मुख्य पृष्ठ >> राहुल गांधी ने चौकीदार चोर वाले बयान पर सुप्रीम कोर्ट में जताया खेद

राहुल गांधी ने चौकीदार चोर वाले बयान पर सुप्रीम कोर्ट में जताया खेद

नई दिल्ली 23 अप्रैल 2019 । राफेल मामले पर सुप्रीम कोर्ट में 23 अप्रैल को सुनवाई है। सुनवाई से एक दिन पहले राहुल गांधी ने सोमवार को जवाब दिया है। राहुल ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश को गलत तरीके से रखने के लिए अपने बयान पर खेद जताया है। राहुल ने राफेल मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा था कि अब तो सुप्रीम कोर्ट ने भी कह दिया है कि चौकीदार चोर है।

राहुल के खिलाफ दायर अवमानना याचिका पर जवाब देते हुए सोमवार को राहुल की ओर से कहा गया कि हां मैं मानता हूं कि सुप्रीम कोर्ट ने कभी नहीं कहा चौकीदार चोर है। मेरी ओर से यह बयान चुनाव प्रचार के दौरान उत्तेजना में दिया गया था। राहुल ने कहा कि आगे से पब्लिक में कोई भी ऐसी बयानबाजी नहीं करूंगा। जब तक कि कोर्ट में ऐसी बात रिकॉर्ड में न कही गई हो। अंत में राहुल गांधी ने कहा कि मेरे बयानों का राजनीतिक विरोधियों द्वारा दुरुपयोग किया गया है।

बता दें कि राहुल गांधी के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट की अवमानना संबंधी याचिका पर कोर्ट ने राहुल गांधी को 15 अप्रैल को नोटिस जारी किया था। कोर्ट ने राहुल गांधी को 22 अप्रैल तक जवाब दाखिल करने का कहा था। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल ने दस अप्रैल को नामांकन के बाद मीडिया के समक्ष राफेल सौदे को लेकर कहा था कि अब तो सुप्रीम कोर्ट ने भी कह दिया है कि चौकीदार चोर है। राहुल का यह बयान जब मीडिया में आया तो भाजपा सांसद मीनाक्षी लेखी ने सुप्रीमकोर्ट में याचिका दाखिल की थी। जिस पर आज राहुल गांधी ने जवाब दिया है।

मालूम हो कि सुप्रीम कोर्ट इससे पहले राफेल मामले में केंद्र सरकार को क्लीन चिट दे चुका था। कोर्ट ने राफेल विमान की खरीद प्रक्रिया को सही माना था। केन्द्र सरकार को क्लीन चिट दिए जाने के बाद प्रशांत भूषण, अरुण शौरी और यशवंत सिन्हा ने कोर्ट के फैसले पर पुनर्विचार याचिका डाली थी। जिसे सुप्रीम कोर्ट ने स्वीकार कर लिया था।

कांग्रेस को नहीं मिलेगा बहुमत ,लेकिन राहुल पीएम पद की दौड़ में-कमलनाथ

कांग्रेस के कद्दावर नेता एवं मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ का कहना है कि 2019 लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को पुर्ण बहुमत नहीं मिलेगा ,उन्होंने गठबंधन की सरकार बनने का अंदेशा जताया ,उनका कहना यह भी है कि कांग्रेस को सरकार बनाने के लिए अन्य दलों से गठबंधन की आवश्यकता पड़ सकती है, उस दशा में कांग्रेस की ओर से पीएम पद के उम्मीदवार राहुल गांधी होंगे ।
2014 में कुल 543 सीटों में से कांग्रेस को 44 सीटें मिली थी जो कि बहुमत के आंकड़े 272 से 228 अंक पीछे थी, वहीं यूपीए को 60 सीटें मिली थी, दूसरी ओर बीजेपी को 282 एवं एनडीए को 336 सीटें मिली थी और इन्हीं आंकड़ों ने नरेंद्र मोदी को देश का प्रधानमंत्री बनाया था, वर्तमान में 2019 के लोकसभा चुनाव के परिदृश्य को देखने से स्पष्ट होता है कि एनडीए की ओर से प्रधान मंत्री के उम्मीदवार के रूप में फिर एक बार नरेंद्र मोदी ही है, वहीं दूसरी ओर प्रदेशों में अपने वर्चस्व को बचाने या मजबूत करने के उद्देश्य से क्षेत्रीय दलों ने महागठबंधन का रूप लिया लेकिन महागठबंधन मैं भी प्रधानमंत्री के उम्मीदवार की घोषणा नहीं की गई है ,गठबंधन की सरकार बनाने की स्थिति में जिसके अंक ज्यादा होंगे उस दल के प्रमुख की दावेदारी प्रधानमंत्री के रूप में हो सकती है एवं कांग्रेस सरकार बनाने में समर्थन दे सकती है, यहां गौर करने वाली बात यह है कि देश के इतिहास मैं गैर कांग्रेस, बीजेपी, किसी भी सरकार ने अपने 5 वर्ष पूर्ण नहीं किए।
बाहर हाल लोकसभा 2019 के चुनाव अपने चरम पर है अब देखना यह है कि जनता किस दल को पूर्ण बहुमत देती है या फिर देश में गठबंधन की सरकार बनती है, इसका फैसला 23 मई को होगा एवं देश के अगले प्रधानमंत्री का आईने में स्पष्ट चित्र भी दिखेगा।। “सोचों समझो और वोट करो”

लोक सभा चुनाव 2019: तीसरे चरण की 117 सीटों पर मतदान जारी, PM मोदी मां के आशीर्वाद के बाद पहुचे मतदान करने

लोकसभा चुनाव के तीसरे चरण में 15 राज्यों की 117 सीटों पर आज वोट डाले जा रहे हैं। तीसरे चरण में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी समेत कई बड़े नेताओं की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मतदान से पहले गांधीनगर में अपनी मां हीराबेन का आशीर्वाद लिया, पीएम अपनी मां से मिलने घर पहुंचे थे और अपनी माँ काआशीर्वाद प्राप्त कर वोट डाला। इसके अलावा अमित शाह, अरुण जेटली, मुख्यमंत्री विजय रुपाणी पूर्व सीएम केशुभाई पटेल, कांग्रेस नेता अहमद पटेल भी आज अपना वोट गुजरात में डालेंगे।

वोट डालने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज पूरे देश में तीसरे चरण का मतदान हो रहा है, मेरा सौभाग्य है कि मुझे भी आज मेरा कर्तव्य निभाने का मौका मिला।

प्रधानमंत्री ने पहली बार जो वोट दे रहे हैं ये सदी उनकी ही सदी है। इसलिए नए मतदाताओं को वह विशेष आग्रह करेंगे कि वे सभी 100 फीसदी मतदान करें। PM मोदी बोले कि एक तरफ आतंकवाद का शस्त्र IED होता है तो लोकतंत्र की ताकत वोटर ID होता है।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

जमीन विवाद में नया खुलासा, ट्रस्ट ने उसी दिन 8 करोड़ में की थी एक और डील

नई दिल्ली 17 जून 2021 । अयोध्या में श्री राम मंदिर ट्रस्ट के द्वारा खरीदी …