मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> मानवेंद्र, करुणा और अरुण के लिए राज्यसभा!

मानवेंद्र, करुणा और अरुण के लिए राज्यसभा!

नई दिल्ली 1 दिसंबर 2018 । राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में कांग्रेस पार्टी ने जिन नेताओं को तीनों मुख्यमंत्रियों के खिलाफ चुनाव में उतारा है वे कांग्रेस का मास्टर स्ट्रोक हैं या बलि के बकरे हैं? कांग्रेस ने राजस्थान के झालपरापाटन में मानवेंद्र सिंह को वसुधंरा राजे के खिलाफ लड़ाया है तो मध्य प्रदेश में पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव को बुधनी में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के खिलाफ उतारा है। छत्तीसगढ़ में अटल बिहारी वाजपेया की भतीजी करुणा शुक्ला को कांग्रेस ने राजनांदगांव सीट पर मुख्यमंत्री रमन सिंह के खिलाफ खड़ा किया है।

आमतौर पर इन तीनों राज्यों में माना जा रहा है कि मुख्यमंत्रियों को हराना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन है। ऐसी कोई लहर नहीं चल रही है कि ये तीनों मुख्यमंत्री हार जाएं। तभी सवाल है कि चुनाव के बाद इन तीनों नेताओं का क्या होगा? कहा जा रहा है कि कांग्रेस ने तीनों को राज्यसभा में भेजने का वादा किया है। हालांकि यह इस पर निर्भर करेगा कि इन तीनों राज्यों में कांग्रेस को कितनी सीटें मिलती हैं। पर जानकार सूत्रों का कहना है कि राज्यों में कांग्रेस की सरकार बने या न बने पर इन तीनों को पहला मौका मिलते ही राज्यसभा में भेजा जाएगा।

कांग्रेस की सरकार बनेगी, आरिफ अकील मंत्री बनेंगे: बाबूलाल गौर

कांग्रेस ने अपनी जीत का दावा कर दिया है। भाजपा के ज्यादातर नेता शांत है। अबकी बार 200 के पार का का टारगेट, बस नारा ही रह गया। इस बीच केवल पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर थे जिन्होंने मतदान के बाद कहा था कि मध्यप्रदेश में भाजपा फिर से सरकार बनाएगी, लेकिन उन्होंने ही यूटर्न ले लिया।
दरअसल वोट पड़ने के एक दिन बाद कांग्रेस विधायक और प्रत्याशी आरिफ अकील, बाबूलाल गौर से मिलने के लिए जा पहुंचे। यहां पर गौर ने अकील को बधाई दी। इसके साथ ही उन्होंने आरिफ अकील से कहा, कांग्रेस की सरकार आ रही है और आप मंत्री बन रहे हैं। इस दौरान दोनों के बीच काफी देर तक चर्चा होती रही। यही नहीं बाबूलाल गौर ने तो यहां तक दावा कर दिया कि कांग्रेस ने बहू को टिकिट दिलाने में मेरी मदद की है। बाद में आरिफ अकील से जब इस मुलाकात के बारे में पूछा गया तो उन्होंने एक मंजे हुए नेता की तरह ही जवाब दिया। उन्होंने कहा, मैं गौर साहब से आशीर्वाद लेने आया था लेकिन इस मुलाकात का वीडियो वायरल हो गया है।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

फ्रांस से भारत आएंगे 4 और राफेल लड़ाकू विमान, 101 स्क्वाड्रन को फिर से जिंदा करने के लिए IAF तैयार

नई दिल्ली 15 मई 2021 । राफेल लड़ाकू विमान का एक और जत्था 19-20 मई …