ा होना पड़ा है। अब जब समापन होगा, तो फिर कभी उग नहीं पाएगा।”

भोपाल संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस ने पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को उम्मीदवार बनाया है। भाजपा उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा लगातार दिग्विजय सिंह और कांग्रेस पर हमले कर रही हैं। भोपाल में 12 मई को मतदान होना है।

इससे पहले प्रज्ञा ठाकुर महाराष्ट्र के एटीएस प्रमुख रहे और आतंकियों की गोली से शहीद हुए हेमंत करकरे पर विवादित टिप्पणी कर चुकी हैं। उसके बाद अयोध्या में विवादित ढांचा गिराए जाने पर भी उन्होंने विवादित बयान दिए हैं। इन दोनों मामलों पर चुनाव आयोग ने नोटिस जारी किए थे।

हेमंत करकरे को लेकर दिए गए नोटिस के जवाब मे प्रज्ञा ठाकुर ने कहा था, “मैंने शहीद का अपमान नहीं किया है। मुझे जो यातनाएं दी गईं, केवल उसी का जिक्र किया है।”

उसके बाद प्रज्ञा ठाकुर ने कहा था, “हमें बाबरी मस्जिद का ढांचा गिराने का अफसोस नहीं है, ढांचा गिराने पर तो हम गर्व करते हैं। हमारे प्रभु रामजी के मंदिर पर अपशिष्ट पदार्थ थे, उनको हमने हटा दिया।”

प्रज्ञा ठाकुर ने आगे कहा था, “हम गर्व करते हैं, इस पर हमारा स्वाभिमान जागा है, प्रभु राम जी का भव्य मंदिर भी बनाएंगे। हमने ढांचा तोड़कर हिंदुओं के स्वाभिमान को जागृत किया है। वहां भव्य मंदिर बनाकर भगवान की आराधना करेंगे, आनंद पाएंगे।”

प्रज्ञा के इस बयान पर भी चुनाव आयेाग ने नोटिस जारी किया था। इस पर प्रज्ञा की ओर से जवाब दिया गया, जिसे आयोग ने अस्वीकार करते हुए उन पर आचार संहिता के उल्लंघन का मामला दर्ज कराया था।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

चीन नहीं, हिमाचल में तैयार होगा दवाइयों का सॉल्ट, खुलेगा देश का पहला एपीआई उद्योग

नई दिल्ली 01 अगस्त 2021 । नालागढ़ के पलासड़ा में एक्टिव फार्मास्यूटिकल इनग्रेडिएंट (एपीआई) उद्योग …