मुख्य पृष्ठ >> अपराध >> मांग में सिंदूर डाला और बोला तुम्हें खरीद लिया है, लाचार महिलाओं से देह व्यापार कराने वाला पकड़ाया

मांग में सिंदूर डाला और बोला तुम्हें खरीद लिया है, लाचार महिलाओं से देह व्यापार कराने वाला पकड़ाया

वाराणसी 11 अगस्त 2020 । वाराणसी में  एक ऐसा गैंग पकड़ाया है जो लाचार और परेशान महिलाओं को बहकाकर बेच देता था। महिलाओं को देह व्यापार के धंधे में डाल दिया जाता था। वाराणसी की एक लाचार महिला को इसी तरह 50 हजार में बेच दिया गया था। खरीदने वाले ने मांग में सिंदूर डालने के बाद जब उसे खरीदने की बात कही तो उसके पैरों तले जमीन खिसक गई। पुलिस ने चार लोगों को गिरफ्तार कर गैंग का खुलासा किया है। महिला को खरीदने वाले शाहजहांपुर के जलालाबाद थाने के बरुआरी निवासी रामकृपाल यादव को भी गिरफ्तार किया गया है। गैंग में कुछ महिलाएं भी हैं। उन्हें पकड़ने के लिए दबिश दी जा रही है।
पुलिस के अनुसार पकड़े गए नवीन ने पांडेयपुर की महिला को बहला-फुसलाकर पंचक्रोशी के पास कमरा दिखाने ले गया। उसी बीच सुनीता नाम की औरत से परिचय करा दिया। नवीन महिला से लगातार फोन पर बात करता था। इस कारण महिला का पति रंजीत से झगड़ा होता था। महिला अपने पति से नाराज होकर सुनीता के साथ सारनाथ के रसूलगढ़ में रीता के घर चली गई। फिर उन दोनों महिलाओं के साथ सारनाथ मंदिर गई। वहां पर राजकुमार, रामकृपाल यादव तीन-चार अन्य लोगों के साथ आए और गाड़ी में बैठा लिया। काम दिलाने और शाहजहांपुर में कमरा दिलवाने की बात कही।

इसी बीच रामकृपाल ने महिला की मांग में सिंदूर डाल दिया और उसे लेकर बरुआरी चला गया। उसका शोषण करता रहा। रामकृपाल ने महिला से कहा कि उसे 50 हजार रुपये में उसने खरीदा है।

पकड़े गए आरोपितों में रामकृपाल के अलावा जलालाबाद के अतिबरा निवासी झब्बू, चोलापुर थाना क्षेत्र के रौना खुर्द के नवीन जायसवाल, सारनाथ थाना क्षेत्र के रसूलगढ़ की रीता उर्फ गीता हैं। इनकी गिरफ्तारी सारनाथ के रसूलगढ़, बेनीपुर और कांशीराम आवास से की गई। नवीन जायसवाल, सुनीता उर्फ सविता, राजकुमार, रीता उर्फ गीता, झब्बू ने मिलकर महिला को रामकृपाल को बेच दिया था। चारों आरोपितों के पास से पांच मोबाइल व एक हजार रुपए बरामद किए गए।

मलिन बस्ती की महिलाओं को बनाते थे निशाना
फरार महिला आजमगढ़ के मेहनाजपुर के गंगवल की सुनीता उर्फ सविता मलिन बस्तियों अथवा मजदूरों के मुहल्ले में घूमती रहती थी। वह देखती रहती थी कि कौन महिला परेशान है। अपने घरवालों और अपनी जिंदगी से परेशान महिलाओं को सांत्वना देकर पहले नजदीक जाती थी। फिर उसे जाल में फंसाती थी। बातों में फंसाने, कहीं और काम दिलाकर बेहतर जीवन का सपना दिखाकर अपने साथ कर लेती थी। इसके बाद अपने गिरोह के सदस्यों को जानकारी देती थी। एक अन्य आरोपित शिवपुर के कांशीराम आवास कॉलोनी निवासी राजकुमार फरार है।

महिला का पति दे चुका है जान
महिला के पति ने गुमशुदगी की तहरीर दी थी लेकिन मुकदमा दर्ज नहीं किया गया। इसी के अवसाद में पति ने ट्रेन के सामने कूदकर जान दे दी थी। मुकदमा दर्ज नहीं होने के कारण एसएसपी ने पिछले दिनों एसओ धनंजय पांडेय को निलंबित कर दिया था। लेकिन रविवार को हुए खुलासे में धनंजय पांडेय को भी शामिल किया गया।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

Ram Mandir निर्माण के लिए Rajasthan के लोगों ने दिया सबसे ज्यादा चंदा

जयपुर: विश्व हिंदू परिषद (VHP) के केंद्रीय उपाध्यक्ष और श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास के …