मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> प्रभाष जोशी के बेटे ने इंदौर में यह क्या बोल दिया

प्रभाष जोशी के बेटे ने इंदौर में यह क्या बोल दिया

इंदौर 25 अक्टूबर 2018 । वरिष्ठ पत्रकार प्रभाष जोशी के बेटे एवं लेखक सोपान जोशी ने कहा है कि कानह नदी को यदि हम केवल नदी की तरह रख लेंगे तो ही उसे पुनर्जीवन की कोई जरूरत नहीं पड़ेगी।

जोशी अभ्यास मंडल द्वारा नदी के पुनर जीवन पर आयोजित मासिक व्याख्यान को इंदौर प्रेस क्लब के सभागार में संबोधित कर रहे थे ।उन्होंने कहा कि हमने नदी को भूत बनाने के तरीके इजाद कर लिए हैं क्योंकि हमारी संवेदना कुंद हो गई है। हमारी पिछली पीढ़ी जिस नदी पर जाकर नहाती थी। अब उस नदी की दुर्गंध भी हमें परेशान नहीं करती है। इसका कारण यह है कि हम इस दुर्गंध के आदी हो गए हैं। सरकारी अमले ने तो नदियों के सुंदरीकरण का रास्ता ढूंढ लिया है ।पहले चीजें नैसर्गिक रूप से सुंदर हुआ करती थी ।अब कुरूप हो गई हैं इसीलिए यह रास्ता चलन में आ गया है। इंदौर एक ऐसा वीभत्स रस का शहर है जहां बिजली से पानी लाया जाता है और पानी को गन्दा कर नदी में बहाया जाता है।

आज आवश्यकता इस बात की है कि हम समस्या को समझें लेकिन होता यह है कि समस्या को समझने के बजाय हम उसके समाधान पर बहस करने लगते हैं। ऐसा संभव नहीं है कि हम परचून की दुकान पर जाकर कहेंगे और समाधान हमें मिल जाएगा। इंदौर की कान्ह नदी सहित किसी भी नदी को पुनर्जीवित करने की कोई जरूरत नहीं है ।बस हम उसे नदी की तरह रहने दे। वह खुद पुनर्जीवित हो जाएगी। हम नदी के मिट्टी और पेड़ पौधे से संबंध को बनने दें। उसके किनारे जाकर उत्सव मनाने लगे ।तभी आम नागरिकों का नदी के साथ संबंध और लगाव पैदा हो सकेगा। इस लगाव के माध्यम से ही हम सामाजिक दबाव तैयार करेंगे और नदी की जमीन पर अतिक्रमण करने वालों को अपना अतिक्रमण खुद हटाने के लिए विवश कर सकेंगे ।

उन्होंने कहा कि यदि हमने नदी की चिंता नहीं पाली तो उसका परिणाम केरल जैसा हादसा होता है ।इसके पूर्व इंदौर में कान्ह नदी के लिए लड़ाई लड़ने वाले सामाजिक कार्यकर्ता किशोर कोडवानी ने पावर पॉइंट प्रेजेंटेशन दिया। उन्होंने अपने प्रेजेंटेशन के माध्यम से कानह नदी की स्थिति पर प्रकाश डाला ।उन्होंने बताया कि इंदौर में 10 नदियां 160 किलोमीटर की लंबाई में बहती है ।यह नदियां 100 मीटर के ढलान पर रहते हुए आगे बढ़ती है ।उन्होंने बताया कि पायलट प्रोजेक्ट के रूप में 2 किलोमीटर क्षेत्र में नदी की सफाई का कार्य किया गया था। इस क्षेत्र में अब इंदौर नगर निगम द्वारा मलबा डालने का काम किया जा रहा है।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

पंजाब कांग्रेस का सस्पेंस बरकरार, नाराज सुनील जाखड़ को अपनी फ्लाइट में दिल्ली लाए राहुल-प्रियंका गांधी

नई दिल्ली 23 सितम्बर 2021 । चरणजीत सिंह चन्नी को मुख्यमंत्री बनाने के बावजूद पंजाब …