मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> उज्जैन में खुलेगा IIT इंदौर का सैटेलाइट कैंपस, 100 एकड़ में होगा विस्तार; मिलेगी इंटरनेशनल लेवल रिसर्च की सुविधा

उज्जैन में खुलेगा IIT इंदौर का सैटेलाइट कैंपस, 100 एकड़ में होगा विस्तार; मिलेगी इंटरनेशनल लेवल रिसर्च की सुविधा

उज्जैन 29 दिसंबर 2021 । उज्जैन में आईआईटी इंदौर का सैटेलाइट कैंपस खोला जाएगा। मध्य प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव ने मंगलवार को इस बात की घोषणा की। उन्होंने कहाकि प्राचीन वैभवशाली ज्ञान परंपरा के अनुरूप मालवा क्षेत्र के उज्जैन को प्रौद्योगिकी और ज्ञान-विज्ञान के एक प्रमुख शिक्षण केंद्र के रूप में स्थापित करने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने कहाकि भारतीय ज्ञान परंपरा पर केंद्रित यह केंद्र राष्ट्रीय शिक्षा नीति में देश का मॉडल बनेगा। इसमें कृषि, ज्ञान परंपरा, हॉलस्टिकि मेडिसिन, प्राचीन ज्ञान को संरक्षित करने जैसे विषयों पर शोध होंगे। सेंटर में डिजिटल ह्यूमैनिटीज, एनवायर्नमेंटल ह्युमैनिटीज, डेवलपमेंट स्टडीज पर नेशनल रिसर्च सेंटर होगा। साथ ही सभी विश्वविद्यालयों और महावद्यिालयों के लिए ह्युमैनिटीज और सोशल साइंस एजुकेशन पर नेशनल लेवल का ट्रेनिंग सेंटर खोला जाएगा। शुरुआती डीपीआर तैयार
मोहन यादव ने कहा कि 100 एकड़ भूमि पर स्थापित यह कैंपस अंतरराष्ट्रीय स्तर के शोध केंद्र और मानकों के अनुरूप उच्च शिक्षा प्रदान करेगा। अपनी तरह का यह देश का पहला शिक्षण संस्थान होगा। रोजगार और स्व-रोजगार के प्रोत्साहन में भी यह कैंपस महत्वपूर्ण भूमिका अदा करेगा। डॉ. यादव ने बताया कि हाल ही केंद्रीय शिक्षा राज्यमंत्री डॉ. सुभाष सरकार से उज्जैन की खगोल विज्ञान, संस्कृति और ज्ञान-विज्ञान की विरासत को दृष्टिगत रखते हुए शिक्षण संस्थान खोले जाने की आवश्यकता पर चर्चा की गई थी। उन्होंने कहाकि आईआईटी इंदौर ने सेटेलाइट कैंपस की स्थापना के लिए प्रारंभिक डीपीआर तैयार की है। उच्च शिक्षा मंत्री ने बताया कि यह कैंपस हर दृष्टि से पूर्ण होगा। साथ ही प्रशासनिक और अकादमिक निर्णय के लिए स्वतंत्र होगा। मिलेंगी अंतर्राष्ट्रीय स्तर की रिसर्च सुविधाएं
कैंपस में छात्रावास और शिक्षकों के लिए आवास भी होंगे। यहां अंतरराष्ट्रीय स्तर की शोध सुविधाएं एवं पाठ्यक्रम संचालित किये जाएंगे। कैंपस में उज्जैन-इंदौर की औद्योगिक इकाइयों के लिए रिसर्च का काम भी किया जायेगा। प्रारंभिक चरण में चार राष्ट्रीय स्तर के शक्षिण केंद्र और इंडस्ट्रियल रिसर्च पार्क खोले जाने का प्रस्ताव भी है। डॉ. यादव ने बताया कि यह रिसर्च पार्क इंदौर-उज्जैन और आसपास के सभी क्षेत्रों की औद्योगिक इकाई को शोध कार्य में मदद करेगा। साथ ही स्टार्ट-अप को प्रोत्साहित करेगा। डॉक्टर यादव के मुताबिक इसे टेक्नोलॉजी इनोवेशन हब के रूप में स्थापित किया जाएगा, जिसमें 100-150 अधिक कंपनियों को जोड़ा जाएगा। अभी आईआईटी चेन्नई और मुंबई में ऐसे ही रिसर्च पार्क कार्य कर रहे हैं। मालवा क्षेत्र में रोजगार और स्व-रोजगार नर्मिाण की दिशा में इंडस्ट्रियल रिसर्च पार्क की अहम भूमिका होगी। स्पोर्ट्स साइंस में स्पोर्ट्स में उपयोग की जाने वाली डिवाइसेज और इक्विपमेंट पर भी यहां रिसर्च करना प्रस्तावित है। जल संसाधन प्रबंधन के लिए महत्वपूर्ण
उच्च शिक्षामंत्री ने बताया कि जल संसाधन प्रबंधन के लिए यह एक महत्वपूर्ण केंद्र होगा। यहां जल के सम्बन्ध में शैक्षणिक गतिविधियों के साथ जल संसाधन पर शोध कार्य किया जाएगा। वाटर मैनेजमेंट पर आधारित पाठ्यक्रम भी संचालित किए जाएंगे। मध्यप्रदेश में वॉटर कंजर्वेशन तकनीक को बढ़ाने और जल से संबंधित शैक्षणिक कार्यक्रमों को तैयार करने में केंद्र मदद करेगा। अपनी तरह का यह देश का पहला केंद्र होगा। डॉ. मोहन यादव ने कहा कि विश्व की श्रेष्ठतम भारतीय काल गणना और कैलेण्डर सिस्टम का केन्द्र स्थान उज्जैन रहा है। काल गणना और खगोलीय विज्ञान में उज्जैन के महत्व को दृष्टिगत रखते हुए यह सेंटर स्थापित किया जा रहा है। यहां स्पेस टेक्नोलॉजी, स्पेस इंजीनियरिंग और एस्ट्रो फिजक्सि के पाठ्यक्रम के साथ रिसर्च और प्रयोगशाला भी स्थापित होगी।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

ज्ञानवापी मस्जिद का सर्वे पूरा, हिंदू पक्ष ने किया दावा-‘बाबा मिल गए’; कल कोर्ट में पेश होगी रिपोर्ट

नयी दिल्ली 16 मई 2022 । ज्ञानवापी मस्जिद का सर्वे पूरा हो गया है। तीसरे …