मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> रिजर्व बैंक ने रेपो रेट में किया 0.50% का इजाफा, महंगा होगा कर्ज और बढ़ेगी आपकी ईएमआई

रिजर्व बैंक ने रेपो रेट में किया 0.50% का इजाफा, महंगा होगा कर्ज और बढ़ेगी आपकी ईएमआई

नयी दिल्ली 8 जून 2022 । आरबीआई ने बढ़ती महंगाई को काबू में लाने के लिये बुधवार को प्रमुख नीतिगत दर रेपो को 0.5 प्रतिशत बढ़ाकर 4.9 प्रतिशत कर दिया। इससे पहले, चार मई को आरबीआई ने अचानक से रेपो दर में 0.4 प्रतिशत की वृद्धि की थी। आरबीआई के इस कदम से कर्ज महंगा होगा और कर्ज की मासिक किस्त यानी ईएमआई बढ़ेगी। आरबीआई के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि रिजर्व बैंक ने चालू वित्त वर्ष के लिए मुद्रास्फीति के अनुमान को बढ़ाकर 6.7 प्रतिशत किया। पहले मुद्रास्फीति 5.7 प्रतिशत के स्तर पर रहने का अनुमान लगाया गया था। आरबीआई ने चालू वित्त वर्ष 2022-23 में आर्थिक वृद्धि दर के अनुमान को 7.2 प्रतिशत पर बरकरार रखा है।

आम सहमति से नीतिगत दर में बढ़ोतरी का फैसला

दास ने मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) के निर्णय की जानकारी देते हुए कहा कि एमपीसी ने आम सहमति से नीतिगत दर में 0.5 प्रतिशत की वृद्धि का फैसला किया है। उन्होंने कहा कि महंगाई दर चालू वित्त वर्ष की पहली तीन तिमाहियों में छह प्रतिशत से ऊपर बने रहने की आशंका है।

खुदरा महंगाई दर को ध्यान में रखकर हुआ फैसला आरबीआई मौद्रिक नीति पर विचार करते समय मुख्य रूप से खुदरा महंगाई दर को ध्यान में रखता है। खुदरा मुद्रास्फीति अप्रैल में आठ साल के उच्च स्तर 7.79 प्रतिशत रही। यह केंद्रीय बैंक के संतोषजनक स्तर से कहीं अधिक है। आरबीआई को खुदरा महंगाई दो से छह प्रतिशत के दायरे में रखने की जिम्मेदारी मिली हुई है।आरबीआई ने चालू वित्त वर्ष 2022-23 में आर्थिक वृद्धि दर के अनुमान को 7.2 प्रतिशत पर बरकरार रखा है।

बता दें नीतिगत दरों के बारे में फैसला करने वाली भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की तीन दिन की बैठक सोमवार को शुरू हुई थी। माना जा रहा था कि केंद्रीय बैंक बढ़ती मुद्रास्फीति पर अंकुश के लिए कुछ सख्त नीतिगत कदम उठा सकता है और ऐसा ही हुआ। महंगाई दर 6 प्रतिशत से ऊपर बने रहने की आशंका

आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने समिति की बैठक में लिए गए निर्णय की जानकारी देते हुए कहा कि हम मुद्रास्फीति को अपने लक्ष्य के दायरे में लाने के लिए कदम उठा रहे हैं, महंगाई दर चालू वित्त वर्ष की पहली तीन तिमाहियों में 6 प्रतिशत से ऊपर बने रहने की आशंका है। यूक्रेन में युद्ध से दुनिया भर में मुद्रास्फीति बढ़ी है। इसके बावजूद भारतीय अर्थव्यवस्था मजबूत बनी हुई है, रिजर्व बैंक वृद्धि को समर्थन करता रहेगा ।

मौद्रिक नीति की घोषणा से पहले ही वसूली

रिजर्व बैंक महंगाई को काबू करने के लिए ब्याज दरों को बढ़ाते रहा है, लेकिन इससे शॉर्ट टर्म में महंगाई बढ़ जा रही है। आरबीआई ने रेपो रेट बढ़ा दिया है यानी रिजर्व बैंक जिस रेट पर बैंकों को लोन देता है, उसका रेट बढ़ाया है। बैंक को ज़्यादा ब्याज देना होगा तो वो आप से भी लोन पर ज़्यादा ब्याज वसूलेंगे। मौद्रिक नीति की घोषणा से पहले ही वसूली भी शुरू हो गई है। नतीजे आने से पहले प्राइवेट सेक्टर के HDFC बैंक ने लोन पर फिर झटका दिया है। बैंक ने मंगलवार को लोन दरों में 0.35 प्रतिशत की वृद्धि की है। बैंक द्वारा दो माह में यह ब्याज दरों में दूसरी बढ़ोतरी है। दो बार में एचडीएफसी बैंक ने लोन पर ब्याज दरों में 0.60 प्रतिशत की वृद्धि की है। धीरे-धीरे ऑटो लोन, पर्सनल लोन महंगे होंगे। वो वाले पर्सनल लोन भी, जो आपको मोबाइल ऐप पर भी मिल जाते हैं। ऐसे आप नया सामान खरीदने से बचेंगे क्योंकि महंगा पड़ेगा, खर्चों में कटौती करेंगे वहीं, कंपनियां भी लोन लेकर नए प्रोजेक्ट लगाने से बचेंगीं। फिलहाल रिज़र्व बैंक को कुल मिलाकर उम्मीद यही है कि पैसे खिंचने से बाजार ठंडा होगा, मांग घटेगी और महंगाई कम होगी।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

अमित शाह के बयान पर नीतीश कुमार का तंज, बोले- इतिहास कोई कैसे बदल सकता है

नयी दिल्ली 14 जून 2022 । बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपनी सहयोगी पार्टी बीजेपी …