मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> भोपाल में बारिश से बदला मौसम का मिजाज, कई जिलों में गिरे ओले

भोपाल में बारिश से बदला मौसम का मिजाज, कई जिलों में गिरे ओले

भोपाल 8 फरवरी 2019 । मध्य प्रदेश में पिछले तीन दिनों से लगातार बढ़ रहे तापमान में उस समय ब्रेक लग गया, जब बुधवार को देर रात मौसम ने अचानक करवट बदल ली। भोपाल समेत प्रदेश के कई जिलों में गरज के साथ हुई बारिश ने मौसम में एक बार फिर ठंडक घोल दी है। बुधवार की रात भोपाल के कई इलाकों में बारिश होने से मौसम बदल गया। देर रात तक रूक रूक कर हुई बारिश ने मौसम में ठंडक घोल दी। वहीं ग्वालियर में भी दिन भर खिली धूप के बाद बुधवार देर शाम को अचानक आसमान पर बादल छा गए। रिमझिम बारिश से हुई शुरूआत ने थोड़ी ही देर में रफ्तार पकड़ ली। इस बीच बारिश के साथ ओले गिरने लगे।

ग्रामीण क्षेत्र के बिलौआ सहित 20 गांवों में वहीं सतना के 4 गांवों मेंं ओले गिरे है। गुना, भिंड में बारिश होने से हवा में ठंडक घुल गई। मौसम वैज्ञानिकों की माने तो राजस्थान के आसपास हवा का चक्रवाती घेरा बना हुआ है। अरब सागर से नमी आ रही है, जिसके कारण मौसम बदल गया है। मौसम वैज्ञानिकों के मुताबिक गुरुवार को भी भोपाल, ग्वालियर, चंबल, सागर संभाग, होशंगाबाद, बैतूल, रतलाम, मंदसौर, नीमच जिले में कहीं-कहीं गरज-चमक के साथ हल्की बौछारें पडऩे की संभावना है।

तेज बारिश के साथ पश्चिमी यूपी में बिछी बर्फ की चादर, आंधी-तूफान से गिरे पेड़

पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कई जिलों में गुरुवार शाम को तेज आंधी के साथ हुई झमाझम बारिश में जमकर ओले पड़े। ओलावृष्टि से शहर की सड़कें बर्फ की चादर बन गईं। कुछ देर के लिए सड़कों पर केवल ओले ही नजर आए। ओलावृष्टि के बाद अचानक ठंड बढ़ गई है। सुबह से ही आकाश में बादल छाए रहे और कई बार बारिश हुई।

वहीं मुजफ्फरनगर में गुरुवार को सुबह से ही आकाश में काले बादल छाए रहे और बारिश शुरू हो गई। दोपहर में मौसम थोड़ा सा खुला, लेकिन ठंडी हवाओं का चलना जारी रहा। शाम तक आकाश में घने काले बादल फिर से छा गए और देर शाम साढ़े सात बजे से तेज आंधी के साथ बारिश शुरू हो गई। कुछ ही देर बाद ओलावृष्टि शुरू हो गई। मोटे-मोटे ओले पड़े। लगातार दस मिनट तक ओले पड़ते रहे। ओलावृष्टि जब रुकी तो सड़कें सफेद बर्फ बन चुकी थीं। ओलावृष्टि को यहां गेहूं और अन्य फसलों के लिए नुकसानदायक बताया जा रहा है।

शहर की विद्युत व्यवस्था ठप

शाम के समय तेज आंधी के आते ही शहर की बिजली गुल हो गई। तेज आंधी में कई स्थानों पर पेड़ टूटकर तारों पर गिर गए। देर रात तक विभाग बिजली को सुचारू करने में लगा था। बिजली नहीं आने से सड़कों और गलियों में अंधेरे की स्थिति बनी रही। पानी की आपूर्ति भी प्रभावित हुई। अधीक्षण अभियंता एके आत्रेय ने बताया कि विभाग का यह प्रयास है कि रात्रि में ही बिजली को सुचारू किया जाए।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

Ram Mandir निर्माण के लिए Rajasthan के लोगों ने दिया सबसे ज्यादा चंदा

जयपुर: विश्व हिंदू परिषद (VHP) के केंद्रीय उपाध्यक्ष और श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास के …