मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> राहुल ने पीसीसी अध्यक्षों से कहा, बीजेपी के खिलाफ आक्रामक रुख अपनाएं

राहुल ने पीसीसी अध्यक्षों से कहा, बीजेपी के खिलाफ आक्रामक रुख अपनाएं

नई दिल्ली 11 फरवरी 2019 । कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पार्टी की प्रदेश इकाइयों के प्रमुखों एवं विधायक दल के नेताओं से कहा कि वे अपने राज्यों में भाजपा के खिलाफ आक्रामक रुख अपनाएं और बेरोजगारी, कृषि संकट और केंद्र की दूसरी ‘विफलताओं से जनता को अवगत कराए। सूत्रों के मुताबिक गांधी ने प्रदेश कांग्रेस कमेटी (पीसीसी) अध्यक्षों और विधायक दल के नेताओं के साथ बैठक में यह बात कही।

बैठक के बाद गांधी ने ट्वीट कर कहा, ”आज मैंने विधायक दल के नेताओं और पीसीसी अध्यक्षों के साथ बैठक की। इस दौरान हर राज्य में हमारी चुनावी तैयारियों एवं रणनीति की समीक्षा की। उन्होंने कहा, ”हमने आगामी चुनावों से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की। मैं बैठक में शामिल होने की खातिर दिल्ली आने वाले नेताओं का धन्याद करता हूं। बैठक में मौजूद रहे कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने ‘पीटीआई-भाषा से कहा, ”कांग्रेस अध्यक्ष ने बैठक में शामिल नेताओं से कहा कि भाजपा के खिलाफ देश में आक्रामक रुख अपनाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि जहां भाजपा की सरकारें हैं वहां हुए भ्रष्टाचार को आक्रामकता से साथ उठाएं।

उन्होंने कहा, ”राहुल गांधी ने यह भी कहा कि नरेंद्र मोदी सकार की विफलताओं विशेषकर बेरोजगारी और किसानों के मुद्दे को जनता के बीच जोर-शोर से उठाने के साथ संप्रग-1 एवं संप्रग-2 की उपलब्धियों के बारे में भी बताएं।

लोकसभा चुनाव में BJP को टक्‍कर देने के लिए दिल्‍ली में केजरीवाल 13 को करेंगे ‘महारैली’

लोकसभा चुनाव से पहले दिल्ली में सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नीत केंद्र सरकार के खिलाफ राष्ट्रीय राजधानी में 13 फरवरी को गैर भाजपाई नेताओं की एक महा रैली आयोजित कर रही है. पिछले दिनों कोलकाता में पश्‍च‍िम बंगाल की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी ने एक महारैली का आयोजन किया था. इस रैली में देश भर के विपक्षी नेता पहुंचे थे. अरविंद केजरीवाल के अलावा अखिलेश यादव, मल्‍ल‍िकार्जुन खड़गे, चंद्रबाबू नायडू समेत दूसरे बड़े नेताओं ने इसमें शिरकत की थी. उसी रैली की तर्ज पर अब केजरीवाल दिल्‍ली में रैली करने जा रहे हैं.

आम आदमी पार्टी (आप) के वरिष्ठ नेता गोपाल राय ने रविवार कहा, ‘तानाशाही हटाओ, देश बचाओ‘ रैली 13 फरवरी को जंतर मंतर पर आयोजित की जाएगी. मोदी सरकार के खिलाफ सभी विपक्षी नेता इस रैली में शामिल होंगे.’ उन्होंने कहा कि इसमें वे सभी नेता शामिल होंगे जिन्होंने पिछले महीने कोलकाता में ममता बनर्जी की रैली में शिरकत की थी.
सूत्रों ने कहा कि कांग्रेस के रैली में भाग लेने की संभावना नहीं है. इस में ममता बनर्जी और चंद्रबाबू नायडू समेत अन्य विपक्षी नेता शिरकत कर सकते हैं. उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव में कुछ महीने ही शेष रह गए हैं, ऐसे समय में, यह रैली विपक्षी नेताओं को साथ लाने और भाजपा नीत राजग को चुनौती देने के लिए ‘महागठबंधन’ की स्थापना में मदद करेगी.

दिल्ली के मुख्यमंत्री और आप के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने भी कोलकाता की रैली में शिरकत की थी, जहां उन्होंने मोदी सरकार को शिकस्त देने का आह्वान किया था.

कांग्रेस के बड़े नेता इसमें भी नहीं
ममता बनर्जी की रैली से भी कांग्रेस आलाकमान ने दूरी बनाई थी. इसमें बुलावा तो राहुल गांधी और सोनिया गांधी के पास गया था, लेकिन उन्‍होंने खुद शामिल न होते हुए मल्लिकार्जुन खड़गे को भेज दिया था. दिल्‍ली की रैली में तो संभवत: कांग्रेस को कोई भी लीडर शामिल नहीं होगा. क्‍योंकि कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के बीच गठबंधन पर कोई सहमति बनती नहीं दिख रही है. ऐसे में कांग्रेस खुद को इससे दूर ही रख सकती है.

ग्वालियर में लोकसभा चुनाव की रणनीति तय करेंगे शाह-भागवत

भोपाल। लोकसभा चुनाव की तैयारियों को लेकर अब मध्य प्रदेश में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने भी अपनी गतिविधियां तेज कर दी हैं। लोकसभा चुनाव के लिए भाजपा की राष्ट्रीय स्तर की रणनीति को संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ग्वालियर में अंतिम रूप देंगे।

दरअसल, इस साल संघ की प्रतिनिधि सभा की बैठक आठ मार्च से ग्वालियर में होने जा रही है। संघ के तमाम आनुषांगिक संगठनों के नेताओं के साथ-साथ शाह भी इसमें शामिल होंगे। बैठक में लोकसभा चुनाव की तैयारियों के साथ संघ के संगठनों में फेरबदल को लेकर भी चर्चा होगी और अगले साल का कार्यक्रम तय किया जाएगा।

प्रतिनिधि सभा की बैठक संघ की सालाना बैठक मानी जाती है, जिसमें हर आनुषांगिक संगठन से पांच सदस्य बुलाए जाते हैं। 10 मार्च तक चलने वाली इस बैठक के बाद संघ के आनुषांगिक संगठनों में कुछ फेरबदल की संभावनाएं भी हैं।

उधर, प्रतिनिधि सभा से पहले मप्र की लोकसभा सीटों को लेकर संघ की एक महत्वपूर्ण समन्वय बैठक भी होगी। इस बैठक में मप्र की लोकसभा सीटों पर भाजपा के संभावित प्रत्याशियों पर बातचीत होगी और चुनावी रणनीति तय होगी। इसके साथ ही लोकसभा चुनाव के लिए संघ के अन्य आनुषांगिक संगठनों के कार्यकर्ताओं की जिम्मेदारी भी तय की जाएगी। समन्वय बैठक में भाजपा के कई बड़े नेता भी हिस्सा लेंगे। माना जा रहा है कि यह समन्वय बैठक फरवरी के अंतिम सप्ताह या मार्च के पहले सप्ताह में हो सकती है।

इधर, संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत भी 18 से 22 फरवरी को मप्र के दौरे पर रहेंगे। इस दौरान वे संघ के मध्य भारत, मालवा, महाकोशल और छत्तीसगढ़ प्रांत की बैठक लेंगे। 18 फरवरी को वे इंदौर पहुंचेंगे। यहां मध्य भारत प्रांत और मालवा प्रांत की बैठक करेंगे। इसके बाद वे जबलपुर भी जा सकते हैं।

प्रियंका का आज लखनऊ में पहला मेगा रोड शो

कांग्रेस पार्टी में राष्ट्रीय महासचिव का पद संभालने के बाद प्रियंका गांधी वाड्रा पहली बार लखनऊ पहुंच रही हैं. आज वह यहां मेगा रोड शो करेंगी. पार्टी में पद दिए जाने के साथ ही प्रियंका को लोकसभा चुनाव 2019 के लिए भी बड़ी जिम्मेदारी सौंपी गई है. उन्हें पूर्वी उत्तर प्रदेश का प्रभारी बनाया गया है. राहुल गांधी ने उत्तर प्रदेश में कांग्रेस को पुर्नजीवित करने के लिहाज से प्रियंका गांधी के रूप में बड़ा दांव खेला है. इसी सिलसिले में राहुल गांधी पूर्वी उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के प्रभारी ज्योतिरादित्य सिंधिया को लेकर आज लखनऊ पहुंचेंगे.

प्रियंका की सक्रिय पॉलिटिक्स में एंट्री को लेकर कांग्रेस के नेता और कार्यकर्ता खासे उत्साहित हैं. इसीलिए पार्टी में पद संभालने के बाद प्रियंका के पहली बार लखनऊ आने को लेकर खासी तैयारियां की गई हैं. प्रियंका पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी और ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ सोमवार सुबह अमोसी एयरपोर्ट पहुंचेंगी, जहां से रोड शो के बीच वह कांग्रेस दफ्तर पहुंचेंगी.

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

महिला कांग्रेस नेता नूरी खान ने दिया इस्तीफा, कुछ घंटे बाद ले लिया वापस

उज्जैन 4 दिसंबर 2021 ।  महिला कांग्रेस की नेता नूरी खान के इस्तीफा देने से …