मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> राजस्थान में हो सकता है सत्ता परिवर्तन

राजस्थान में हो सकता है सत्ता परिवर्तन

नई दिल्ली 3 नवम्बर 2018 । राजस्थान में एक बार फिर सत्ता परिवर्तन हो सकता है। एक निजी चैनल टाइम्स नाउ और सीएनएक्स के प्री-पोल के सर्वे के मुताबिक, राज्य में कांग्रेस वापसी कर सकती है। राजस्थान में कुल 200 विधानसभा सीट हैं। सर्वे में 67 विधानसभाओं से 120 सैंपल लिए गए हैं, जिनमें कुल 8040 व्यक्तियों ने भाग लिया, जिसमें 4250 पुरुष और 3790 महिलाओं को इसमें शामिल किया गया। सर्वे में कांग्रेस के लिए अच्छी खबर है। सर्वे के अनुमान के मुताबिक, कांग्रेस को राज्य में 110-120 सीटें मिल सकती हैं। वहीं सत्ताधारी बीजेपी के लिए राजस्थान में सत्ता बरकरार रखना मुश्किल नजर आ रहा है। बीजेपी को सर्वे के मुताबिक 70-80 सीटें मिलने का अनुमान है। बीएसपी को 1 से 3 और अन्य को 7 से 9 सीटों पर जीत मिल सकती है।

देशभर के लोगों के दिमाग में चल रहे सवाल पर सर्वे में शामिल राजस्थान के 69% लोगों ने कहा कि वे मोदी को फिर से प्रधानमंत्री बनते देखना चाहते हैं। वहीं 23% लोगों का कहना है कि देश के अगले पीएम राहुल गांधी बनने चाहिए। 2%लोग ऐसे भी थे, जिन्होंने दोनों को समान बताया है। 3% लोगों को इनमें से कोई भी पसंद नहीं और 3%ने इस पर कोई राय नहीं दी। सर्वे में केंद्र और राज्य सरकार के काम सवाल पर 63% लोगों ने कहा कि केंद्र सरकार ने अच्छा काम किया है। वहीं वसुंधरा सरकार के कामकाज को 25% लोगों ने अच्छा बताया। 12% लोगों ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। 53.4 % लोग केंद्र सरकार से बेहद खुश हैं।

सर्वे में लोगों से जब अपने क्षेत्र के विधायकों द्वारा किए गए कार्यों पर प्रतिक्रिया मांगी गई तो 40.7% लोगों ने कहा कि वह संतुष्ट हैं। वहीं 43.27 % लोग इससे असंतुष्ट नजर आए, जबकि 16.03 प्रतिशत लोगों ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। सर्वे में जब लोगों से आने वाले चुनाव चुनाव के सबसे बड़े मुद्दों के बारे में पूछा गया तो 27% लोगों ने कहा कि विकास सबसे बड़ा मुद्दा होगा। 35% लोगों ने बेरोजगारी को सबसे बड़ा मुद्दा बताया। 15% लोगों ने महंगाई को सबसे बड़ा मुद्दा माना। वहीं 10% लोगों ने मॉब लिंचिंग को बड़ा मुद्दा बताया। 10% ने राफेल को राजस्थान चुनाव में सबसे बड़ा मुद्दा बताया। 6% लोगों का मानना है कि एससी/एसटी एक्ट को सबसे बड़ा मुद्दा बताया।

मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया के कामकाज को 48% लोगों ने खराब बताया। 35% लोगों ने इसे अच्छा कहा। 12% ने सामान्य और 5 प्रतिशत लोगों ने इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। सर्वे में जब वोटरों वर्तमान मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया औ पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के कामकाज पर सवाल किया गया तो 31% लोगों ने कहा कि गहलोत ने अच्छा काम किया। 25% लोगों ने कहा कि वसुंधरा ने अच्छा काम किया। 10% लोगों को दोनों का काम पसंद आया। 14% लोगों ने दोनों को नकार दिया। 20% लोगों ने इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी।

अंबानी की कंपनी ने दसॉ के पैसे से खरीदी जमीन-राहुल गांधी

अंबानी की कंपनी ने दसॉ के पैसे से खरीदी जमीन-राहुल गांधी
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार सुबह राफेल मुद्दे पर प्रेस कॉन्फ्रेंस की. राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि आखिरकार अनिल अंबानी की कंपनी को ही इसका ठेका क्यों दिया गया. जब अनिल अंबानी की कंपनी घाटे में चल रही थी तो उसे दसॉ ने 284 करोड़ रुपये क्यों दिए.राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि अनिल अंबानी की कंपनी के पास तो जमीन भी नहीं थी, जो पैसा दसॉ ने दिया उसी पैसे से उन्होंने जमीन खरीदी. अंबानी की कंपनी को जानबूझकर फायदा पहुंचाया गया.

राहुल गांधी ने कहा कि राफेल डील की वजह से ही सीबीआई के चीफ को हटाया गया. क्योंकि नरेंद्र मोदी और अनिल अंबानी के बीच में पार्टनरशिप थी, हमारा काम पूरे देश को सच बताना है.इस पूरी डील में सिर्फ दो ही व्यक्तियों को फायदा पहुंचाया है, वो दो व्यक्ति हैं नरेंद्र मोदी और अनिल अंबानी. कांग्रेस अध्यक्ष बोले कि पहले दसॉ ने कहा था कि क्योंकि अनिल अंबानी की कंपनी के पास जमीन थी, इसलिए उनके साथ सौदा किया गया.

लेकिन अब सच सामने आया है कि जमीन तो दसॉ के पैसे से खरीदी गई थी, यानी जमीन तो दसॉ ने खरीदी थी. ये लोग जनता के पैैसे से राफेल विमान खरीद रहे हैं, लेकिन जनता को ही दाम नहीं बता रहे हैं. कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि नुकसान में चल रही 8 लाख रुपये की कंपनी में 284 करोड़ रुपये दसॉ ने क्यों डाले?कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि जो भी फैसला हुआ है वो तो सिर्फ ‘बॉस’ ने ही किया है. भ्रष्टाचार की पूरी किश्त अनिल अंबानी के खाते में गई है. जो राफेल में किया गया है, वह पूरी तरह से गलत है.

उन्होंने कहा कि अब तो सुप्रीम कोर्ट ने भी राफेल डील के दाम की जानकारी मांगी है, लेकिन सरकार ने कहा है कि वह ये जानकारी नहीं दे सकते हैं. फ्रांस के राष्ट्रपति ने मुझे बताया कि सीक्रेट प्रैक्ट में दाम छुपाने की बात है ही नहीं और ये हो ही नहीं सकता है. उन्होंने कहा कि फ्रांस को भी पता है कि इस डील में भ्रष्टाचार हुआ है.

राहुल गांधी ने कहा कि इस डील में मनोहर पर्रिकर की कोई गलती नहीं है, उन्होंने कहा कि पर्रिकर ने भी देश को बताया दिया कि फैसला मेरा नहीं बॉस का है. कोई भी डिफेंस डील करने से पहले कैबिनेट डील की जरूरत होती है, लेकिन ये बैठक डील होने के बाद हुई है.

राहुल बोले कि हम चाहते हैं कि इस मामले में जेपीसी का गठन हो. उन्होंने सीबीआई चीफ को भी हटा दिया, प्रधानमंत्री रात को सो नहीं पा रहे हैं. प्रधानमंत्री जांच से डर रहे हैं, यही कारण है कि उन्होंने सीबीआई चीफ को हटा दिया.

उज्जैन:ये लो…. अब गुड्डू के लिए कांग्रेस की पूर्व विधायक ने यह क्या बोल दिया
कांग्रेस की लिस्ट आने से पहले पार्टी के नेताओं की एकजुटता और गुटबाजी की पोल खुलती जा रही है। प्रदेश कांग्रेस के बड़े नेताओं में शुमार होने वाले पूर्व सांसद प्रेमचंद गुड्डू ने तीन दशकों की पार्टी की वफादारी को तिलांजलि देकर शुक्रवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सदस्यता ग्रहण कर ली। बीजेपी में शामिल होने के बाद गुड्डू की धुर विरोधी कांग्रेस की पूर्व विधायक डॉ कल्पना परूलेकर ने उनपर जमकर निशाना साधा।

परूलेकर ने गुड्डू के बहाने पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह पर निशाना साधते हुए कहा कि गुड्डू के आका भी पार्टी छोड़कर चले जाएं तो कांग्रेस को कोई झटका नहीं लगेगा। उन्होंने कहा कि सत्या की हमेशा जीत होती है। ऐसे ही लोगों ने कांग्रेस का सत्यानाश किया है। मैं राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी और प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ जी को बहुत बहुत बधाई देती हूं, जो अपने सिद्धांत से नहीं हटे और इसी कारण ऐसे माफिया लोग कांग्रेस से बाहर हो गए।

यह कांग्रेस के लिए शुभ संकेत है। यह आरोप कल्पना परूलेकर लगा रही है। क्योकि अभी तो गुड्डू अलग हुए हैं अगर गुड्डू पर जिन बड़े नेताओं का हाथ है वह भी कांग्रेस से चले जाएं तो भी पार्टी का कुछ नहीं होगा। आज का दिन बहुत शुभ है कांग्रेस से ऐसे माफियाओं को बाहर करने की शुरूआत हो गई है।

गौरतलब है कि महिदपुर में 2008 में कांग्रेस प्रत्याशी डॉ कल्पना परूलेकर के तेवर बगावती और भीतरघाती हो गए थे, लेकिन कांग्रेस प्रत्याशी को कोई नुकसान नहीं कर पाए। 2013 में महिदपुर में कांग्रेस प्रत्याशी डाॅ. कल्पना परूलेकर को बगावत के चलते ही हार का मुंह देखना पड़ा। बगावती दिनेश जैन बोस मतगणना ने दूसरा स्थान पाया और कांग्रेस प्रत्याशी डाॅ. परूलेकर तीसरे स्थान पर रही।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

भारत में कोरोना का सबसे बड़ा अटैक, एक दिन में पहली बार 2 लाख 34 हजार नए केस

नई दिल्ली 17 अप्रैल 2021 । कोरोना की दूसरी लहर हर दिन नए रिकॉर्ड बना …