मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> सियासी घमासान, पीएम मोदी के दौरे से बीजेपी देगी राहुल की मंदसौर रैली का जवाब

सियासी घमासान, पीएम मोदी के दौरे से बीजेपी देगी राहुल की मंदसौर रैली का जवाब

 भोपाल 5 जून 2018 । आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर मंदसौर गोलीकांड की बरसी पर कांग्रेस के चुनावी अभियान की 6 जून को आधारशिला रखने आ रहे राहुल गांधी को टक्कर देने के लिए बीजेपी ने भी कमर कस ली है। यही वजह है कि सीएम शिवराज सिंह 23 जून को होने वाले पीएम मोदी के दौरे की कवायद में जुट गए हैं।
संभावना है कि 23 जून को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी मप्र के दौरे पर आएंगे। प्रधानमंत्री इंदौर और राजगढ़ में अलग-अलग कार्यक्रमों में शिरकत कर सकते हैं। चुनावी साल में किसान आंदोलन और कांग्रेस के आक्रामक प्रचार से जूझ रही सत्ताधारी बीजेपी अब पीएम मोदी के जरिये कांग्रेस को जवाब देने की तैयारी में जुट गयी है। किसान आंदोलन के बीच मंदसौर गोलीकांड की बरसी पर जहां श्रद्धाजंलि सभा के नाम पर कांग्रेस अपने चुनावी अभियान का आगाज करने जा रही है, तो बीजेपी ने भी इसी माह नरेन्द्र मोदी को मध्यप्रदेश बुलाने की तैयारी कर ली है।
भाजपा और शिवराज सरकार के सूत्रों की मानें तो प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 23 जून को प्रदेश दौरे पर आ सकते हैं। इस दौरान पीएम मोदी इंदौर में नई बस सेवा का उद्घाटन करेंगे, जबकि उसी दिन राजगढ़ में सिंचाई परियोजना का लोकार्पण कर सकते हैं।

नाथ के दावे से गरमाई सियासत, बीजेपी सकते में

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने बीजेपी के कई नेताओं के संपर्क में होने का किया दावा, साथ ही उनका ये भी कहना है कि कांग्रेस पहले ये देख रही है की जो नेता पार्टी में आना चाहते हैं उनकी उपयोगिता क्या हो सकती है। उनके इस बयान को बीजेपी में हासिए पर पहुंच चुके नेताओं से जोड़कर देखा जा रहा है।
कमलनाथ ने एक बार फिर ये कहकर चुनावी साल में कयासों के बाजार को गर्म कर दिया है कि भाजपा के हर लेवल के नेता उनके संपर्क में हैं। हालांकि मीडिया के नाम पूछे जाने पर उन्होंने विश्वास की बात कहकर टाल दिया। लेकिन उन्होंने कहा कि हम अभी तय कर रहे हैं कि जो नेता हमारे संपर्क में है, उनका पार्टी के लिए क्या उपयोग है, और वो कांग्रेस में क्यों आना चाहते हैं। कांग्रेस में आने के लिए कमलनाथ के संपर्क में भाजपा के नेता के सवाल पर उन्होंने कहा कि मैं इसमें नहीं जाना चाहता हूं, क्योंकि ये विश्वास की बात होती है। जो मैंने पहले कहा था कि मैं उसे दोहरा रहा हूं, कि हर लेवल के बहुत सारे भाजपा के नेता है, जो हमारे संपर्क में हैं।
जब मीडिया ने पूछा कि किस-किस लेवल के नेता है तो उन्होंने कहा कि हम भी तय करेंगे, हमें भी देखना है। हम ये देखेंगे कि उनका क्या उपयोग है, कि वो दुखी होकर आ रहे हैं, मैं जमीन समझ रहा हूं, और वो खुद मुझे समझा रहे हैं।

राहुल गांधी छह जून को सुबह 11 बजे पीपल्यामंडी में किसान सभा को संबोधित करेंगे

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी आगामी छह जून को मध्यप्रदेश आयेंगे। गांधी आगामी बुधवार छह जून को सुबह 10.30 बजे पीपल्यामंडी मंदसौर पहुंचेंगे। राहुल गांधी पिछले वर्ष छह जून को किसान आंदोलन के दौरान पुलिस गोलीचालन में मृत छह किसानों की याद में आयोजित कार्यक्रम में आने वाले लाखों किसानों की सभा को संबोधित करेंगे।

इस अवसर पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ, प्रदेश प्रभारी दीपक बावरिया, पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजयसिंह, सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया, सांसद कांतिलाल भूरिया, राज्यसभा सदस्य विवेक तन्खा, पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष सुरेश पचौरी, नेता प्रतिपक्ष अजयसिंह सहित बड़ी संख्या में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता, पदाधिकारी और कार्यकर्ता उपस्थित रहेंगे।

किसान निडर होकर अधिक से अधिक संख्या में राहुल की सभा में पहुंचें- कमलनाथ

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने आगामी छह जून को मंदसौर गोलीकांड की पहली बरसी पर मृत किसानांे की याद में आयोजित राहुल जी की सभा में अधिक से अधिक संख्या में शामिल होने की अपील किसानों से की है।
उन्होंने किसानों से कहा है कि शासन-प्रशासन से घबराने की कोई आवश्यकता नहीं है, क्योंकि हम अपना कार्यक्रम शांतिपूर्ण ढंग से कर रहे हैं। लेकिन सरकार अंग्रेजों के नक्शेकदम पर काम कर रही है। वह यह भूल गयी है कि लोग अब आजाद भारत में जी रहे हैं। हमें शांतिपूर्ण तरीके से सत्य के प्रति आग्रह का अधिकार है, जिसे न तो कोई छीन सकता है और न ही ऐसा करने से रोक सकता है।
कमलनाथ ने अपील में कहा है कि शांतिपूर्ण सभा के आयोजन में पूर्व नियोजित षड्यंत्र के तहत अशांति फैलाने के सरकार के प्रयास को हम सब एकजुट होकर विफल कर देंगे। इसलिये सभी किसान भाइयों से आग्रह है कि वे निडर होकर अधिक से अधिक संख्या में बुधवार छह जून को सुबह 11 बजे पीपल्यामंडी मंदसौर में आयोजित सभा में पहुंचंे।

भाजपा के झांसे में न आये अल्पसंख्यक समुदाय
मतदाता सूची में गायब नाम जुड़वायें, फर्जी नाम हटवायें – कमलनाथ

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने आज प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में अल्पसंख्यक विभाग के पदाधिकारियों, जिला अध्यक्षों और कार्यकर्ताओं की बैठक में कहा कि यदि अल्पसंख्यक वर्ग कमर कस ले तो कांग्रेस को कोई नहीं हरा सकता।
कमलनाथ ने अल्पसंख्यक वर्ग से कहा कि यह चुनाव कमलनाथ का नहीं, पूरे समाज और मध्यप्रदेश के भविष्य का है। एक-एक सीट पर आपकी आवश्यकता है। सबसे पहले तो आप अल्पसंख्यक समाज के लोगों के नाम मतदाता सूची से गायब हैं, उन्हें जुड़वायें। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में 60 लाख फर्जी मतदाताओं की गड़बड़ी है। यह लापरवाही नहीं, बल्कि भाजपा सरकार का प्रशासनिक दुरूपयोग है।
कमलनाथ ने कहा कि भाजपा बहुत सारे राजनैतिक हथकंडे अपनायेगी। तरह-तरह के विवाद और भावनाओं को भड़काने का काम होगा। भाजपा ध्यान मोड़ने और गुमराह करने की राजनीति करेगी। हमारे अल्पसंख्यक भाई सावधान रहें, नहीं तो आपके साथ बड़ा धोखा हो जायेगा। आप सच्चाई का साथ दें। भाजपा सरकार जनता को हिसाब नहीं दे पा रही है। यह घोषणा का नहीं, हिसाब देने का समय है।
अभा कांग्रेस के महासचिव दीपक बावरिया ने कहा कि संविधान के लोकतांत्रिक और सेक्यूलर स्वरूप को खत्म करने की कोशिश की जा रही है। धर्म के नाम पर बांटने का खतरा मंडरा रहा है, लेकिन कांग्रेस की विचारधारा सबको साथ में लेकर चलने की है। अल्पसंख्यक समाज से उन्होंने आग्रह किया कि सब मिलकर कांग्रेस को ताकत दें।
नेता प्रतिपक्ष अजयसिंह ने कहा कि यह चुनाव सभी के लिए कुर्बानी का समय है। बिना गिला-शिकवे के सब लोग एक साथ सिर्फ एक उद्देश्य के लिए जुट जायें कि हमें कांग्रेस को ही जिताना है, क्योंकि इसी पार्टी में ही हमारे हित सुरक्षित हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा जैसी मानसिकता के कारण ही सेक्यूलर शब्द संविधान मंे बाद मंे जोड़ा गया। यह लड़ाई इसी की है। वर्तमान सरकार संविधान को बदलने का प्रयास कर रही है। कल्पना कीजिए कि 2019 में भाजपा फिर सत्ता में आती है तो यह देश, देश नहीं रहेगा। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश का आगामी विधानसभा चुनाव अगले लोकसभा चुनाव में जीत का आधार बनेगा।
कांग्रेस अल्संख्यक विभाग के राष्ट्रीय अध्यक्ष नदीम जावेद ने कहा कि मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ हिन्दुस्तान की सियासत को तय करने का काम करेंगे। अल्पसंख्यक विभाग एक-एक सीट की जिम्मेदारी ले। ऐसा प्रयास करें कि मतदान का प्रतिशत ज्यादा से ज्यादा हो। सीनियर लोगों को वातावरण बनाने का काम और नये लोगों को फील्ड पर लगायें। उन्होंने कहा कि यह सत्ता हासिल करने की लड़ाई नहीं, नजरिये और विचार की लड़ाई है। उन्होंने अल्पसंख्यक विभाग के प्रथम राष्ट्रीय अध्यक्ष अर्जुनसिंह के योगदान को भी याद किया। कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के प्रभारी सुरेन्द्र चौधरी ने कहा कि आज अल्पसंख्यक यहां से संकल्प लेकर जायें कि जो चुनौती कमलनाथ जी ने हमको सौंपी हैं, उसको पूरा कर इतिहास रचना है। कांग्रेस के नेतृत्व में ही हमारी सुरक्षा है।
अभा कांग्रेस के सचिव जुबेर खान, कांग्रेस अल्पसंख्य विभाग के प्रदेश अध्यक्ष मुजीब कुरैशी, वरिष्ठ कांग्रेस नेता एडवोकेट सैयद् साजिद अली ने भी बैठक को संबोधित किया। इस अवसर पर मीडिया प्रभारी मानक अग्रवाल, नूरी खान, शौकत हुसैन, हाजी इनायत अली, नासिर इस्लाम, शाहवर आलम, सजी इब्राहिम, मिर्जा नूर बेग, मुईनउद्दीन खान सहित बड़ी संख्या में अल्संख्यक विभाग के पदाधिकारी और कार्यकर्ता उपस्थित थे।

ज्योतिरादित्य सिंधिया पांच जून को सुबह भोपाल आयेंगे

चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष और सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया मंगलवार पांच जून को विशेष विमान से सुबह साढ़े दस बजे नई दिल्ली से भोपाल आयेंगे।
श्री सिंधिया प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में पूर्वान्ह ग्यारह से बारह बजे तक प्लानिंग और स्टेªटजी कमेटी की मीटिंग लेंगे। वे बारह से दो बजे तक चुनाव अभियान समिति की बैठक लेंगे और दो बजे से तीन बजे तक कार्यकर्ताओं की बैठक को संबोधित करेंगे। दोपहर भोज के बाद साढ़े तीन बजे प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ के साथ श्री सिंधिया प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय के सभागार में पत्रकार वार्ता को संबोधित करेंगे।
श्री सिंधिया उसी दिन पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों के विरोध स्वरूप शाम चार से छह बजे तक बैलगाड़ी मार्च में भाग लेंगे। श्री सिंधिया शाम छह से रात्रि नौ बजे तक विभिन्न स्थानीय कार्यक्रमों में भाग लेंगे। वे रात्रि विश्राम भोपाल में करेंगे।
श्री सिंधिया दूसरे दिन छह जून को विशेष विमान द्वारा भोपाल से रवाना होकर पौने ग्यारह बजे मंदसौर पहुंचेेगे। वे मंदसौर से सुबह ग्यारह बजे कार द्वारा रवाना होकर दोपहर बारह बजे पीपल्यामंडी पहुंचेंगे और मंदसौर नरसंहार की पहली बरसी पर आयोजित किसान आंदोलन में भाग लेंगे। श्री सिंधिया उसी दिन शाम छह बजे मंदसौर पहुंचकर विशेष विमान से दिल्ली के लिए रवाना हो जायेंगे।

पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों के खिलाफ कांग्रेस की बैलगाड़ी यात्रा आज

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ और प्रदेश कांग्रेस चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष ज्योतिरादित्य सिंधिया मंगलवार पांच जून को पेट्रोल-डीजल बढ़ती कीमतों के विरोध स्वरूप बैलगाड़ी से मुख्यमंत्री निवास पहुंचकर घेराव और प्रदर्शन करेंगे। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव और प्रदेश प्रभारी दीपक बावरिया, पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजयसिंह, राज्यसभा सदस्य विवेक तन्खा, सांसद कांतिलाल भूरिया, पूर्व केंद्रीय मंत्री सुरेश पचौरी, नेता प्रतिपक्ष अजयसिंह भी उनके साथ इस प्रदर्शन में रहेंगे।
यह जानकारी देते हुए प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष संगठन प्रभारी चंद्रप्रभाष शेखर ने बताया है कि यह बैलगाड़ी यात्रा आगामी मंगलवार, पांच जून को प्रदेश कांग्रेस कार्यालय से शुरू होगी। पेट्रोल-डीजल पर से राज्य सरकार द्वारा लगाये गये करों को कम करने और इसे जीएसटी के दायरे में लाने के लिए प्रस्ताव शीघ्र केंद्र सरकार को भेजने के लिए नेतागण मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौपेंगे। बैलगाड़ी यात्रा में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता, पदाधिकारी, जनप्रतिनिधि और कार्यकर्ता शामिल होंगे।

सरकार कितनी भी कोशिश कर ले, राहुल की सभा को अभूतपूर्व सफलता मिलेगी- मानक अग्रवाल

प्रदेश कांग्रेस के मीडिया प्रभारी मानक अग्रवाल ने कहा है कि सरकार येन-केन-प्रकारेण मंदसौर के पीपल्यामंडी में आगामी छह जून को राहुलजी की किसान सभा को असफल बनाने की कोशिश कर रही है। सरकार की इस तरह की कोशिशांे के परिणाम ठीक नहीं होंगे। सरकार कितने भी प्रयास कर ले राहुलजी की सभा को अभूतपूर्व सफलता मिलेगी।
श्री अग्रवाल ने कहा है कि सरकार कांग्रेस के लोगों की गाडि़यां रोक-रोक कर जप्त कर रही है और थाने में खड़ी करवा रही है। उन्होंने कहा कि ऐसा करने से शिवराज सरकार किसानों को क्या संदेश देना चाहती है? सभा स्थल के पहले चारों ओर की सीमाओं पर कांग्रेसियों, किसानों और आमजनता को रोकने के लिए बेरियर लगा दिये गये हैं। नाके बंदी कर किसानों को रोककर उनकी तलाशी ली जा रही है। ऐसा कर सरकार तानाशाही पर उतर आयी है।
श्री अग्रवाल ने कहा कि यदि शिवराजसिंह वास्तव में किसान हितैषी हैं तो उन्हें किसानों के साथ यह सब करने की क्या जरूरत है। वे निहत्थे किसानों से अंग्रेजों जैसा व्यवहार क्यों कर रहे हैं? जाहिर है कि शिवराजसिंह किसान होने और किसानों का साथ देने का मात्र ढोंग कर रहे हैं।

अच्छा है कि PM मोदी के सवाल-जवाब पहले से तय होते हैं, वरना शर्मिंदगी होती: राहुल गांधी

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सिंगापुर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एक हालिया संवाद कार्यक्रम को लेकर उन पर कटाक्ष किया. राहुल ने कहा कि अच्छा है कि उनके कार्यक्रम के सवाल-जवाब पहले से तय होते हैं क्योंकि अगर ऐसा नहीं होता तो ‘हम सभी के लिए शर्मिंदगी की स्थिति पैदा हो जाती.’ राहुल ने सिंगापुर दौरे पर पीएम मोदी के एक कार्यक्रम के ऊपर तंज कसते हुए यह ट्वीट किया.

राहुल ने मोदी के इस संवाद कार्यक्रम के एक अंश का वीडियो ट्विटर पर पोस्ट करते हुए कहा, ‘(मोदी) पहले ऐसे भारतीय प्रधानमंत्री हैं जो ‘स्वतःस्फूर्त’ प्रश्नों का सामना करते हैं और दुभाषिये(ट्रांसलेटर) के पास पहले से तय उत्तर होता है. अच्छा है कि वह वास्तविक प्रश्नों का सामना नहीं करते. अगर ऐसा होता तो हम सभी के लिए शर्मिंदगी की स्थिति पैदा हो जाती.’

कांग्रेस अध्यक्ष ने प्रधानमंत्री का जो वीडियो पोस्ट किया है वह सिंगापुर के नानयांग प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (एनटीयू) में संवाद कार्यक्रम का है.

दावा किया जा रहा है कि एक प्रश्न के उत्तर में प्रधानमंत्री ने जो जवाब दिया और उनकी दुभाषिया ने वहां मौजूद दर्शकों के सामने जो कहा, उनमें अंतर था. पीएम मोदी के जवाब की तुलना में दुभाषिए का जवाब काफी लंबा था.

सभा स्थल का ग्राउंड छोटा पड़ेगा ; मीनाक्षी नटराजन

अखिल भारतीय कांग्रेस के अध्यक्ष श्री राहुल गांधी की सभा के लिये तैयारियां लगभग पूरी है। अनुमान है कि सभा स्थल का ग्राउंड छोटा पड़ेगा।
मन्दसौर की पूर्व सांसद मीनाक्षी नटराजन ने जानकारी देते हुए बताया कि सभा स्थल का एस पी जी ,आई जी सभी का निरीक्षण हो गया है। सभा मे काफी लोगो के आने की उम्मीद है,इससे लगता है ग्राउंड छोटा पड़ेगा। राहुल गांधी के सभा मे अधिक से अधिक लोगो को आमंत्रित करने के लिये उन्होंने करीब 200 गांवो का दौरा किया तथा इसके पूर्व भी वे करीब 200 गांवो का दौरा कर चुकी है। उन्होंने बताया कि सभा स्थल पर लोगो के पीने के पानी की पर्याप्त व्यवस्था की गई है।
श्री राहुल गांधी के मन्दसौर में श्री पशुपतिनाथ के दर्शन के सम्बंध में पूछने पर उन्होंने बताया कि अभी यह कोई तय नही है।
पूर्व मंत्री एवं वरिष्ठ कांग्रेस नेता श्री नरेन्द्र नाहटा ने बताया कि इस सभा को जनता ने चुनोती के रूप में स्वीकार किया है। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि लोग इस सभा मे बड़ी संख्या में भाग लेना चाहता है शासन इन्हें दबाने की कोशिश कर रहा है ।

मध्य प्रदेश में BSP, SP के बाद अब गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के साथ भी गठजोड़ की तैयारी में कांग्रेस

मध्य प्रदेश की सत्ता से पिछले 15 सालों से बाहर कांग्रेस इस बार कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती, इसलिए वो गठबंधन के जरिये शिवराज सरकार के सामने अपना दम-खम ठोकने की तैयारी में है. बुन्देलखण्ड, ग्वालियर-चंबल संभाग और महाकौशल इलाके में बेहतर तरीके से अलग-अलग पार्टियों से गठजोड़ करने की दिशा में आगे बढ़ रही है. कैराना लोकसभा में विपक्ष की जीत से उत्साहित कांग्रेस मध्य प्रदेश में बड़े भाई की भूमिका में आगे बढ़ रही है.

बुन्देलखण्ड और ग्वालियर में पहली प्राथमिकता बसपा

बुन्देलखण्ड और ग्वालियर चंबल संभाग में कांग्रेस की पहली प्राथमिकता बसपा है. यूपी से सटे इस इलाके में सपा का भी प्रभाव है, लेकिन पार्टी का मानना है कि बसपा का प्रभाव सपा के मुकाबले ज्यादा है. बसपा और सपा के विधायक भी इस इलाके से जीतते आये हैं. ऐसे में कांग्रेस बसपा को 12 और सपा को 5 सीटें देने को तैयार है. जबकि, बसपा ने 30 और सपा ने 10 सीटों की मांग की है. सीटों को लेकर चर्चा जारी है और सूत्रों का मानना है कि बातचीत सही दिशा में चल रही है.

महाकौशल और विंध्य में गोंडवाना गणतंत्र पार्टी
इसके साथ ही कांग्रेस की महाकौशल और विंध्य इलाके में गोंड आदिवासियों पर भी निगाहें हैं. इस इलाके में गोंडवाना गणतंत्र पार्टी (गोंगपा) की भूमिका है, गोंड जनजाति 6 लोकसभा क्षेत्रों और करीब 60 विधानसभा सीटों पर प्रभाव डालती है. 2003 में गोंगपा के 3 विधायक जीते भी थे. कांग्रेस इस पार्टी के साथ गठजोड़ करके गोंड जनजाति के साथ ही आदिवासियों को अपने साथ जोड़ना चाहती है.

मध्य प्रदेश में कुल 23 फीसदी आदिवासी हैं, जिनमें करीब 7 फीसदी गोंड हैं. कांग्रेस गोंगपा को 3-5 सीटें देने के मूड में है. तीनों दलों के साथ गठजोड़ को अंजाम देने की जिम्मेदारी प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के कंधों पर है, जो लगातार तीनों दलों से संपर्क में हैं और बातचीत को अंतिम रूप दे रहे हैं.

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

ये तो छोड़कर चले गए थे…अशोक गहलोत ने सचिन पायलट गुट के विधायकों पर कसा तंज

नयी दिल्ली 4 दिसंबर 2021 । अशोक गहलोत और सचिन पायलट राजस्थान कांग्रेस में सबकुछ अच्छा …