मुख्य पृष्ठ >> अंतर्राष्ट्रीय >> रूस ने दिया पाकिस्तान को झटका, कहा दायरे में रहे पाकिस्तान

रूस ने दिया पाकिस्तान को झटका, कहा दायरे में रहे पाकिस्तान

नई दिल्ली 11 अगस्त 2019 । जम्मू-कश्मीर पर भारत के फैसले का समर्थन करते हुए रूस ने कहा कि पाकिस्तान अपने दायरे में रहें। क्योंकि भारत ने जो फैसला किया है वह संविधान के अनुसार लिया है। रूस ने कहा कि मुझे उम्मीद है कि जम्मू-कश्मीर राज्य पर दिल्ली द्वारा लिए गए फैसले पर भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव में वृद्धि नहीं होने देंगे। इसके साथ ही रूस ने भारत और पाकिस्तान से शांति बनाए रखने का भी आग्रह किया है।

रूस के विदेश मंत्री सगेर्ई लावरोव ने कहा कि मॉस्को उम्मीद करता है कि ‘भारत और पाकिस्तान नई दिल्ली द्वारा जम्मू एवं कश्मीर के दर्जे में किए गए बदलाव के कारण क्षेत्र में स्थिति को जटिल नहीं होने देंगे।’

रूस ने कहा कि ‘जम्मू एवं कश्मीर के दर्जे में बदलाव और उसका दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजन भारतीय गणतंत्र के संविधान के ढांचे के तहत किया गया है।’

विदेश मंत्री ने कहा, “हम उम्मीद करते हैं कि दोनों देशों के बीच जो भी मतभेद हैं वे 1972 के शिमला समझौते और 1999 के लाहौर घोषणापत्र के प्रावधानों के अनुरूप राजनीतिक और कूटनीतिक तरीके से द्विपक्षीय आधार पर सुलझाए जाएंगे।”

पाकिस्तान को ट्रम्प की चेतावनी हम भारत के साथ

जम्मू-कश्मीर से धारा 370 (Article-370) हटाए जाने का फैसला भारत ने क्या लिया पाकिस्तान पूरी तरह से पागल हो गया। इस बात से पूरी तरह से बौखलाया पाकिस्तान भारत के खिलाफ एक के बाद एक ऐसे फैसले ले रहा है जिससे भारत को तो कोई नुकसान नहीं है, जबकि इसका नुकसान खुद पाकिस्तान को ही उठाना पड़ेगा। भारत के इस ऐतिहासिक फैसले के बाद जहां पाकिस्तानी सेना भड़काऊ बयान जारी कर युद्ध की गीदड़ भभकी दे रही थी। वहीं उसके विदेश मंत्री डरे-सहमे नज़र आ रहे थे और इस मसले को कूटनीतिक तरीके से हल करने की बात कह रहे थे। इसके बाद पाकिस्तान ने समझौता एक्सप्रेस को भी अटारी बॉर्डर पर रोक दिया था।

पाकिस्तान की बौखलाहट इस बात से साफ जाहिर होती है कि समझौता एक्सप्रेस को रोके जाने के बाद अब उसने कराची से जोधपुर (Karachi-Jodhpur) के बीच चलने वाली थार एक्‍सप्रेस (Thar Express) पर भी रोक लगा दी है। इतना ही नहीं पाकिस्तान ने अपने देश में भारतीय फिल्मों पर भी बैन लगा दिया है और भारत के साथ व्यापारिक संबंधो को भी ख़त्म करने का फैसला लेने पर विचार कर रहा है। धारा 370 के मुद्दे को लेकर पाकिस्तान ने UN की शरण लेने की बात कह रहा था। लेकिन अब अमेरिका (US) ने पाकिस्तान को यह स्पष्ट कह दिया है कि वह इस मुद्दे पर भारत के साथ है और पाकिस्तान खुद पर नियंत्रण रखे। अमरीका ने पाकिस्तान को यह साफ़ कर दिया है कि वह खुद पर कंट्रोल रखे और ऐसी किसी भी हरकत को अंजाम न दे जिससे इलाके की शांति भंग हो।

अमरीका के विदेश मंत्रालय की प्रवक्‍ता मॉर्गन ऑर्टेगस ने दोनों देशों से शान्ति बनाए रखने की अपील करते हुए कहा कि, ट्रंप प्रशासन ने कश्‍मीर नीति में कोई बदलाव नहीं किया है। उन्होंने कहा कि मौजूदा हालत में दोनों ही देशों को शांति बनाए रखने और संयम बरतने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि इस मसले पर दोनों देशों को शांति और बातचीत से रास्ता निकालना चाहिए।

UNSC ने नहीं दिया ‘भाव’, अमेरिका बोला, ‘कश्‍मीर पर हमारी नीति में बदलाव नहीं’

जम्‍मू और कश्‍मीर से भारत सरकार द्वारा अनुच्‍छेद 370 हटाने के बाद पाकिस्‍तान बौखलाया हुआ है. पाकिस्‍तान ने इस मसले पर संयुक्‍त राष्‍ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) को एक पत्र लिखा है. लेकिन पाकिस्‍तान को इस मामले में यूएनएससी से झटका मिला है. यूएनएससी ने पाकिस्‍तान के इस पत्र पर अब तक कोई कमेंट नहीं किया है. संयुक्‍त राष्‍ट्र सुरक्षा परिषद की अध्‍यक्ष जोआना रोनेका ने भारत के इस ऐतिहासिक फैसले को यूएनएससी के प्रस्ताव का उल्लंघन बताने संबंधी पाकिस्‍तान के दावे पर कमेंट करने से इनकार किया है.

इसके साथ ही अमेरिका से भी पाकिस्‍तान को झटका लगा है. अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने साफतौर पर कहा है कि कश्‍मीर पर अमेरिका की नीति में कोई बदलाव नहीं होगा. अमेरिकी विदेश मंत्रालय की प्रवक्‍ता मॉर्गन ओर्टागस ने मीडिया के सवालों को जवाब देते हुए साफ किया कि कश्‍मीर में अमेरिकी नीति में कोई बदलाव नहीं होगा.

उन्‍होंने कहा कि हमारे भारत और पाकिस्‍तान के बीच कई सारे मामले हैं. उन्‍होंने यह भी कहा कि हाल ही में पाकिस्‍तानी प्रधानमंत्री इमरान खान अमेरिका आए. लेकिन व‍ह कश्‍मीर के लिए नहीं आए थे. कश्‍मीर एक ऐसा मुद्दा है जिसे हम काफी नजदीक से देख रहे हैं. लेकिन इसके अलावा भी कई सारे ऐसे मुद्दे हैं, जिनपर हम भारत और पाकिस्‍तान के साथ काफी नजदीक से काम कर रहे हैं.

अमेरिकी विदेश मंत्रालय की प्रवक्‍ता मॉर्गन ओर्टागस ने कहा कि आने वाले कुछ दिनों में अमेरिकी विदेश मंत्रालय के डिप्‍टी सेक्रेटरी भूटान और भारत का दौरा करेंगे. वह इस दौरान दोनों देशों के साथ अमेरिका के संबंधों और बेहतर बनाने पर बातचीत करेंगे. बता दें कि जम्‍मू-कश्‍मीर से भारत द्वारा अनुच्‍छेद 370 हटाए जाने के बाद पाकिस्‍तान बौखलाया हुआ है और इस मामले को अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर ले जाने की फिराक में है. भारत इस रुख पर कायम है कि कश्मीर उसका आतंरिक मसला है.

इसी के तहत पाकिस्‍तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी  चीन का दौरा करने वाले हैं. वह इस दौरान चीनी नेताओं से मिलेंगे और कश्‍मीर पर भारत के फैसले पर चर्चा करेंगे. कहा जा रहा है कि वह कश्‍मीर मुद्दे पर चीन से मदद मांगने वहां जा रहे हैं.

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

प्रियंका गांधी का 50 नेताओं को फोन-‘चुनाव की तैयारी करें, आपका टिकट कन्फर्म है’!

नई दिल्ली 21 जून 2021 । उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव …