मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> मधुमेह व उच्च रक्तचाप नियंत्रित कर दिल का करें बचाव

मधुमेह व उच्च रक्तचाप नियंत्रित कर दिल का करें बचाव

उज्जैन 29 अक्टूबर 2018 । हृदय रोग तेजी से बढ़ रहा है, युवा भी इसकी चपेट मे आ रहे है। कम आयु के लोग कार्डियक अरेस्ट ( अचानक धड़कन रुक जाना) की बीमारी से पीडित हो रहे है। इसके मद्‌देनजर दिल की बीमारियों से जुडे जोखिम भरे कारकों को नजर अंदाज करना घातक साबित हो सकता है। इसलिए ब्लड़ प्रेशर मधुमेह हो तो उसे नियंत्रित रखें एवं नियमित दवा का उपयोग करें।
यह बात इंडियन सोसायटी ऑफ हाइपरटेंशन के कार्यकारी सदस्य डॉ नरेश पुरोहित ने अखिल भारतीय चिकित्सा आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) पटना के तत्वावधान मे क्यों बढ़ रहा है हृदय रोग विषय पर आयोजित राष्ट्रीय सतत चिकित्सकीय स्वास्थ्य कार्यक्रम मे उपस्थित चिकित्सकों को संबोधित करते हुए कही।
डॉ पुरोहित ने अपने उद्‌बोधन मे कहा कि ब्लड़ प्रेशर हृदय की बीमारी का एक बड़ा कारण है। समस्या यह है कि दो तिहाई लोगो को यह मालूम ही नही होता कि उन्हें यह बीमारी भी है। केवल एक तिहाई लोगो को ही बीमारी के बारे मे पता होता है | इसमें से 15 – 20 फीसदी लोग ही नियमित दवा लेते है। इस तरह उच्च रक्तचाप की बीमारी से पीडित ज्यादातर लोग उपचार नही करा पाते, जो बाद में हृदय की गंभीर बीमारी या दिल के दौरे का कारण बनता है। मधुमेह के कारण भी हृदय की बीमारियां होती है।
डॉ पुरोहित ने आगे कहा कि हृदय रोग से बचाव हेतु उच्च रक्तचाप व शुगर नियंत्रित रखना जरूरी है। जिन्हे उच्चरक्तचाप व मधुमेह की बीमारी हो, उन्हें नियमित दवा लेनी चाहिए | इससे गंभीर बीमारियों की रोकथाम की जा सकती है।
उन्होने ब्लू आईज को बताया कि दिल की बीमारियों के इलाज हेतु कई नई तकनीक आई है, जिससे उपचार आसान हो गया है। उन्होनें कहा कि अब सर्जरी के बगैर वॉल्व बदलना भी संभव है , लेकिन अभी यह तकनीक महंगी है। उन्होंने कहा कि पहले जो बायोडिग्रेडेबल स्टेंट इस्तेमाल हो रहे थे, उससे एंजियोप्लास्टी करने मे तकनीकी दिक्कते आ रही थी। इसलिए वह बंद हो गया। तकनीकी सुधार के पश्चात बायोडिग्रेडेबल स्टेंट दोबारा आ गया है।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

पंजाब कांग्रेस का सस्पेंस बरकरार, नाराज सुनील जाखड़ को अपनी फ्लाइट में दिल्ली लाए राहुल-प्रियंका गांधी

नई दिल्ली 23 सितम्बर 2021 । चरणजीत सिंह चन्नी को मुख्यमंत्री बनाने के बावजूद पंजाब …