मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> आंधी के साथ बारिश और ओले गिरे

आंधी के साथ बारिश और ओले गिरे

नई दिल्ली 1 जून 2018 । अंचल में कई स्थानों पर गुस्र्वार को आंधी के साथ जोरदार बारिश हुई। नीमच के मनासा में ओले भी गिरे। तहसील परिसर का एक विशालकाय पेड़ भी जमींदोज हो गया। नीमच में 50 मिनट से अधिक बिजली आपूर्ति बाधित रही।

मंदसौर के शामगढ़, पिपलियामंडी व भानपुरा क्षेत्र में आंधी के साथ जोरदार बरसात हुई। शामगढ़ में कई पेड़ गिर गए। ग्राम इशाकपुर में असंतुलित होकर जेसीबी सहित ड्राइवर कुएं में जा गिर। हालांकि ड्राइवर को कोई चोट नहीं आई। ग्राम जूनापानी में निर्माणाधीन पीएम आवास धराशायी हो गया।

आगर-मालवा में 15 मिनट की जोरदार बारिश से मंडी में अफरा-तफरी मच गई। किसानों से खरीदे गए गेहूं, चना, सरसों आदि की उपज मंडी पड़ी है। बारिश से करीब 4 हजार क्विंटल अनाज की बोरियां भीग गईं।

उज्जैन शहर सहित ग्रामीण इलाकों में बादल छा गए। महिदपुर के ग्राम झारड़ा में शाम को बारिश हुई .

तेज हवाओं के साथ बारिश 

मंदसौर में जैसे ही सूर्य ढला ,अंधेरे ने ली जगह और वैसे ही शुरू होगई तेज हवा। तेज हवाओं के शुरू होते ही बिजली गुल हो गई। तेज हवाओं के साथ शुरू हो गई बूंदा बांदी । कभी हल्की तो कभी थोडी तेज बारिश से सड़के भीग गई। तेज गर्मी से उस समय थोड़ी राहत मिली जब हल्की फुल्की बारिश हुई। इधर तेज हवाओं के कारण जनता कालोनी मंदसौर में वर्षो पुराने एक पेड़ के गिर जाने से कुछ देर के लिये मार्ग अवरुध्द हो गया। कुछ ही देर में नगर पालिका से आई जेसीबी ने पेड़ को हटा दिया ।

मौसम विभाग बतायेगा कब कहां कितनी बारिश होगी

मौसम विभाग ने किसानों के लिये आंधी-पानी के संकट से बचाव के एहतियाती उपायों को समय रहते सुनिश्चित करने और बारिश के सटीक अनुमान की पूर्व जानकारी मुहैया कराने के लिये उपग्रह आधारित तकनीक की मदद से क्षेत्रवार बारिश की जानकारी मुहैया कराने की अत्याधुनिक सेवा शुरु की है।

विभाग कल ‘न्यू इन्सेंबल प्रिडिक्शन सिस्टम’ नामक इस सेवा की विधिवत शुरुआत करेगा। पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के एक अधिकारी ने नयी तकनीक के बारे में बताया कि इसकी मदद से जिला और कस्बे के स्तर पर कम से कम छह दिन पहले ही लोगों को पता चल सकेगा कि कब, कहां, कितनी बारिश होगी।

मौसम विभाग के सूत्रों ने बाताया कि इस तकनीक का संचालन नोएडा और पूना में स्थित एडवांस कंप्यूटिंग सिस्टम के जरिये किया जायेगा। मौजूदा व्यवस्था में मौसम संबंधी पूर्वानुमान संभावनाओं पर आधारित होता है।

नयी व्यवस्था में मौसम को प्रभावित करने वाले सभी कारकों का बारीक अध्ययन कर बारिश की मात्रा और स्थान का सटीक आंकलन किया जा सकेगा। इससे प्राप्त आंकड़ों को कृषि मंत्रालय द्वारा एसएमएस के जरिये किसानों तक भेजा जायेगा।

इसमें क्षेत्रीय आधार पर किसानों को बारिश के साथ – साथ आंधी- तूफान और ओला-वृष्टि से संबंधित जानकारियां भी समय रहते पहुंचायी जा सकेंगी। मौसम विभाग इन आंकड़ों को राज्य के साथ भी साझा करेगा जिससे स्थानीय प्रशासन के माध्यम से आंधी, बारिश आदि की जानकारी स्थानीय लोगों को विभिन्न माध्यमों से मिल सके।

मेंगलुरू में भारी बारिश से बाढ़ जैसे हालात, सड़कों पर दिखे सांप और शार्क

कर्नाटक के मेंगलुरू में लगातार चार दिनों से हो रही भारी बारिश ने वहां के लोगों का जीवन अस्त-व्यस्त कर दिया है. शहर के ज्यादातर हिस्सों में घुटनों तक पानी भरा है. अरब सागर में ज्वार के कारण आए पानी की वजह से शहर में बाढ़ जैसे हालात बन गए हैं. इन्हीं हालातों के बीच मेंगलुरू की सड़कों का एक वीडियो वायरल हो रहा है, जहां पानी के साथ बहकर शार्क जैसी बड़ी मछलियां और लंबे सांप सड़कों पर गए हैं. हालांकि इन वीडियो की फिलहाल पुष्टि नहीं की जा सकी है.

वीडियों में सड़क पर तड़पती शार्क को मेटल हुक से घसीटते हुए एकआदमी को देखा जा सकता है. थोड़ी देर बाद शार्क मर जाती है. वीडियो में सड़क पर भरे पानी में पांच फीट लंबा सांप देखा जा सकता है. रेंगते हुए सांप को लोग अपने-अपने घरों के गेट पर खड़े होकर देख रहे हैं और सांप के निकल जाने का इंतजार कर रहे हैं. मौसम विभाग के मुताबिक, तटीय जिलों में आने वाले दो दिनों तक अभी बारिश की संभवना बरकरार है. मछवारों को भी हाई टाइड की वजह से अरब सागर जाने पर रोक लगा दी गई है और टूरिस्टों को भी समुद्र किनारे जाने की मनाही है.

सड़कों पर जल भराव के कारण आपदा प्रबंधन विभाग भी अपने राहत कार्यों में लगा हुआ है. जो बच्चे स्कूलों में फंस गए थे, उन्हें नांव के सहारे घर पहुंचाया गया. इसके अलावा पीले हेलमेट में लोगों की मदद के लिए विभाग के कर्मचारी जगह-जगह पर तैनात हैं.

छत्तीसगढ़ में तेज आंधी के साथ बारिश,जनजीवन प्रभावित

छत्तीसगढ़ में फिलहाल मानसून ने दस्तक नहीं दी है, लेकिन प्री-मानसून गतिविधियों के कारण कई जिलों में तेज आंधी और मूसलधार बारिश के कारण जनजीवन प्रभावित हो गया है। मिली जानकारी के अनुसार धमतरी जिले में गरज-चमक के साथ तेज बारिश हुई। यहां बारिश से कई स्थानों में पानी भर गया है।

इसके अलावा जशपुर जिले में भी बीती रात को तेज आंधी और मूसलधार बारिश से जनजीवन अस्त व्यस्त रहा। जशपुर जिला मुख्यालय में घंटों बिजली आपूर्ति बाधित रही। ऐसी भी सूचना है कि जिले के कई ग्रामीण क्षेत्र बिजली व्यवस्था सुचारू नहीं हो पाई है। इसके अलावा जशपुर जिले में ही पेड़ उखड़कर राष्ट्रीय राजमार्ग पर गिरने के कारण आवाजाही प्रभावित हुई है।

वहीं दंतेवाड़ा जिले में गुरुवार को सुबह से बादल छाए रहे। अब तेज हवा और गरज चमक के साथ बारिश हो गई है। नवतपा की गर्मी और उमस से यहां लोगों को राहत मिली है।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

कोरोना की तीसरी लहर आई तो बच्चों को कैसे दें सुरक्षा कवच

नई दिल्ली 12 मई 2021 । भारत में कोरोना वायरस की दूसरी लहर से हाहाकार …